Monday, February 24, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को जाता है बदला-बदली के दौर को ख़त्म करने का श्रेय : नरेंद्र ठाकुरब्रेकिंग : शिक्षा विभाग उठाएगा एसिड पीड़ित छात्राओं के इलाज का ख़र्च , जाँच के बाद निष्कासित होगा आरोपित छात्र , पीड़ित परिवार को नहीं मिली एफ़आईआर की कॉपी(ब्रेकिंग) हमीरपुर : मर्डर केस में पुलिस के हत्थे चढ़ा आरोपी आमिर खान, गिरफ़्तारी के बाद पुलिस ने तेज़ की जाँच Breaking News : नारकंडा में कार दुर्घटनाग्रस्त एक की मौतएसिड प्रकरण : आरोपी के ख़िलाफ़ रविवार को एफ़आईआर नंबर 13/2020 दर्ज, उटपुर पीएचसी से पुलिस ने लिए एमएलसी, आई जाँच में तेज़ी।एसिड प्रकरण : राम भरोसे सरकारी स्कूलों की विज्ञान प्रयोगशालाएँ , चपड़ासी से प्रोमोट हो लैब अटेंडेंट दे रहे सेवाएँ, हाई स्कूलों में नहीं है लैब अटेंडेंट की पोस्टअपडेट: एसिड पीड़िता शिवांगी का बयान लिख वापिस लौटी पुलिस, आज स्कूल प्रशासन से होगी पूछताछ, सिर्फ़ उटपुर में ही हुआ पीड़िता का इलाज, टौणी देवी या हमीरपुर में इलाज की ख़बरें निकली झूठीसरकाघाट राजदेई वृद्धा मामला : हाई कोर्ट से राहत मिली एक आरोपी को , गाँव में घुसे 23, राजदेई भी बेटी संग बड़ा समाहल में, जान को ख़तरा
-
कर्मचारी

मिड डे मील वर्कर्स का वेतन बढ़ाया जाए

November 09, 2018 07:23 PM

आनी,
आनी उपमण्डल में मिड डे मील वर्कर्स यूनियन की एक बैठक आयोजित हुई जिसकी अध्यक्षता सीटू के सचिव पदम प्रभाकर ने की। इस बैठक में मिड डे मील वर्कर्स के यूनियन ने अपनी मांगों को लेकर एक ज्ञापन तैयार किया और एसडीएम के माध्यम से मुख्यमंत्री हिमाचल प्रदेश को सौंपा ।  ज्ञापन में मिड डे मील वर्कर्स ने पक्की नौकरी , वेतन में वृद्धि किए जाने के साथ नियुक्ति पत्र की मांग सरकार से की । एमडीएम वर्कर्स की नौकरी संबंधित 25 बच्चों की शर्त पर हटाये जाने और हर स्कूल में एमडीएम वर्कर्स नियुक्त किये जाने की माँग रखी । यूनियन ने मिलने वाले वेतनमान को दस महीने की बजाय बारह महीने देने की मांग भी रखी । साथ ही यूनियन ने मिड डे मील योजना में केंद्रीय किचन खोलने , योजना को ठेके पर देने व एनजीओ को देने के फैसले को गलत बताया । सीटू आनी के अध्यक्ष पदम प्रभाकर ने कहा कि अगर इस संबंध में कोई ठोस नीति नहीं बनाई गई तो जल्द प्रदेशव्यापी आंदोलन छेड़ा जाएगा । उन्होंने कहा कि सरकार का उनकी तरफ कोई गौर नहीं है । बार बार मात्र कोरे आश्वासन ही मिलते रहे हैं । वर्ष 2014 में हुए लोकसभा चुनाव के दौरान भी वेतन वृद्धि पर झूठी दिलासा ही दी गई । इस संदर्भ में 19 नवंबर को मांगों को लेकर दिल्ली चलो रैली में आई से संघ के कई लोग शामिल होकर अपने हक की लड़ाई लड़ेंगे। उन्होंने केंद्र सरकार को आड़े हाथों लेते हुए मोदी सरकार की योजनाओं को मज़दूरों के खिलाफ़ बताया है ।
Have something to say? Post your comment
 
और कर्मचारी खबरें