Monday, April 19, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/OQPehgHx4H8 शहरी विकास मंत्री ने किया कोविड डेडिकेटेड हॉस्पिटल डीडीयू का दौरा, बोले टेस्टिंग के बाद जल्द शुरू होगा ऑक्सीजन प्लांट,मुख्य सचिव ने सूखे जैसी स्थिति से निपटने के लिए कृषि व बागवानी विभागों को कार्य योजना तैयार करने के निर्देश दिएहिमाचल में फ़र्ज़ी गाड़ियों के पंजीकरण को लेकर सीबीआई करे जाँच, मुख्यमंत्री कांग्रेस के नेताओं को धमकाना करें बन्द :अग्निहोत्री।प्रदेश में करोड़ो रूपये की गाड़ियों की रजिस्ट्रेशन मामले पर कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर ने मुख्यमंत्री से मांगा श्वेतपत्र।हिमालयन अपडेट साहित्य सृजन की झारखंड इकाई के सफल नेतृत्व में विराट काव्य आयोजन हर्ष और उल्लास के साथ संपन्न आने वाले समय में नाइट कर्फ्यू और लॉक डाउन की संभावनाएं; मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर https://youtu.be/DuPN5b7gdiQ नीजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ अभिभावक मंच ने जिला प्रशाशन को सौंपा ज्ञापन,कार्यवाही की की मांग https://youtu.be/_2J8oLo8-jo कोरोना महामारी के चलते प्रदेश में सादगी से मनाया गया 73वा हिमाचल दिवस ।
-
धर्म संस्कृति

लोगों की आकांक्षाओं पर खरा उतरें जनप्रतिनिधिः राज्यपाल

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | February 19, 2021 04:59 PM
शिमला,
 
 
राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय किन्नौरी संस्कृति से इतने प्रभावित हुए कि स्थानीय कलाकारों द्वारा प्रस्तुत नृत्य में भाग लेने से अपने आप को नहीं रोक पाए। यह उनका अपना अलग ही अनुभव था, जिसपर उन्होंने कहा, ‘‘यहां आकर लगा कि हिमाचल आना सार्थक हुआ है। यहां की संस्कृति सचमुच बेजोड़ है और लोगों में जो अपनापन है, वह देश के अन्य किसी भी हिस्से में देखने को नहीं मिलता है।’’ 
 
राज्यपाल आज अपने दो दिवसीय प्रवास के दौरान जनजातीय जिला किन्नौर पहुंचे, जहां उनका भव्य स्वागत किया गया। राज्यपाल के तौर पर यह उनका जनजातीय क्षेत्र किन्नौर का पहला दौरा है। इस अवसर पर स्थानीय कलाकारों ने संास्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया।
 
इस अवसर पर, लोगों को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि किन्नौर की अपनी एक अलग पहचान है। यहां की समृद्ध संस्कृति काफी आकर्षक है, जिसका संरक्षण जरूरी है। उन्होंने कहा कि भावी पीढ़ी को अपनी समृद्ध संस्कृति के बारे में बताया जाना चाहिए ताकि वह इसपर गर्व कर सके। उन्होंने कहा कि कोई भी समाज तब तक जीवित रहता है जब तक वह अपनी संस्कृति से जुड़ा रहता है। उन्होंने कहा कि देवभूमि की पहचान यहां के पहाड़, वन व नदियां हैं। संस्कृति के साथ-साथ प्रकृति का संरक्षण और स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि देवभूमि की सार्थकता इसी में है कि हम स्वच्छता को जीवन में अपनाएं।
 
दत्तात्रेय ने नव निर्वाचित जन प्रतिनिधियों को जीत की बधाई देते हुए कहा कि उन्हें विकास का नया दायित्व मिला है। उन्होंने जनप्रतिनिधियों का आह्वान किया कि वे लोगों की जन आकांक्षाओं पर खतरा उतरे और ग्रामीण स्तर पर विकास में अपना महत्वपूर्ण योगदान दें। उन्होंने कहा कि वे खूब मेहनत करें और प्रदेश व देश की राजनीति में भी सबसे आगे रहें। उन्होंने कहा कि विकास में महिलाओं की अहम भूमिका है। इसलिए महिलाओं को नीति निर्धारण व विकास गतिविधियों में आगे आना चाहिए विशेषकर जनजातीय क्षेत्र में उनकी भूमिका व योगदान अहम है।
 
राज्यपाल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ‘वोकल फार लोकल’ का नारा दिया है, जो जनजातीय क्षेत्र किन्नौर के लिए ज्यादा सार्थक है। यहां अधिकांश शिल्पकला, बुनाई व अन्य उत्पाद स्थानीय स्तर पर तैयार किए जाते हैं, जिन्हें अधिक व्यापक स्तर पर विपणन व प्रचार की आवश्यकता है।
 
इस अवसर पर, कार्यवाहक उपायुक्त अशवनी कुमार ने राज्यपाल का स्वागत किया।
 
पंचायती राज संस्थाओं के नव निर्वाचित प्रतिनिधि, जिला प्रशासन के अधिकारी और अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
 
Have something to say? Post your comment
और धर्म संस्कृति खबरें
https://youtu.be/-5T6PJJk18wशिमला के राम मंदिर से निकली भगवान राम की शोभा यात्रा https://youtu.be/wGibqbyPgzo स्वर्ण आयोग के गठन की मांग को लेकर कल सचिवालय के बाहर महाधरना मंजीत शर्मा की अध्यक्षता में जाखू में मंदिर न्यास सदस्य समिति की बैठक का आयोजन किया गया https://youtu.be/qA4yu0-24Yc हिमाचल कला संस्कृति भाषा अकादमी एवं हिमाचल प्रदेश शिक्षक महासंघ द्वारा काव्य सम्मेलन आयोजित https://youtu.be/g3eAQpGciUg शिवरात्रि पर शिवालयों में दिखी भक्तों की लंबी कतारें, शिमला में शिव जी की निकाली गई बारात शिवरात्रि पर शिवालयों में दिखी भक्तों की लंबी कतारें, शिमला में शिव जी की निकाली गई बारात 15 दिनों के स्वर्ग प्रवास के बाद देवालय लौटे देवता, मंदिरों में पूजा अर्चना शुरू चिंतपूर्णी नव वर्ष मेला के दौरान जिला में 31 दिसंबर, 2020 व 1 जनवरी, 2021 को लागू रहेगी धारा 144 -डीसी अकादमी के मंच पर निर्गुण पद, गणगौर एवं निमाड़ी लोकगीतों का गायन देवठन के बाद शिरगुल देवता मंदिर के कपाट पाँच माह के लिए बंद।