Saturday, February 29, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने टौणी देवी में किया सामुदायिक भवन का शिलान्यास , शिव मंदिर बारीं को मिला सरांय भवनसोशल मीडिया की बदौलत 20 घंटे में मालिक तक पहुँची गाड़ी की गुमशुदा आर सीहमीरपुर : अनुराग के उपहार से बारीं गाँव दूधिया सोलर लाइट से चमकेगा, क़रीब 1 लाख 10 हज़ार रुपए से लगेंगी 6 नई सोलर लाइटजिथि अड़ा फड़ा उथि धूमल खड़ा , आख़िर हर बार धूमल ही क्यों, नाम उछाल कर खींचने वाले कौन ?? ( ब्रेकिंग) हमीरपुर : प्रधान जी कुर्सी छोड़ो या फिर तुरंत निलंबित हो देई द नौण पंचायत प्रधान, ग्रामीणों ने डीसी को ज्ञापन सौंप माँगी एसडीएम स्तर के अधिकारी से जाँचहमीरपुर : धूप में ही गिर गया बीपीएल परिवार की विधवा मीरां का मकान , मौक़े पर पहुँचे पंचायत प्रधान व उपप्रधान , विधवा की गुहार , अब मदद करे सरकार ( ब्रेकिंग ) हमीरपुर: दीवार पर पोस्टर लगाकर पूर्व सैनिक ने महिला प्रधान के ख़िलाफ़ लिखे अश्लील शब्द , दो अन्य लोगों के ख़िलाफ़ भी लिखे जातिसूचक शब्द, मैड़ के कश्मीर सिंह के ख़िलाफ़ FIR दर्ज।हिमाचल प्रदेश भाजपा ने की प्रदेश पदाधिकारियों की घोषणा
-
हिमाचल

हस्तशिल्प का चितेरा डोलाराम

November 24, 2018 06:08 PM

 

रामपुर बुशहर,

अंतर्राष्ट्रीय लवी मेले का पुरातन स्वरूप बेशक दिनों दिन बदल रहा है लेकिन हस्तशिल्प के कदरदानों के लिए एक बाजार आज भी मेला स्थल के समीप सजता है। इस बाजार में मंदिरों में उपयोग होने वाले पारंपारिक वाद्ध् यत्रों से लेकर मूर्तियां और पूजा में काम आने वाले सामानों की खूब मांग रहती है। समय के साथ साथ हस्तशिल्प के कारीगरों की आमद भी कम हो रही है लेकिन हस्तशिल्प का चितेरा कुल्लू जिले के शाड़ाबाई गांव का निवासी डोलाराम आज भी अपनी अनूठी कलाकृतियों के साथ अपने पूर्वजों से चली आ रही परंपरा को निभा रहा है।

डोलाराम को यह कला अपने पूर्वजों से बिरासत में मिली है हालांकि उसने किसी प्रकार का तकनीकी प्रशिक्षण नहीं लिया है फिर भी सिर्फ चेहरा देखकर उसे सांचे में ढालना वह खूब जानता है। देवी देवताओं की मूर्तियां हो या ढोल नगारे, नरसिंघे, करनाल, छत्र, कावली, बाणा आदि डोलाराम के सधे हुए कुशल हाथ उन्हें एक अलग ही पहचान देते हैं। कुल्लू, मंडी, किन्नौर, शिमला जिलों में शायद ही कोई ऐसा मंदिर हो जहां पर डोलाराम का कोई न कोई हस्त निर्मित सामान उपयोग में न आता हो। छोटे से गांव की छोटी सी कार्यशाला में उपरोक्त सामान बनाने का काम पूरे तौर पर हस्त निर्मित होता है मात्र छैनी हथोड़े की सहायता से डोलाराम के कुशल हाथ धातु के टुकड़े को मनचाहा आकार दे देते हैं किसी प्रकार की मशीन का उपयोग नहीं किया जाता है।

सामान्य रूप से उसके हस्तनिर्मित उत्पाद की कीमत साढ़े तीन हजार से लेकर 40 हजार तक होती है। अंतर्राष्ट्रीय लवी मेले के मौके पर प्रदेश भर से आए हस्तशिल्कार अपने अपने हस्तशिल्प का प्रदर्शन करते हैं लेकिन पिछले 12 साल से हस्तशिल्प के पहले पुरस्कार पर डोलाराम कब्जा जमाए हुए है। इस बार भी प्रदेश के मुख्यमंत्री जैराम ठाकुर ने उसे हस्तशिल्प का पहला पुरस्कार पाने पर सम्मानित किया।

Have something to say? Post your comment
 
और हिमाचल खबरें
सभी ग्राम पंचायतों में स्थापित होंगे गर्ल एचीवर साईनबोर्ड-केसी चमन जिला लोक संपर्क अधिकारी कार्यालय कुल्लू कर्मचारी राज्य बीमा निगम ने मैहतपुर में लगाया जागरूता शिविर वंदना बनी जीपीएस सारली  एसएमसी की अध्यक्ष डीसी ने जिला ऊना के निवेशकों की समस्याओं पर ली फीडबैक सुचेता बनी कन्या विद्यालय मिस फेयरवेल 2020 आनी कॉलेज में प्रदर्शनी के माध्यम से छात्रों को दी जानकारी ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर थाना कलां में नेहरू युवा विकास मंडल सासन जिला ऊना में आंका गया सर्वश्रेष्ठ जिला स्तरीय युवा सम्मेलन में डीसी ऊना ने प्रदान किया सम्मान एचडीएफसी बैंक ने इंडिगो के साथ की साझेदारी