Monday, March 30, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
उपायुक्त ने की रेड क्रॉस को दान देने की अपील  विशेष :आपदाएं और हमखबर का असर : हरकत में आया प्रशासन, मौके का बीडीओ नारकंडा ने किया मुआयनाराजधानी के दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में कोरोना वायरस के दो संदिग्ध भर्तीकोरोना वायरस: हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस के दो पॉजीटिव मामले सामने आए , हाई अलर्ट ।पोल खोल :कोरोना से कैसे बचेगा किंगलख़बर का असर : हमीरपुर जिला में सुजानपुर सहित सभी सार्वजनिक उत्सवों, मेलों इत्यादि का आयोजन स्थगित करने के आदेश पारित , डीसी ने दिए कड़े निर्देश एक दूसरे का मुँह ताक रहे विभाग, सुजानपुर में चल रहा अनाधिकृत मेला, दुकानों में गंदगी की भरमार, डबल्यू॰एच॰ओ॰ एवं सरकार की गाइड लाइन की कोई परवाह नहीं।
-
राज्य

16 साल पुराने चिटों पर भर्ती मामले में आईएसअधिकारी रहे एसएम कटवाल गिरफ़्तार

September 11, 2018 09:30 PM



हमीरपुर,
करीब 16 साल पहले तत्कालीन अधीनस्थ सेवाएं चयन बोर्ड में हुए भर्ती घोटाले मामले में कोर्ट से सजा के बावजूद भूमिगत रहे पूर्व चेयरमैन एसएम कटवाल की गिरफ्तारी आज मंगलवार को हो गयी है । इन्हें विजिलेंस की टीम ने ऊना में गिरफ़्तार किया । वह ज़िला कोषागार में पेन्शन के ज़रूरी काग़ज़ जमा करवाने ऊना आए थे । गुप्त सूचना पर विजिलेंस की टीम ने उन्हें गिरफ़्तार किया और हमीरपुर कोर्ट में ले आए । अतिरिक्त ज़िला एवं सत्र न्यायधीश अजय मेहता की अदालत में कटवाल को पेश करने के बाद इन्हें एक साल का जेल वारंट बनाकर कंडा जेल भेजने के आदेश दिए गये। फ़िलहाल मंगलवार की रात वह हमीरपुर जेल में काटेंगे । इससे पहले कटवाल कोर्ट से बार बार मोहल्लत मिलने के बाद भी आत्मसमर्पण नहीं कर रहे थे । क़ाबिलेग़ौर है कि दोषी कटवाल सुप्रीम कोर्ट से याचिका ख़ारिज होने के बाद कहां थे किसी भी एजेंसी को पता नहीं लग रहा था । कटवाल क्यों सरेंडर नहीं कर रहे हैं, इस पर भी राज बना हुआ था। उनकी गिरफ़्तारी के बाद अब सारे राज एक एक कर खुलेंगे । हमीरपुर कोर्ट ने बार बार इन्हें सरेंडर करने का समय दिया लेकिन वह जानबूझ कर भूमिगत होकर कोर्ट के आदेशों की अवहेलना करते रहे ।

क्या था मामला
चिटों पर भर्ती का मामला 2001-02 का है। वर्ष 2004 में कांग्रेस सरकार ने सत्ता में आते ही इस मामले की जांच के आदेश दिए थे। सेशन कोर्ट हमीरपुर ने चार लोगों को दोषी करार देते हुए एक-एक साल की सजा उन्हें सुनाई थी। जिसकी आगे अपील की गई, पर बाद में सुप्रीम कोर्ट ने भी निचली अदालत के फैसले को ही बरकरार रखा और अपील को खारिज कर दिया था।

दो आरोपी पहले ही कर चुके सरेंडर
ऊना के मदन गोपाल और चंबा के राकेश को आत्मसमर्पण के बाद पहले ही जेल भेज दिया गया। इसी मामले में बोर्ड के तत्कालीन पूर्व मेंबर विद्यानाथ को भी सरेंडर के बाद जेल भेज दिया गया। सिर्फ कटवाल ही गिरफ्तारी से अबतक बचे हुए थे। कोर्ट से लगातार उन्न्हें वारंट जारी होते रहे लेकिन वह कोर्ट में सरेंडर करने नहीं आ रहे थे । कोर्ट ने इन्हें उन्हें भगौड़ा भी घोषित कर दिया । तीन आरोपियों की तो सजा आधी पूरी होने को है, पर कटवाल का कोई सुराग नहीं लग रहा था ।
विजिलेंस की टीम ने उनके ऊना स्थित घर और दूसरी जगह पर तलाश को लेकर लगातार छापेमारी भी की थी, तब भी कटवाल नहीं मिले थे।

राज्य पाल के पास है दायर मर्सी पेटिसन
एसएम कटवाल के वक़ील नवीन पटियाल ने बताया कि स्वास्थ्य एवं उम्र को देखते हुए सज़ा कम करने के लिए आईएसअअधिकारी रहे एसएम कटवाल की मर्सी पेटिसन राज्यपाल के पास दायर है ।

Have something to say? Post your comment
 
और राज्य खबरें
कोई एक भी प्रवासी मजदूर भूखा-प्यासा नहीं रहना चाहिए: गोविंद ठाकुर मंडी जिला में कर्फ्यू लागू हिमाचल प्रदेश में कफ्र्यू लागू करने का निर्णय कोरोना वायरस के संबंध ग्रामीणों को करें जागरूक-केसी चमन प्रदेश में देशी व विदेशी नागरिकों की बसों के प्रवेश पर होगा प्रतिबंधः मुख्यमंत्री संजीव कुमार विद्युत विभाग में बने सहायक अभियंता  नालें में गिरने से ब्यक्ति की मौत कराना में दुग्ध उत्पादक सहकारी सभा समिति के वाहन की नीलामी 28 मार्च को 5000 से अधिक लोगों को निशुल्क मास्क उपलब्ध करवा चुका है फिट हिमाचल चैरिटेबल ट्रस्ट...आदित्य ठाकुर तीसा ब्लॉक में मनरेगा के तहत 2 वर्षों में 53 करोड़ की राशि खर्च -विधानसभा उपाध्यक्ष