Saturday, February 27, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/XtZXmzukedcनगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआहमीरपुर जिला में हर्षोल्लास से मनाया गया 72वां गणतंत्र दिवस समारोह, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने की जिला स्तरीय समारोह की अध्यक्षता, राष्ट्रध्वज फहराकर मार्चपास्ट की सलामी लीसमीक्षा : वार्ड पंच से लेकर जिला परिषद तक पटक डाले जनता ने , हेकड़ी , घमंड व बड़े नेताओं की धौंस हुईं जमींदोज पंचायत चुनाव : भीतरघात का ऑडियो वायरल, खूब हो रही चर्चाप्रथम चरण में हमीरपुर जिला में दिग्गजों ने किया मतदान, धूमल अनुराग ने समीरपुर , राजेंद्र राणा व अभिषेक राणा ने पटलांदर में किया मतदान
-
हिमाचल

हस्तशिल्प का चितेरा डोलाराम

November 24, 2018 06:08 PM

 

रामपुर बुशहर,

अंतर्राष्ट्रीय लवी मेले का पुरातन स्वरूप बेशक दिनों दिन बदल रहा है लेकिन हस्तशिल्प के कदरदानों के लिए एक बाजार आज भी मेला स्थल के समीप सजता है। इस बाजार में मंदिरों में उपयोग होने वाले पारंपारिक वाद्ध् यत्रों से लेकर मूर्तियां और पूजा में काम आने वाले सामानों की खूब मांग रहती है। समय के साथ साथ हस्तशिल्प के कारीगरों की आमद भी कम हो रही है लेकिन हस्तशिल्प का चितेरा कुल्लू जिले के शाड़ाबाई गांव का निवासी डोलाराम आज भी अपनी अनूठी कलाकृतियों के साथ अपने पूर्वजों से चली आ रही परंपरा को निभा रहा है।

डोलाराम को यह कला अपने पूर्वजों से बिरासत में मिली है हालांकि उसने किसी प्रकार का तकनीकी प्रशिक्षण नहीं लिया है फिर भी सिर्फ चेहरा देखकर उसे सांचे में ढालना वह खूब जानता है। देवी देवताओं की मूर्तियां हो या ढोल नगारे, नरसिंघे, करनाल, छत्र, कावली, बाणा आदि डोलाराम के सधे हुए कुशल हाथ उन्हें एक अलग ही पहचान देते हैं। कुल्लू, मंडी, किन्नौर, शिमला जिलों में शायद ही कोई ऐसा मंदिर हो जहां पर डोलाराम का कोई न कोई हस्त निर्मित सामान उपयोग में न आता हो। छोटे से गांव की छोटी सी कार्यशाला में उपरोक्त सामान बनाने का काम पूरे तौर पर हस्त निर्मित होता है मात्र छैनी हथोड़े की सहायता से डोलाराम के कुशल हाथ धातु के टुकड़े को मनचाहा आकार दे देते हैं किसी प्रकार की मशीन का उपयोग नहीं किया जाता है।

सामान्य रूप से उसके हस्तनिर्मित उत्पाद की कीमत साढ़े तीन हजार से लेकर 40 हजार तक होती है। अंतर्राष्ट्रीय लवी मेले के मौके पर प्रदेश भर से आए हस्तशिल्कार अपने अपने हस्तशिल्प का प्रदर्शन करते हैं लेकिन पिछले 12 साल से हस्तशिल्प के पहले पुरस्कार पर डोलाराम कब्जा जमाए हुए है। इस बार भी प्रदेश के मुख्यमंत्री जैराम ठाकुर ने उसे हस्तशिल्प का पहला पुरस्कार पाने पर सम्मानित किया।

 
Have something to say? Post your comment
और हिमाचल खबरें
पेदग-शिमला बस सेवा बंद होने से लोग परेशान ! आनी में भाजपा का दो दिवसीय कार्यकर्ता अभ्यास वर्ग 27 फरबरी से जल शक्ति मंत्री 28 को करेंगे शिवरात्रि मेले के प्रबंधों की समीक्षा देव नारायण फनौटी की प्राण प्रतिष्ठा में शरीक हुए विधायक किशोरीलाल सागर जिला बाल संरक्षण समिति की समीक्षा बैठक आयोजित स्वच्छ गांव हरा भरा गांव के तहत एक दिवसीय कार्यक्रम आयोजित मंडी में शिवधाम....विकास को मिलेंगे नए आयाम परियोजना प्रभावित परिवारों की घोषणा का मामला विचाराधीन  -अतिरिक्त उपायुक्त  महिला मोर्चा ने आनी व निरमण्ड में आयोजित की बैठक प्रदेश में 2.85 लाख महिलाओं को निःशुल्क गैस कुनैक्शन उपलब्ध