Wednesday, February 24, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/XtZXmzukedcनगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआहमीरपुर जिला में हर्षोल्लास से मनाया गया 72वां गणतंत्र दिवस समारोह, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने की जिला स्तरीय समारोह की अध्यक्षता, राष्ट्रध्वज फहराकर मार्चपास्ट की सलामी लीसमीक्षा : वार्ड पंच से लेकर जिला परिषद तक पटक डाले जनता ने , हेकड़ी , घमंड व बड़े नेताओं की धौंस हुईं जमींदोज पंचायत चुनाव : भीतरघात का ऑडियो वायरल, खूब हो रही चर्चाप्रथम चरण में हमीरपुर जिला में दिग्गजों ने किया मतदान, धूमल अनुराग ने समीरपुर , राजेंद्र राणा व अभिषेक राणा ने पटलांदर में किया मतदान
-
राज्य

अगले वित्त वर्ष में 96,855 क्विंटल गेहूं बीज उत्पादित करने का लक्ष्य

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | February 16, 2021 06:56 PM
 शिमला,
 
 
 
 
कृषि विभाग के निदेशक डाॅ. नरेश कुमार ने आज यहां बताया कि विभाग खाद्यान्नों इत्यादि के बीजों को प्रदेश में ही उत्पादित कर किसानों को वितरित करने की ओर आत्मनिर्भर हो रहा है। विभाग द्वारा गेहूं, मक्की, धान व चना इत्यादि बीजों को प्रदेश से बाहर खरीदकर किसानों को उपलब्ध करवाया जाता रहा है।
 
उन्होंने कहा कि विभाग ने वर्ष 2021-22 से प्रदेश में ही बीज उत्पादन को किसानों की मांग पूरी करने की कार्य योजना बनाई है। वर्ष 2021-22 में गेहूं की 1,08,000 क्विंटल बीज की मांग को ध्यान में रखते हुए 96,855 क्विंटल बीज प्रदेश में उत्पादित करने का लक्ष्य रखा है। इसमें से 95 हजार क्विंटल बीज नौ पंजीकृत कृषक समूहों द्वारा उत्पादित किया जाएगा व विभाग इन कृषक समूहों से खरीदकर प्रदेश के अन्य किसानों से बीज वितरित करेगा।
 
कृषि विभाग इन कृषक समूहों से 26 प्रतिशत अधिक मूल्य पर गेहूं के बीज खरीदेगा जिससे उनकी आय मंे वृद्धि होगी। इसके अलावा 1855 क्विंटल बीज प्रदेश के कृषि फर्मों में पैदा किया जाएगा। वर्ष 2020-21 में केवल 40,650 क्विंटल गेहूं के बीज का उत्पादन प्रदेश में उत्पादित कर किसानों में वितरित किया गया था। विभाग के पांच पंजीकृत कृषि समूहों द्वारा अगले वर्ष तीन हजार क्विंटल बीज की मांग के अनुसार बीज उत्पादित कर किसानों को उपलब्ध करवाया जाएगा।
 
उन्होंने कहा कि जिला चंबा में मक्की की सुधरी हुई दो किस्मों- चिटकिनू व सफेद मक्की के बीजों के उत्पादन के लिए कृषकों को प्रोत्साहित किया जाएगा ताकि इन किस्मों के बीजों को अधिक से अधिक कृषकों तक पहुंचाया जा सके।
 
उन्होंने आशा व्यक्त की कि विभाग किसानों की आर्थिकी बढ़ाने के लिए प्रदेश में ही उच्च गुणवत्ता बीजों की उपलब्धता सुनिश्चित करेगा।
 
Have something to say? Post your comment
और राज्य खबरें
तहसीलदार ने किया विस्फोट वाली जगह का दौरा सड़क सुरक्षा को बनाएं आदत: श्रवण मांटा आदित्य नेगी की अध्यक्षता में राष्ट्रीय बांस मिशन के अंतर्गत जिला शिमला के लिए गठित जिला स्तरीय बांस विकास एजेंसी की बैठक का आयोजन किया गया पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधि लोगों को सड़क सुरक्षा नियमों के बारे शिक्षित करे वर्तमान में ऊना विस में हो रहा 1000 करोड़ की परियोजनाओं पर काम: सत्ती एसडीएम माह में कम से कम दो पटवार वृतों का निरीक्षण करें: डीसी ग्रामीण बैंक द्वारा 9वां स्थापना दिवस आयोजित सड़क सुरक्षा जीवन रक्षा में सब बनें भागीदार: वीरेन्द्र कंवर सबस्टेशन चंबा के तहत 16 फरवरी को 11.30 बजे से दोपहर  2 बजे तक बंद रहेगी विद्युत आपूर्ति विभिन्न क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति रहेगी बाधित