Saturday, July 04, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग: कलयुगी दादा ने अपनी 9 साल की पोती को बनाया हवस का शिकारशहादत : तिरंगे में लिपटे अमर शहीद अंकुश के पार्थिव शरीर को देख बिलख उठे हमीरपुरवासी, आसमान भी रोया, राजकीय सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई , सीएम कल मिलेंगे परिजनों से तिरंगे में लिपटे अमर शहीद अंकुश का पार्थिव शरीर ले आज 10 बजे लेह से चण्डीगढ़ के लिए उड़ान भरेगा विशेष विमान, क़ड़ोहता के बरसेला नाला में होगी राष्ट्रीय सम्मान के साथ अंतिम विदाईअंकुश की शहादत से हमीरपुर गमगीन, हमीरपुर जिला के कड़ोहता ( भोरंज उपमंडल)का वीर सैनिक अंकुश शहीद हुआ , कड़ोहता में बेसब्री से हो रहा शहीद के पार्थिव देह का इंतज़ार ब्रेकिंग ) हमीरपुर : मानसिक परेशानी से घर से ग़ायब युवक की सातवें दिन जंगलबेरी में मिली डेड बॉडी,ब्रेकिंग : जिला सोलन के अर्की में कोरोना का पहला मामला आने से हड़कंप ब्रेकिंग: कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति गुरुग्राम से सीधे पहुंचा अस्पताल, मेडिकल कॉलेज नेरचौक में मची अफरातफरी अनलॉक एक का मतलब है और अधिक सावधानी, एतिहात
-
राज्य

16 साल पुराने चिटों पर भर्ती मामले में आईएसअधिकारी रहे एसएम कटवाल गिरफ़्तार

September 11, 2018 09:30 PM



हमीरपुर,
करीब 16 साल पहले तत्कालीन अधीनस्थ सेवाएं चयन बोर्ड में हुए भर्ती घोटाले मामले में कोर्ट से सजा के बावजूद भूमिगत रहे पूर्व चेयरमैन एसएम कटवाल की गिरफ्तारी आज मंगलवार को हो गयी है । इन्हें विजिलेंस की टीम ने ऊना में गिरफ़्तार किया । वह ज़िला कोषागार में पेन्शन के ज़रूरी काग़ज़ जमा करवाने ऊना आए थे । गुप्त सूचना पर विजिलेंस की टीम ने उन्हें गिरफ़्तार किया और हमीरपुर कोर्ट में ले आए । अतिरिक्त ज़िला एवं सत्र न्यायधीश अजय मेहता की अदालत में कटवाल को पेश करने के बाद इन्हें एक साल का जेल वारंट बनाकर कंडा जेल भेजने के आदेश दिए गये। फ़िलहाल मंगलवार की रात वह हमीरपुर जेल में काटेंगे । इससे पहले कटवाल कोर्ट से बार बार मोहल्लत मिलने के बाद भी आत्मसमर्पण नहीं कर रहे थे । क़ाबिलेग़ौर है कि दोषी कटवाल सुप्रीम कोर्ट से याचिका ख़ारिज होने के बाद कहां थे किसी भी एजेंसी को पता नहीं लग रहा था । कटवाल क्यों सरेंडर नहीं कर रहे हैं, इस पर भी राज बना हुआ था। उनकी गिरफ़्तारी के बाद अब सारे राज एक एक कर खुलेंगे । हमीरपुर कोर्ट ने बार बार इन्हें सरेंडर करने का समय दिया लेकिन वह जानबूझ कर भूमिगत होकर कोर्ट के आदेशों की अवहेलना करते रहे ।

क्या था मामला
चिटों पर भर्ती का मामला 2001-02 का है। वर्ष 2004 में कांग्रेस सरकार ने सत्ता में आते ही इस मामले की जांच के आदेश दिए थे। सेशन कोर्ट हमीरपुर ने चार लोगों को दोषी करार देते हुए एक-एक साल की सजा उन्हें सुनाई थी। जिसकी आगे अपील की गई, पर बाद में सुप्रीम कोर्ट ने भी निचली अदालत के फैसले को ही बरकरार रखा और अपील को खारिज कर दिया था।

दो आरोपी पहले ही कर चुके सरेंडर
ऊना के मदन गोपाल और चंबा के राकेश को आत्मसमर्पण के बाद पहले ही जेल भेज दिया गया। इसी मामले में बोर्ड के तत्कालीन पूर्व मेंबर विद्यानाथ को भी सरेंडर के बाद जेल भेज दिया गया। सिर्फ कटवाल ही गिरफ्तारी से अबतक बचे हुए थे। कोर्ट से लगातार उन्न्हें वारंट जारी होते रहे लेकिन वह कोर्ट में सरेंडर करने नहीं आ रहे थे । कोर्ट ने इन्हें उन्हें भगौड़ा भी घोषित कर दिया । तीन आरोपियों की तो सजा आधी पूरी होने को है, पर कटवाल का कोई सुराग नहीं लग रहा था ।
विजिलेंस की टीम ने उनके ऊना स्थित घर और दूसरी जगह पर तलाश को लेकर लगातार छापेमारी भी की थी, तब भी कटवाल नहीं मिले थे।

राज्य पाल के पास है दायर मर्सी पेटिसन
एसएम कटवाल के वक़ील नवीन पटियाल ने बताया कि स्वास्थ्य एवं उम्र को देखते हुए सज़ा कम करने के लिए आईएसअअधिकारी रहे एसएम कटवाल की मर्सी पेटिसन राज्यपाल के पास दायर है ।

Have something to say? Post your comment
और राज्य खबरें
लोक व्यवहार राष्ट्र स्तरीय संस्थानों पर लग रहे भ्रष्टाचार के आरोपों पर केंद्र से बात करें मुख्यमंत्री : राणा वंदे भारत मिशन के अंतर्गत 39 देशों/शहरों से अब तक 444 व्यक्तियों को हिमाचल प्रदेश वापिस लाया जा चुका है। जिका के अंतर्गत पौधरोपण व ग्रामीण आजीविका सुधार पर खर्च होंगे 41.78 करोड़ रुपयेः वन मंत्री बिजली उपभोक्ताओं को प्रदान किए जाने वाले उपदान का युक्तिकरण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथों में सुरक्षित है देशः मुख्यमंत्री प्रदेष के लोगों ने पाई पाई जोड़कर राहत कोष में दिया पैसा और नेताओं ने भरी अपनी जेबें कुठियाड़ी का वार्ड नंबर 4 कंटेनमेंट जोन बना, बौट व बाथू हॉटस्पॉट क्षेत्र से बाहर पुलिस थाना बद्दी में विश्राम कक्ष का शुभारम्भ कौशल विकास निगम ऑनलाइन प्रशिक्षण पर कर रहा है विचार: रोहन चंद ठाकुर