Tuesday, May 24, 2022
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय कवि संगम' महिला इकाई देहरादून के तत्वावधान में काव्य गोष्ठी का आयोजननंद लाल शर्मा द्वारा स्कूल भवन- नाथपा का लोकार्पणदैवीय आह्नवान, वैदिक मंत्रोचारण व पावन आरती के साथ बांध स्थल, नाथपा में सम्पन्न सतलुज आराधनासुप्रसिद्ध वरिष्ठ साहित्यकार/कवि सुधीर श्रीवास्तव ने किया देहदान की घोषणाएसजेवीएन ने नेपाल में 490 मेगावाट अरुण-4 की एक और जलविद्युत परियोजना की हासिलएस बी आई प्रबंधक ने 2 लाख का चेक भेंट किया।सुप्रसिद्ध कवित्री,लेखिका,गायिका और समाज सेविका झरना माथुर की राजस्थान के प्रसिद्ध संगीत ग्रुप "रंगरेज" के कलाकार मगधा खानसे मुलाकात।केबिनेट मीटिंग :आयुष विभाग में आयुर्वेदिक चिकित्सा अधिकारियों के 200 पद भरने का निर्णय... पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें
-
दुनिया

मोटापा इतना हानिकारक क्यों है ? .....डॉ विनोद नाथ  

डॉ विनोद नाथ | February 06, 2022 05:21 PM

 

मोटापा एक महामारी का रूप लेता जा रहा है और यह हर आयु वर्ग में पाया जाता है, विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार संयुक्त राज्य अमेरिका में वयस्क मोटापे की व्यापकता 30% से अधिक है। मोटापा की समस्या कम आय वाले देशों में भी मौजूद है, और निम्न सामाजिक आर्थिक वाले लोगों में भी पाया जाता  हैं। अधिकांश देशों में मोटापे की व्यापकता अब 15% से अधिक हो गई है, जो डब्ल्यूएचओ ( WHO) ने पोषण संबंधी महामारियों में मोटापे और उससे जुड़ी समस्याओं के बारे में बहुत विश्लेषण किया है।मोटापा तब होता है जब आपके शरीर का वजन सामान्य से अधिक हो जाता है। मोटापा एक ऐसी बीमारी है जिससे आपके शरीर को काफी नुकसान हो सकता है। मोटापा एक चिकित्सीय स्थिति है जिसमें शरीर में वसा की अधिक मात्रा चिकित्सा समस्याओं की संभावना को बढ़ा देती है।

 मोटापे के कारण:

यह व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है कि मोटापे में वृद्धि ऊर्जा के सेवन और व्यय के बीच असंतुलन के परिणामस्वरूप होती है। हालांकि, इस बात के प्रमाण बढ़ रहे हैं कि मोटापे के जोखिम को निर्धारित करने में किसी व्यक्ति की आनुवंशिक पृष्ठभूमि महत्वपूर्ण है। डेविसन एट अल द्वारा वर्णित पारिस्थितिक मॉडल से पता चलता है कि मोटापे के लिए बच्चे के जोखिम वाले कारकों में आहार सेवन, शारीरिक गतिविधि और गतिहीन व्यवहार शामिल हैं।हाल के वर्षों में फास्ट फूड की खपत को मोटापे से जोड़ा गया है। मोटापे के मामलों में वृद्धि के साथ पारिवारिक कारक भी जुड़े हैं। घर में उपलब्ध भोजन के प्रकार और परिवार के सदस्यों की खाद्य प्राथमिकताएँ बच्चों द्वारा खाए जाने वाले खाद्य पदार्थों को प्रभावित कर सकती हैं। इसके अलावा, परिवार के खाने का समय खपत किए गए भोजन के प्रकार और उसकी मात्रा को प्रभावित कर सकता है। अंत में, पारिवारिक आदतें, चाहे वे गतिहीन हों या शारीरिक रूप से सक्रिय हों, बच्चे को प्रभावित करती हैं। देखा जाए तो बच्चों में भी मोटापे की समस्या दिनों दिन बढ़ती जा रही है पर इस बात के सटीक प्रमाण है कि  मोटापा हर आयु वर्ग को प्रभावित कर रहा है

 मोटापे से जुड़ी समस्याएं:

गंभीर मोटापे से ग्रस्त लोगों को अन्य बीमारियां होने की संभावना अधिक होती है। इनमें टाइप 2 मधुमेह, उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल, हृदय रोग और कई अन्य शामिल हैं।अधिक वजन, विशेष रूप से मोटापा, प्रजनन और श्वसन क्रिया से लेकर स्मृति और मनोदशा तक स्वास्थ्य के लगभग हर पहलू को कमजोर कर देता है।  मोटापा जीवन की गुणवत्ता और लंबाई को कम करता है, और व्यक्तिगत, राष्ट्रीय और वैश्विक स्वास्थ्य देखभाल लागत को बढ़ाता है। हालांकि, अच्छी  वजन घटाने से मोटापे से संबंधित कुछ जोखिम कम हो सकते हैं।

 मोटापा और मानसिक स्वास्थ्य:

इस बात के बहुत वैज्ञानिक साक्ष्य है कि मोटापे की समस्या कम आत्मसम्मान, मनोदशा विकार, खाने की समस्याओं,शरीर की छवि, पारस्परिक संचार समस्याओं के साथ जुड़ी हैं और ये सभी प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित करते हैं। इस प्रकार मोटापे की समस्या मानसिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित करती है और मानसिक बीमारियों के जोखिम को बढ़ा देती है। मानसिक रूप से काम करने की क्षमता कम हो जाती है और साथ ही किसी भी प्रकार के तनाव व विषम परिस्थितियों से निपटने की     ऊर्जा कम रहती है। इन सभी चीजों को देखते हुए मानसिक स्वास्थ्य पर होने वाले विपरीत प्रभावों को हम नकार नहीं सकते हैं। मनोरोगो की बढ़ती समस्या को भी मोटापे के साथ संबंधित किया जा सकता हैI

मोटापे को कैसे रोकें?

एक परिवार के रूप में खाने की आदतों को बदलने से बच्चे जल्दी स्वस्थ खाने का अनुभव कर सकते हैं। इससे उनके लिए खाने की अच्छी आदतों का पालन करना आसान हो जाएगा ।एक स्वस्थ जीवन शैली अपनाना भी जरूरी है। स्वास्थ्य योजनाकारों के लिए एक और समस्या यह है कि मोटापा और इसकी स्वास्थ्य लागत अधिक सामाजिक रूप से वंचित और अल्पसंख्यक जनसंख्या से जुड़ी हैं। संज्ञानात्मक, शिक्षाप्रद हस्तक्षेपों पर आधारित कोई भी उपाय लोगों को लाभान्वित करेगा, इस प्रकार सामाजिक स्वास्थ्य  को बल मिलेगा। भोजन की कीमत, उपलब्धता और पोषण संबंधी विशेषताओं को बदलने के लिए किए गए उपायों का सभी सामाजिक समूहों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। व्यक्तिगत  रूप से देखा जाए तो अच्छी दिनचर्या लगातार व्यायाम खाने-पीने की आदतों को सुचारू रूप से करना बहुत ही अधिक लाभप्रद हो सकता है। योग व शारीरिक व्यायाम से मोटापे के साथ-साथ अन्य बीमारियों से भी निपटने के लिए सब क्षमता मिलती हैI

Have something to say? Post your comment
 
और दुनिया खबरें
दैवीय आह्नवान, वैदिक मंत्रोचारण व पावन आरती के साथ बांध स्थल, नाथपा में सम्पन्न सतलुज आराधना सुप्रसिद्ध वरिष्ठ साहित्यकार/कवि सुधीर श्रीवास्तव ने किया देहदान की घोषणा एसजेवीएन ने नेपाल में 490 मेगावाट अरुण-4 की एक और जलविद्युत परियोजना की हासिल शाबाश: ब्रावो वर्ल्ड रिकॉर्ड Spontaneous poetess का टाइटल मंजूषा राधे ने किया अपने नाम शेयर योर ह्यूमैनिटी अंतरराष्ट्रीय काव्य मंच( कतर) द्वारा अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर कार्यक्रम वर्चुअल माध्यम से संपन्न यूक्रेन में फंसे हिमाचल के 60 बच्चों के परिवार ने सरकार से किया सम्पर्क हरियाणा गौरव सुनील शर्मा देश भक्ति के गीतों के लिए इंडियन रिकॉर्ड बुक द्वारा सम्मानित Breaking News: स्वर कोकिला लता मंगेशकर ने दुनिया को कहा अलविदा एंग्जायटी (Anxiety) - सामान्य लक्षण और इलाज।......डॉ विनोद नाथ कोविड महामारी के दौरान जोखिम में है “मानसिक स्वास्थ्य” !!.....डॉ विनोद नाथ