Tuesday, December 06, 2022
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
शिमला के संजौली में तेज रफ्तार कार ने राहगीर को मारी टक्कर,सीसीटीवी फुटेज वायरलज्ञानवापी मामले में अब भी मुस्लिम पक्ष द्वारा लटकाव, भटकाव वाली नीति; धर्म चंद्र पोद्दार हिमाचल प्रदेश 17वीं राज्य स्तरीय समन्वय समिति - हिमाचल प्रदेश की बैठक आयोजित 30 टीबी रोगियों को पोषण आहार वितरीत हिमालयन अपडेट समाचार पत्र एवं साहित्य सृजन मंच के तत्वावधान में भव्य राष्ट्रीय कवि सम्मेलन एवं सम्मान समारोह आयोजित पुरातन परम्पराएँ पूरी तरह से वैज्ञानिक एवं सूक्ष्म प्रभावों वाली; धर्म चंद्र पोद्दारनिःशुल्क विशेष स्वास्थ्य शिविर में जांचा 118लोगों का स्वास्थ्य समाज हित के कार्यों में उत्कृष्ट योगदान देने के लिए हिमालयन अपडेट द्वार झारखण्ड के स्पूत पोद्दार को किया जाएगा सम्मानित
-
हिमाचल

15 दिनों के भीतर होगा 10 गोसदन का निर्माण-बलबीर वर्मा।

बालम गोगट, जिला प्रमुख ब्यूरो, हिमालयन अपडेट | November 19, 2022 09:38 AM

चौपाल,

चौपाल की सड़कों पर अब बेसहारा गोवंश नज़र नहीं आएगा,गोवंश को संरक्षित करने के लिए व्यापक प्रबंध किए जाएंगे तथा साथ ही साथ अपने पालतू पशुओं को घरों से खदेड़ने वाले लोगो की पहचान कर उनके खिलाफ प्रशासनिक कार्रवाई करवाई जाएगी । यह बात विधायक बलबीर वर्मा ने चौपाल में प्रेस को जारी एक बयान में कही। उन्होंने कहा कि वे विधानसभा क्षेत्र के सैंज, नेरवा, चौपाल और मडावग में आम जनता के साथ बैठक कर चुके है और सभी से गोवंश कि सुरक्षा के लिए भरपूर सहयोग मिल रहा है। उन्होंने कहा कि विधानसभा क्षेत्र चौपाल में विभिन्न जगह 15 दिनों के भीतर 10 गोसदन का निर्माण किया जाएगा ताकि ठण्ड से आवारा पशुओं को सहारा दिया जा सके। इन गो सदनों में पशुओं के लिए चारे और पानी का भी उचित प्रबंध किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हमारे देश में गाय को सिर्फ एक पशु ही नहीं बल्कि मां के समान माना जाता हैं और उसे पूजा भी जाता हैं। लेकिन जब तक वह काम की होती हैं तब तक लोग उन्हें आश्रय देते हैं, लेकिन जब वह दूध देना बंद कर देती है तो कुछ निर्दयी लोग उन्हें सड़कों पर भटकने के लिए छोड़ देते हैं। लोगों द्वारा बेसहारा छोड़ा गया यह गोवंश अक्सर ठंड और दुर्घटनाओं का शिकार होकर काल का ग्रास बन जाता है। गाय का भारतीय संस्कृति में महत्वपूर्ण स्थान है। गाय भारत के लिये केवल एक जन्तु नहीं है, बल्कि वह जन-जन की आस्था का केन्द्र है। मां के दूध के बाद केवल गाय के दूध को ही अमृत तुल्य माना गया है। उन्होंने कहा कि गाय के संरक्षण, संवर्धन का कार्य मात्र किसी एक मत, धर्म, संप्रदाय या सरकार का नहीं है बल्कि गाय भारत की संस्कृति है और संस्कृति को बचाने का काम देश में रहने वाले हर एक नागरिक, चाहे वह किसी भी धर्म की उपासना करने वाला हो, की जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि हर क्षेत्र में अलग अलग कमेटियां गठित की गई है जो गोसदन के कार्यों में अपना योगदान देगें, उन्होंने आम जनता से अपील की है कि गोसरंक्षण के लिए आगे आये और योग्यतानुसार अपना अंशदान दे कर इस पुनीत कार्य को सफल बनाने में अपना सहयोग दें।

Have something to say? Post your comment
और हिमाचल खबरें
चौपाल में आठ टेबल पर होगी मतगणना, 19 राउंड में पूर्ण होगी मतगणना। कुंगश स्कूल में सड़क सुरक्षा सप्ताह पर प्रतियोगिता आयोजित  टी.बी उन्मूलन अभियान को बनाएं जन आंदोलन - अरिंदम चौधरी स्वयंसेवी बंन करें देश के विकास में सहयोग अनिता गौतम मंडी जिले में 8 दिसंबर को ‘ड्राई डे’ रहेगा, शराब-नशीले पदार्थों पर रहेगी पाबंदी ज़िला में 08 दिसम्बर को होने वाली मतगणना की तैयारियां पूरी 8 बजे शुरु होगी मतगणना, मतगणना केंद्र में मान्य नहीं होंगे मोबाइल बाद-विवाद प्रतियोगिता में राजकीय महाविद्यालय ऊना के सात्विक शर्मा रहे प्रथम केलांग में अंतरराष्ट्रीय स्वयंसेवक दिवस आयोजित  उपायुक्त शिमला शिवम प्रताप सिंह ने अपने कार्यालय कक्ष में 08 दिसम्बर, 2022 को मतगणना के संदर्भ में राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों की बैठक ली।
Total Visitor : 1,36,70157
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy