Tuesday, December 06, 2022
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
शिमला के संजौली में तेज रफ्तार कार ने राहगीर को मारी टक्कर,सीसीटीवी फुटेज वायरलज्ञानवापी मामले में अब भी मुस्लिम पक्ष द्वारा लटकाव, भटकाव वाली नीति; धर्म चंद्र पोद्दार हिमाचल प्रदेश 17वीं राज्य स्तरीय समन्वय समिति - हिमाचल प्रदेश की बैठक आयोजित 30 टीबी रोगियों को पोषण आहार वितरीत हिमालयन अपडेट समाचार पत्र एवं साहित्य सृजन मंच के तत्वावधान में भव्य राष्ट्रीय कवि सम्मेलन एवं सम्मान समारोह आयोजित पुरातन परम्पराएँ पूरी तरह से वैज्ञानिक एवं सूक्ष्म प्रभावों वाली; धर्म चंद्र पोद्दारनिःशुल्क विशेष स्वास्थ्य शिविर में जांचा 118लोगों का स्वास्थ्य समाज हित के कार्यों में उत्कृष्ट योगदान देने के लिए हिमालयन अपडेट द्वार झारखण्ड के स्पूत पोद्दार को किया जाएगा सम्मानित
-
हिमाचल

जैविक उत्पादन प्रणाली और प्राकृतिक खेती पर पाठ्यक्रम का समापन

ब्यूरो हिमालयन अपडेट | November 24, 2022 05:09 PM

 

शिमला,

डॉ. यशवंत सिंह परमार औद्यानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय, नौणी में जैविक उत्पादन प्रणाली में विकास और प्राकृतिक खेती पर आयोजित 10 दिवसीय पाठ्यक्रम सह प्रशिक्षण का बुधवार को समापन हुआ।

पाठ्यक्रम को भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा वित्त पोषित और विश्वविद्यालय के प्लांट पैथोलॉजी विभाग द्वारा इसकी योजना और आयोजन किया गया। प्रशिक्षण में तमिलनाडु, केरल, मध्य प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, पंजाब और हिमाचल के विभिन्न विश्वविद्यालयों के 17 वैज्ञानिकों ने भाग लिया। प्रशिक्षण के लिए ऑनलाइन आवेदन के तहत ही प्रशिक्षुओं का चयन किया गया।

समापन सत्र के दौरान प्रशिक्षुओं को संबोधित करते हुए कुलपति प्रोफेसर राजेश्वर सिंह चंदेल ने कहा कि कृषि समुदाय की भलाई के लिए विभिन्न संस्थानों के वैज्ञानिकों को एकजुट होकर काम करते देखना अद्भुत है। उन्होंने कहा कि देश ने मिट्टी और पानी का संरक्षण सुनिश्चित करने और समाज को स्वस्थ भोजन प्रदान करने के लिए देश ने सही समय पर एक चुनौती ली है।

प्रो॰ चंदेल ने कहा कि प्राकृतिक खेती एक किसान-केंद्रित दृष्टिकोण है जहां किसानों के साथ-साथ वैज्ञानिक समुदाय भी सीख रहा है। उन्होंने प्रशिक्षुओं से आग्रह किया कि वे अपने क्षेत्र में उपलब्ध प्राकृतिक वस्तुओं का उपयोग करके अपने क्षेत्रों के लिए प्राकृतिक खेती पर अपना पैकेज ऑफ प्रैक्टिस विकसित करें।

 

इससे पहले प्लांट पैथोलॉजी विभाग के हैड और पाठ्यक्रम निदेशक डॉ एचआर गौतम ने प्रतिभागियों को पाठ्यक्रम में रुचि लेने के लिए धन्यवाद दिया और उनसे अपने संस्थानों और क्षेत्र में प्राकृतिक खेती का ब्रांड एंबेसडर के रूप में कार्य करने का आग्रह किया। पाठ्यक्रम के दौरान, प्रतिभागियों को प्राकृतिक खेती के सभी पहलुओं के बुनियादी सिद्धांतों, खाद्य उत्पादन, पौधों की सुरक्षा, पोस्ट हार्वेस्ट और प्राकृतिक खेती के समग्र अर्थशास्त्र से अवगत करवाया गया। माइक्रोब्स का जैविक और प्राकृतिक कृषि प्रणालियों में उनके संभावित उपयोग, बहुपरत खेती, मृदा पोषक तत्वों की गतिशीलता और विश्लेषण, बायोकंट्रोल एजेंटों का प्रभावी उपयोग और रोग प्रबंधन में नई अंतर्दृष्टि जैसे विषयों को ट्रेनिंग के दौरान कवर किए गए। मशोबरा और नौणी में विश्वविद्यालय के खेतों का दौरा और क्षेत्र प्रशिक्षण भी इस ट्रेनिंग में शामिल रहा।

 

डॉ. संजीव चौहान, अनुसंधान निदेशक, डॉ. मनीष शर्मा, डीन सीओएच, डॉ. सीएल ठाकुर, डीन सीओएफ,  प्रशिक्षण समन्वयक डॉ. एन.के. भरत और डॉ. भूपेश गुप्ता सहित विश्वविद्यालय में प्राकृतिक खेती में लगे संकाय ने समापन समारोह में भाग लिया।

Have something to say? Post your comment
और हिमाचल खबरें
चौपाल में आठ टेबल पर होगी मतगणना, 19 राउंड में पूर्ण होगी मतगणना। कुंगश स्कूल में सड़क सुरक्षा सप्ताह पर प्रतियोगिता आयोजित  टी.बी उन्मूलन अभियान को बनाएं जन आंदोलन - अरिंदम चौधरी स्वयंसेवी बंन करें देश के विकास में सहयोग अनिता गौतम मंडी जिले में 8 दिसंबर को ‘ड्राई डे’ रहेगा, शराब-नशीले पदार्थों पर रहेगी पाबंदी ज़िला में 08 दिसम्बर को होने वाली मतगणना की तैयारियां पूरी 8 बजे शुरु होगी मतगणना, मतगणना केंद्र में मान्य नहीं होंगे मोबाइल बाद-विवाद प्रतियोगिता में राजकीय महाविद्यालय ऊना के सात्विक शर्मा रहे प्रथम केलांग में अंतरराष्ट्रीय स्वयंसेवक दिवस आयोजित  उपायुक्त शिमला शिवम प्रताप सिंह ने अपने कार्यालय कक्ष में 08 दिसम्बर, 2022 को मतगणना के संदर्भ में राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों की बैठक ली।
Total Visitor : 1,36,69861
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy