Friday, February 21, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
हमीरपुर : विधायक नरेन्द्र ठाकुर ने 11 पंचायतों के 552 लाभार्थियों को बांटे इंडक्शन हीटर, लैंप व साईकिलेंशिवालयों में शिवरात्रि की धूम , सुबह से मंदिरों में उमड़ा शिव भक्तों का सैलाबसज गए शिवालय, महाशिवरात्रि कल ,शिव मंदिर बारीं में कल पूजा , 22 को भण्डाराहमीरपुर) गंभीर आरोप : देई का नौण पंचायत में विकास कार्य के लिए धन स्वीकृत करवाने में अनियमितता, पंचायत प्रधान पर निलंबन की तलवार लटकीबागवान के बेटे राजेश शर्मा ने संभाला डिप्टी कंट्रोलर वित्त का पदभार मुकेरियाँ का अरुण पटियाल 420 में अंदर, रैल के राजेश की शिकायत पर पुलिस की कार्यवाहीविधायक नरेंद्र ठाकुर ने कहा:”कांग्रेस में आई बयानवीरों की बाढ़, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के ख़िलाफ़ की जा रही छींटाकसी निंदनीय”विधायक नरेंद्र ठाकुर ने कहा :” कांग्रेस में आई बयानवीरों की बाढ़, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के ख़िलाफ़ की जा रही छींटाकसी निंदनीय”
-
धर्म संस्कृति

मोक्ष देने वाले हैं शनि देव

October 13, 2018 08:50 AM

 शनिदेवको सूर्य पुत्र एवं कर्मफल दाता माना जाता है। लेकिन साथ ही पितृ शत्रु भी.शनि ग्रह के सम्बन्ध मे अनेक भ्रान्तियां और इस लिये उसेमारक, अशुभ और दुख कारक माना जाता है। पाश्चात्य ज्योतिषी भी उसे दुख देने वाला मानते हैं। लेकिन शनि उतना अशुभ औरमारकनही है, जितना उसे माना जाता है। इसलिये वह शत्रु नही मित्र है।मोक्षको देने वाला एक मात्र शनि ग्रह ही है। सत्य तो यह ही है कि शनि प्रकृति में संतुलन पैदा करता है, और हर प्राणी के साथ उचित न्याय करता है। जो लोग अनुचित विषमता और अस्वाभाविक समता को आश्रय देते हैं, शनि केवल उन्ही को दण्डिंत (प्रताडित) करते हैं।
 शनि मंत्र
ॐ शं शनैश्चराय नमः॥
ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम:॥

 शनि परमकल्याणकारी

शनिदेव परमकल्याण कर्ता न्यायाधीश और जीव का परमहितैषी ग्रह माने जाते हैं। ईश्वर पारायण प्राणी जो जन्म जन्मान्तर तपस्या करते हैं, तपस्या सफ़ल होने के समयअविद्या, माया से सम्मोहित होकर पतित हो जाते हैं, अर्थात तप पूर्ण नही कर पाते हैं, उन तपस्विओं की तपस्या को सफ़ल करने के लिये शनिदेव परम कृपालु होकर भावी जन्मों में पुन: तप करने की प्रेरणा देता है। द्रेष्काण कुन्डली मे जब शनि को चन्द्रमा देखता है, या चन्द्रमा शनि के द्वारा देखा जाता है, तो उच्च कोटि का संत बना देता है। और ऐसा व्यक्ति पारिवारिक मोह से विरक्त होकर कर महान संत बना कर बैराग्य देता है। शनि पूर्व जन्म के तप कोपूर्ण करने के लिये प्राणी की समस्त मनोवृत्तियों को परमात्मा में लगाने के लिये मनुष्य को अन्त रहित भाव देकर उच्च स्तरीय महात्मा बना देता है। ताकि वर्तमान जन्म में उसकी तपस्या सफ़ल हो जावे, और वह परमानन्द का आनन्द लेकर प्रभुदर्शन का सौभाग्य प्राप्त कर सके.यह चन्द्रमा और शनि की उपासना से सुलभ हो पाता है। शनि तप करने की प्रेरणा देता है।और शनि उसके मन को परमात्मा में स्थित करता है। कारण शनि ही नवग्रहों में जातक के ज्ञान चक्षु खोलता है।
पौराणिक संदर्भ
शनि के सम्बन्ध मे हमे पुराणों में अनेक आख्यान मिलते हैं।माता के छल के कारण पिता ने उसे शाप दिया l पिता अर्थात सूर्य ने कहा,"आप क्रूरता पूर्ण द्रिष्टि देखने वाले मंदगामी ग्रह हो जाये" यह भी आख्यान मिलता है कि शनि के प्रकोप से ही अपने राज्य को घोर दुर्भिक्ष से बचाने के लियेराजा दशरथ उनसे मुकाबला करने पहुंचे तो उनका पुरुषार्थ देख कर शनि ने उनसे वरदान मांगने के लिये कहा राजा दशरथ ने विधिवत स्तुति कर उसे प्रसन्न किया।पद्म पुराणमें इस प्रसंग का सविस्तार वर्णन है।ब्रह्मवैवर्त पुराण में शनि ने जगत जननी पार्वती को बताया है कि मैं सौ जन्मो तक जातक की करनी का फ़ल भुगतान करता हूँ.एक बार जब विष्णु प्रिया लक्ष्मी ने शनि से पूंछा कि तुम क्यों जातकों को धन हानि करते हो, क्यों सभी तुम्हारे प्रभाव से प्रताडित रहते हैं, तो शनि महाराज ने उत्तर दिया,"मातेश्वरी, उसमे मेरा कोई दोष नही है, परमपिता परमात्मा ने मुझे तीनो लोकों का न्यायाधीश नियुक्त किया हुआ है, इसलिये जो भी तीनो लोकों के अंदर अन्याय करता है, उसे दंड देना मेरा काम है" एक आख्यान और मिलता है, कि किस प्रकार से ऋषि अगस्त ने जब शनि देव से प्रार्थना की थी, तो उन्होने राक्षसों से उनको मुक्ति दिलवाई थी। जिस किसी ने भी अन्याय किया, उनको ही उन्होने दंड दिया, चाहे वह भगवान शिवकी अर्धांगिनी सती रही हों, जिन्होने सीता का रूप रखने के बाद बाबा भोले नाथ से झूठ बोलकर अपनी सफ़ाई दी और परिणाम में उनको अपने ही पिता की यज्ञ में हवन कुंड मे जल कर मरने के लिये शनिदेव ने विवश कर दिया, अथवा राजा हरिश्चन्द्र रहे हों, जिनके दान देने के अभिमान के कारण सप्तनीक बाजार मे बिकना पडा और,श्मशान की रखवाली तक करनी पडी, या राजा नल और दमयन्ती को ही ले लीजिये, जिनके तुच्छ पापों की सजा के लिये उन्हे दर दर का होकर भटकना पडा, और भूनी हुई मछलियां तक पानी मै तैर कर भाग गईं,

फ़िर साधारण मनुष्य के द्वारा जो भी मनसा, वाचा, कर्मणा, पाप कर दिया जाता है वह चाहे जाने मे किया जाय या अन्जाने में, उसे भुगतना तो पडेगा ही l

Have something to say? Post your comment
 
और धर्म संस्कृति खबरें
वीरेंद्र कंवर ने परिवार संग बनौड़े महादेव शिव मंदिर में शीश नवाया आनी में शिवरात्री पर्व पर पारम्परिक व्यजनों की खुशबु से मेहकी घाटी अंतरराष्ट्रीयमंडी शिवरात्रि महोत्सव के विधिवत आगाज से एक दिन पहले शुक्रवार को छोटी काशीमें सुबह से ही देव ध्वनियो की गूंज विमल' उपनाम से विभूषित हुए कांगड़ा,हिमाचल प्रदेश के साहित्यकार राजीव डोगरा। राजकीय प्राथमिक पाठशाला धोगी ने मनाई शिवरात्रि  बड़ादेव कमरूनाग पहुंचे मंडी, देव ध्वनियों से गूंजा शहर सुंदर लाइटिंग से जगमगा रहे मंडी के मंदिर पवित्र तीर्थस्थल चूड़धार-वचन के भूखे हैं भगवान भोलेनाथ क्या कहते हैं आपके सितारे; जानें राशिफल में जानें आज का राशिफल