Friday, July 01, 2022
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
राघव पब्लिक स्कूल घैणी और बल्देंया में दसवीं कक्षा का परीक्षा परिणाम शत् प्रतिशत 10th Result : मंडी की प्रिंयका-दिवांगी टॉपर www.hpbose.org हिमालयन अपडेट समाचार- पत्र एवं साहित्य सृजन मंच की 5वीं वर्षगांठ पर 19 जून 2022 को शिमला में 'हिमालयन साहित्य महोत्सव व कवि सम्मेलन' का भव्य आयोजन संपन्न*बिना मीटर लगे दुकानों का उद्घाटन कर गए शहरी विकास मंत्री; संजीव कुठियालाराहत की खबर: कोरोना के मामले घटे, आज 6594 नए मामले, एक्टिव केस 50 हजार पारप्रदेश कांग्रेस कमेटी ने केंद्र की भाजपा सरकार के जांच एजेंसियों के दुरुपयोग के विरोध में केंद्रीय प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष धरना प्रदर्शन जो जमानत पर हैं वे कांग्रेस कार्यकर्ताओं से दिल्ली को घेरने को कह रहे हैं : कश्यप400 फीट गहरी खाई में गिरी कार, युवक की मौत
-
धर्म संस्कृति

पिपलू मेले पर चढ़ा पुरातन संस्कृति का रंग, टोलियां व टमक बनी मेले की शान

ब्यूरो हिमालयन अपडेट 7018631199 | June 11, 2022 06:41 PM


ऊना,

प्रदेश के तीन जिलों की सांस्कृतिक मिलन का प्रतीक यह मेला आज भी प्राचीन रंग में रंगा हुआ नजर आता है तथा लोगों की आस्था में वह जोश आज भी यथावथ बना हुआ है। प्रतिवर्ष ज्येष्ठ माह की निर्जला एकादशी को आयोजित होने वाले इस मेले में ऊना, हमीरपुर तथा कांगड़ा जिलों के अतिरिक्त प्रदेश व प्रदेश के बाहर से हजारों श्रद्धालु भगवान नरसिंह के दर्शनों के लिए यहां पहुंचते हैं। मेले के दौरान जहां स्थानीय लोग अपनी नई फसल को भगवान नरसिंह के चरणों में चढ़ाते हैं, तो वहीं भगवान का आशीर्वाद भी प्राप्त कर धन्य होते हैं। मेले के दौरान सदियों से बजती आ रही टमक की धमक आज भी पिपलू मेला में वैसे ही है, जैसे सैंकडों वर्ष पूर्व रही है। लोग आज भी टमक की मधुर धुन में रंगे हुए नजर आते हैं।
मेले के दौरान इलाके के विभिन्न स्थानों से आई अलग-अलग टोलियां वाद्ययंत्रों के साथ पीपल के पेड़ की परिक्रमा करती हैं। कई टोलियां मौजूद दौर में भी इस पुरातन परंपरा को संजो कर रख रही हैं। कोलका की टोली में शामिल राजेश शर्मा, नरेंद्र शर्मा, ठाकुर मेहर चंद, ठाकुर जोगराज, सूंका राम तथा कुलवंत सिंह आदि ने कहा कि उनके पूर्वज इसी प्रकार से पिपलू में आते थे तथा वह इस पंरपरा को आज भी निभा रहे हैं, ताकि आने वाली पीढ़ी को पुरानी पंरपराओं के बारे में पता चल सके।
वहीं पारम्परिक वाद्य यंत्रों के साथ भजन गायन और नृत्य करते हुए बलासा राम के नेतृत्व में गांव छपरोह तथा भगवान दास के नेतृत्व में गांव हरोट की मंडलियों ने भजन गायन के साथ साथ डांस करते हुए आमजन को भी थिरकने पर मजबूर कर दिया। इन धार्मिक मंडलियों के मुखियाओं ने बताया कि वह पीढ़ी दर पीढ़ी अपनी धार्मिक परंपरा को निभा रहे हैं।
उल्लेखनीय है कि पिपलू मेले में आने वाली धार्मिक मंडलियां कई दशकों से दूर दराज क्षेत्रों से पैदल चलकर आती हैं तथा अतीत की मान्यताओं व परंपराओं के अनुसार नरसिंह मंदिर में आकर श्रद्धा से नतमस्तक होती हैं।

Have something to say? Post your comment
 
और धर्म संस्कृति खबरें
धूमधाम से संपन्न हुआ पिपलू मेला, गायिका ममता भारद्वाज ने जमाया रंग  पिपलू मेले में आकर्षण का केंद्र बनी सोमभद्रा उत्पादों की प्रदर्शनी संत रविदास की शिक्षाएं वर्तमान में अधिक प्रासंगिक: राज्यपाल सांस्कृतिक कार्यक्रमों में तीन पंजाबी , तीन हिमाचली, दो बॉलीवुड स्टार संध्याओं का होगा आयोजन ऐतिहासिक रिज मैदान पर हुआ सरस मेले का आगाज़,स्वयं सहायता समूहों को मिलेगा मंच, आर्थिकी को मिलेगी मजबूती;भारद्वाज चूड़धार का रुख किया तो नपेंगे यात्री ! प्रशासन ने जारी किये आदेश,अवहेलना पर होगी कड़ी कार्रवाई ! यह जीवन जस मोती की सीपी ; शरण आशुतोष मुख्यमंत्री ने पारंपरिक मंडयाली लुड्डी तुड़का गीत जारी किया गुरू गोविंद सिंह के प्रकाशोत्सव पर वीरेंद्र कंवर ने कुरियाला गुरूद्वारे में टेका माथा लोक विरासत शिरगुल देव परंपराएं और त्योहार अध्ययन कार्यशाला और प्रशिक्षण शिविर
 
 
 
Total Visitor : 1,27,96354
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy