Sunday, July 05, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग: कलयुगी दादा ने अपनी 9 साल की पोती को बनाया हवस का शिकारशहादत : तिरंगे में लिपटे अमर शहीद अंकुश के पार्थिव शरीर को देख बिलख उठे हमीरपुरवासी, आसमान भी रोया, राजकीय सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई , सीएम कल मिलेंगे परिजनों से तिरंगे में लिपटे अमर शहीद अंकुश का पार्थिव शरीर ले आज 10 बजे लेह से चण्डीगढ़ के लिए उड़ान भरेगा विशेष विमान, क़ड़ोहता के बरसेला नाला में होगी राष्ट्रीय सम्मान के साथ अंतिम विदाईअंकुश की शहादत से हमीरपुर गमगीन, हमीरपुर जिला के कड़ोहता ( भोरंज उपमंडल)का वीर सैनिक अंकुश शहीद हुआ , कड़ोहता में बेसब्री से हो रहा शहीद के पार्थिव देह का इंतज़ार ब्रेकिंग ) हमीरपुर : मानसिक परेशानी से घर से ग़ायब युवक की सातवें दिन जंगलबेरी में मिली डेड बॉडी,ब्रेकिंग : जिला सोलन के अर्की में कोरोना का पहला मामला आने से हड़कंप ब्रेकिंग: कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति गुरुग्राम से सीधे पहुंचा अस्पताल, मेडिकल कॉलेज नेरचौक में मची अफरातफरी अनलॉक एक का मतलब है और अधिक सावधानी, एतिहात
-
हिमाचल

बिना अध्यापक कैसे जलेगी शिक्षा की लौ

October 28, 2018 06:35 PM

 

 
आनी,
आनी विधासभा क्षेत्र के छात्रों का भविष्य अंधकार में लटक गया है। बेहतरीन शिक्षा देने के सरकार भले ही लाखों दावे कर ले लेकिन इन दावों की धरातल पर पोल खुलती नजर आ रही है। बात चाहे प्राथमिक शिक्षा संस्थानों  की हो या फिर उच्चतर शिक्षा संस्थानों की हर जगह यही आलम है कि शिक्षकों के दर्जनों पद रिक्त पड़े हैं। स्कूलों में शिक्षकों की भारी कमी के चलते अभिभावकों का शिक्षा विभाग व सरकार के प्रति आक्रोश बढ़ रहा है। इस कारण बच्चों की  पढ़ाई प्रभावित हो रही है।
यही हाल आनी विधानसभा के आनी और निरमंड खण्ड के विद्यालयों का भी है । बीते दिनों पहले निदेशक,उच्च शिक्षा से पहले आनी खण्ड के च्वाई और निरमंड में शिक्षकों की तैनाती के आदेश ज़ारी हुए थे । आदेशों के अनुसार आनी के रावमावि चवाई में भौतिकी विज्ञान तथा निरमंड खण्ड के रावमावि देऊगी में गणित,रसायन विज्ञान व अर्थशास्त्र जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर अध्यापकों ने तैनाती देनी थी । लेकिन काफ़ी समय बीत जाने के बाद भी ऐसा नहीं हो पाया है । इससे बच्चों का भविष्य अधर में लटका है । स्कूल में बच्चों के कम आंकड़े से भी अंदाजा लगाया जा सकता है कि सरकारी स्कूलों की क्या स्थिति है। लेकिन विभाग व सरकार इस दिशा में कोई ठोस कदम उठाती नजर नहीं आ रही है। अविभावकों का आरोप है कि राजनीति में ऊंची पहुंच के कारण अक्सर ऐसे मामले सामने आते हैं । आदेशों के बाबजूद भी अध्यापक अपनी एडजस्टमेंट के चक्कर मे लगे रहते हैं जिससे बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है । कई अध्यापक वर्षों से एक ही स्थान पर लगे मोह को नहीं छोड़ना चाहते।  
 जमा दो विद्यालय चवाई की एसएमसी के अध्यक्ष शेर सिंह भारती का कहना है कि स्कूल एसएमसी कई बार  इस स्कूल को अध्यापक मुहैया करवाने के लिए शिक्षा विभाग से गुहार लगा चुके हैं लेकिन अभी तक स्थिति जस की तस बनी हुई है, ऐसे में अब जब विद्यालय में भौतिकी विज्ञान पद पर नियुक्ति के आदेश प्राप्त हुए थे, तो काफी समय बीत जाने पर भी अध्यापक ने अभी अपनी नियुक्ति नहीं दी है। जिससे स्कूल प्रबंधन समिति और अभिवावकों में शिक्षा विभाग के प्रति वेहद रोष है। 
Have something to say? Post your comment
और हिमाचल खबरें