Monday, January 30, 2023
Follow us on
-
धर्म संस्कृति

आनी क्षेत्र के विभिन्न गांवों में बुढी दिवाली की धूम

ब्यूरो हिमालयन अपडेट | November 24, 2022 04:40 PM
 
आनी,
 
आनी के धोगी गांव में दो दिवसीय धोगी बूढ़ी दिवाली का शनिवार को विधिवत समापन हुआ गया । क्षेत्र के आराध्य देव शमशरी महादेव व टोणा नाग की भावपूर्ण विदाई व मनमोहक नृत्य के बीच दिवाली की खूब रौनक देखने को मिली । 
क्षेत्र के आराध्य देव शमशरी महादेव हर वर्ष मार्गशीष की कृष्ण अमावस्या को अपने प्राचीन मंदिर धोगी में बूढ़ी दिवाली मनाने पहुंचते हैं, जिससे क्षेत्रवासियों में काफी उत्साह देखने को मिलता है। एक मान्यता अनुसार प्रभु राम के 14 वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या वापसी पर त्रेता युग का अंत हुआ, परंतु दिवाली सतयुग के अंत में बलिराज के समय से प्रचलित है। इसी अमावस्या से महाभारत का युद्ध शुरू हुआ जो 18 दिनों तक चला था, तभी से दिवाली विभिन्न जगहों पर मनाई जाती है। 
प्राचीन रीति-रिवाजों अनुसार रात्रि के समय गांव के सैकड़ों लोगों ने वाद्य यंत्रों की धुनों पर मशाल जलाकर प्राचीन गीत, जतियां गाकर मंदिर की परिक्रमा करके समाज में फैली अंधकार रूपी बुराइयों को प्रकाश रूपी दुर्जय शस्त्र से दूर करने का संदेश देकर सुख शांति की कामना की।
 दिन को मनमोहक नाटी ने सबका मन मोहा। पारम्परिक बेश-भूषा में सजकर लढागी नृत्य दल ने महिला मंडल समेत खूब रौनक लगाई ।
वहीं बगड़ी  घास से बने बांड के साथ देव-दानव का एक भव्य युद्ध देखने को मिला जो समुद्र मंथन की याद दिलाता है। इसमें देवताओं की जीत हुई और समाज को अधर्म पर धर्म की विजय पताका लहराने का संदेश दिया गया। 
शाम को गढ़पति शमशरी महादेव और टौणा नाग ने पारंपरिक ढोल नगाड़ों की थाप और करनालों को धुन पर श्रद्धालुओं संग देव नृत्य किया। 
लोगों ने देवताओं के समक्ष शीश नवाकर परिवार व क्षेत्र की सुख-समृद्धि की कामना की ।
Have something to say? Post your comment
और धर्म संस्कृति खबरें
देवता चवासी नाग का गांव पोखी मे हुआ भव्य स्वागत, 5 साल बाद त्रिवेणी घाट में देवता करेंगे शाही स्नान  46 बर्षों बाद शुकि सिओं की यात्रा पर निकले देवता खुडीजल 22 दिसम्बर को लौटेंगे देवालय निरमंड की बूढ़ी दिवाली में नाटी किंग ठाकुर दास राठी. विक्की चौहान. और कुलदीप शर्मा सहित अन्य क़ई कलाकार  मचाएंगे धमाल आनी में देवताओं की विदाई के साथ सिराज उत्सव का समापन आनी के खेगसू स्थित माता कुष्मांडा भवानी मन्दिर में खूब लगे मां के जयकारे आनी के देहुरी में हुआ दो भाई वहन स्वरूप देवी देवताओं का आलौकिक मिलन योगवशिष्ठ और साधक योग विकास के चरण (भाग 3): पतंजलि योग और योगवशिष्ठ महारामायण या योगवशिष्ठ: साधक के विकास के चरण (भाग 2- मूल सिद्धांत) योगवशिष्ठ और साधक के योग विकास के चरण  (भाग 1) धूमधाम से संपन्न हुआ पिपलू मेला, गायिका ममता भारद्वाज ने जमाया रंग 
Total Visitor : 1,39,83400
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy