Tuesday, May 24, 2022
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय कवि संगम' महिला इकाई देहरादून के तत्वावधान में काव्य गोष्ठी का आयोजननंद लाल शर्मा द्वारा स्कूल भवन- नाथपा का लोकार्पणदैवीय आह्नवान, वैदिक मंत्रोचारण व पावन आरती के साथ बांध स्थल, नाथपा में सम्पन्न सतलुज आराधनासुप्रसिद्ध वरिष्ठ साहित्यकार/कवि सुधीर श्रीवास्तव ने किया देहदान की घोषणाएसजेवीएन ने नेपाल में 490 मेगावाट अरुण-4 की एक और जलविद्युत परियोजना की हासिलएस बी आई प्रबंधक ने 2 लाख का चेक भेंट किया।सुप्रसिद्ध कवित्री,लेखिका,गायिका और समाज सेविका झरना माथुर की राजस्थान के प्रसिद्ध संगीत ग्रुप "रंगरेज" के कलाकार मगधा खानसे मुलाकात।केबिनेट मीटिंग :आयुष विभाग में आयुर्वेदिक चिकित्सा अधिकारियों के 200 पद भरने का निर्णय... पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें
-
हेल्थ और लाइफस्टाइल

https://youtu.be/nxtnt0fEIYI Covid-19 काल में घटे टीबी के मरीज , इस साल 250 नए मरीज आये सामने

ब्यूरो हिमालयन अपडेट 7018631199 | March 24, 2022 08:22 PM


शिमला,

कोरोना काल के दौरान प्रदेश में टीबी के मरीज कम हुए है इसका कारण कोई भी रहा हो लेकिन अस्पतालों में टीबी के मरीज की संख्या घटी है।
आइजीएमसी डॉट सेंटर में इस साल जनवरी से मार्च तक 250 नए मरीज रजिस्टर हुए है। जबकि 2019 में कोरोना से पहले के आंकड़े जनवरी से मार्च तक 511 का था कोरोना काल के काल के दोरान गिने चुने मरीज ही ईलाज के लिए आये थे।

आइजीएमसी में प्रदेश भर से टेस्ट करवाने मरीज आते है है यहाँ पर प्रतिदिन 35 से 40 नए मरीजो की जांच की जाती है जिसमे से 5से 6मरीज प्रतदिन टीबी के सामने आ रहे है ।
जिला शिमला में 750 मरीजो का ईलाज अबी तक चल रहा है।
6 से 9 महीने तक चलता है ईलाज
टीबी के मरीजो का ईलाज सरकार द्वारा पूरा निशुल्क किया गया है मतलब जो भी मरीज अस्प्ताल से टीबी का ईलाज करा रहा है उसका पूरा ईलाज निशुल्क होगा और यह दवाई मरीज के घर द्वार पर उपलब्ध होगी एक बार अस्प्ताल आकर मरीज टीबी का इलाज शुरू करदेता है तब उसके बाद मरीज के नजदीकी अस्पताल पीएचसी में दवाई भेज दी जाती है और वहा से आशा वर्कर मरीज को दवाई देतीहै टीबी के मरीजो का ईलाज 6 से 9 महीने तक चलता है। इस दौरान बीच ,बीच मे मरीज की जांच की जाती है।
इस सम्बंध में आइजीएमसी में चेस्त वार्ड के एचओडी डॉ माल्या सरकार ने बताया कि टीबी के मरीजो का ईलाज बेहतर किया जा रहा है उनका कहना था की कोरोना काल में कम मरीज सामने आए है। अभी 2 मरीज अस्प्ताल मे टीबी के दाखिल है । उन्होंने कहा कि टीबी कई तरह के है ऑर्थो में यानी हड्डियों भी टीबी पाया जाने लगा है लेकिन अभी यहाँ बलगम वाले टीबी यानी चेस्ट में टीबी का ईलाज किया जाता है।

Have something to say? Post your comment
 
और हेल्थ और लाइफस्टाइल खबरें