Friday, April 23, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/cYVUOPti0BQ हिमाचल में अप्रैल माह में बर्फबारी ने पिछले 20 साल का रेकॉर्ड तोड़ाछात्र अभिभावक संघ ने ट्यूशन फीस में हुई 60% वृद्धि को घटाने की रखी मांगछात्र अभिभावक संघ ने ट्यूशन फीस में हुई 60% वृद्धि को घटाने की रखी मांगशिमला के संजोली में बारिश में गिरा 5 मंज़िला भवन,कोई जानी नुक्सान नही,बीते दिन ही खाली करवाया था भवन। https://youtu.be/YtMt-7bwLzQ भाजपा महिला मोर्चा द्वारा शिमला के KNH अस्पताल में रक्तदान शिविर का किया गया आयोजन |https://youtu.be/HPU3rgVIobA अध्यापक संघ बोला प्रदेश में पहली बार हुआ अभिव्यक्ति की आजादी छीनने का प्रयास, सरकार अधिसूचना करें निरस्त नही तो संघ खटखटाएगा कोर्ट का दरवाजा https://youtu.be/N19nHHLdfeY हिमाचल में लॉक डाउन व कर्फ्यू के लिए डीसी को दी शक्तियां,लेकिन लॉक डाउन व कर्फ्यू लगाने से पहले सरकार से लेनी होगी अनुमतिकोरोना महामारी के कारन मंदिरों में लगी बंदिशों से प्रशाद विक्रेताओं का कारोबार हुआ चौपट ;प्रदेश सर्कार से लगायी मदद की गुहार
-
राज्य

अगले वित्त वर्ष में 96,855 क्विंटल गेहूं बीज उत्पादित करने का लक्ष्य

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | February 16, 2021 06:56 PM
 शिमला,
 
 
 
 
कृषि विभाग के निदेशक डाॅ. नरेश कुमार ने आज यहां बताया कि विभाग खाद्यान्नों इत्यादि के बीजों को प्रदेश में ही उत्पादित कर किसानों को वितरित करने की ओर आत्मनिर्भर हो रहा है। विभाग द्वारा गेहूं, मक्की, धान व चना इत्यादि बीजों को प्रदेश से बाहर खरीदकर किसानों को उपलब्ध करवाया जाता रहा है।
 
उन्होंने कहा कि विभाग ने वर्ष 2021-22 से प्रदेश में ही बीज उत्पादन को किसानों की मांग पूरी करने की कार्य योजना बनाई है। वर्ष 2021-22 में गेहूं की 1,08,000 क्विंटल बीज की मांग को ध्यान में रखते हुए 96,855 क्विंटल बीज प्रदेश में उत्पादित करने का लक्ष्य रखा है। इसमें से 95 हजार क्विंटल बीज नौ पंजीकृत कृषक समूहों द्वारा उत्पादित किया जाएगा व विभाग इन कृषक समूहों से खरीदकर प्रदेश के अन्य किसानों से बीज वितरित करेगा।
 
कृषि विभाग इन कृषक समूहों से 26 प्रतिशत अधिक मूल्य पर गेहूं के बीज खरीदेगा जिससे उनकी आय मंे वृद्धि होगी। इसके अलावा 1855 क्विंटल बीज प्रदेश के कृषि फर्मों में पैदा किया जाएगा। वर्ष 2020-21 में केवल 40,650 क्विंटल गेहूं के बीज का उत्पादन प्रदेश में उत्पादित कर किसानों में वितरित किया गया था। विभाग के पांच पंजीकृत कृषि समूहों द्वारा अगले वर्ष तीन हजार क्विंटल बीज की मांग के अनुसार बीज उत्पादित कर किसानों को उपलब्ध करवाया जाएगा।
 
उन्होंने कहा कि जिला चंबा में मक्की की सुधरी हुई दो किस्मों- चिटकिनू व सफेद मक्की के बीजों के उत्पादन के लिए कृषकों को प्रोत्साहित किया जाएगा ताकि इन किस्मों के बीजों को अधिक से अधिक कृषकों तक पहुंचाया जा सके।
 
उन्होंने आशा व्यक्त की कि विभाग किसानों की आर्थिकी बढ़ाने के लिए प्रदेश में ही उच्च गुणवत्ता बीजों की उपलब्धता सुनिश्चित करेगा।
Have something to say? Post your comment
और राज्य खबरें
प्रदेश सचिवालय के बाहर सामान्य वर्ग का महाधरना, किया चक्का जाम कोविड-19 के दृष्टिगत जिला दण्डाधिकारी रोहित जम्वाल ने किए आदेश जारी विधायक जीत राम कटवाल ने किया जिला स्तरीय बैसाखी नलवाड़ मेला झंडूता में बैलों का सांकेतिक पूजन आनी में 79.7 और निरमंड में 77.1 फीसदी रहा मतदान प्रतिशत 65 वर्ष से अधिक आयु की महिलाओं को पेंशन, जय राम सरकार के फैसले की सराहना इलैक्ट्राॅनिक वोटिंग मशीनों की प्रथम स्तरीय जांच पूर्ण नगर निगम निर्वाचन के दृष्टिगत उड़न दस्ते गठित लोगो को मास्क लगाने के लिए प्रेरित करें सामाजिक संस्थाएं व व्यापार मंडलः डीसी कोविड-19 के दृष्टिगत आवश्यक आदेश विद्यार्थी परिषद की दो दिवसीय प्रदेश कार्यकारिणी बैठक पालमपुर में संपन्न, शैक्षणिक क्षेत्र में व्याप्त समस्याओं को लेकर तय की आगामी रणनीति: विशाल वर्मा