Thursday, May 28, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
अपडेट/ : हमीरपुर जिला में कोरोना संक्रमित के पांच नए मामले, अबतक ज़िले में कुल 20 मामले , 15 एक्टिव , 4 ठीक हुए , एक मौत ब्रेकिंग : हमीरपुर ज़िला में एक साथ कोरोना के पाँच मामले आए सामने, संक्रमितों में एक महिला भी शामिल ,ब्रेकिंग : हमीरपुर के नादौन उपमंडल की ग्वाल पत्थर पंचायत में दो व्यक्तियों के कोविड-19 संक्रमित होने की पुष्टिब्रेकिंग: मड़ावग में नेपाली मूल के युवक ने फंदा लगाकर दी जान सेवा का ईनाम : दूसरी बार डीजीपी डिस्क अवॉर्ड से सम्मानित होंगे हमीरपुर के CID इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल ,ख़ास ख़बर : ग़ाज़ियाबाद का एक ऐसा स्कूल जिसने लॉकडाउन में तीन माह की फ़ीस माफ़ की और टीचरों के खाते में डाली सेलरी, हिमाचल के लालची स्कूलों के लिए करारा सबक़चौपाल, नेरवा में कल बंद रहेगी बिजलीहिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय हमीरपुर में ऑनलाईन फेसबुक लाइव के माध्यम से अध्ययन केंद्र का विधिवत उद्घाटन
-
कर्मचारी

गुटबाजी छोड़ सभी कर्मचारियों को एक मंच पर आना होगा, गोपाल दास वर्मा

November 25, 2018 03:00 PM

शिमला,
प्रदेश में कर्मचारी नेतृत्व को सरकार निगम व बोर्डों में उचित प्रतिनिधित्व दे, ताकि कर्मचारी नेतृत्व कर्मचारियों व सरकार के मध्य बेहतर तालमेल का कार्य कर सकें। यह बात हिमाचल प्रदेश सर्वकर्मचारी पेंशनर्स, श्रमिक ,युवा व बेरोजगार संयुक्त मोर्चा के राज्य अध्यक्ष गोपाल दास वर्मा ने कही। ऊना दौरे के दौरान विभिन्न कर्मचारी नेताओं, कर्मचारियों व पेंशनर्स से मुलाकात के बाद वर्मा ने कहा कि कर्मचारी नेतृत्व की उपेक्षा नहीं होनी चाहिए। कर्मचारियों के इतिहास को बनाए रखने के लिए कर्मचारी नेताओं ने संघर्ष किया है और ऐसे में प्रदेश में जब कर्मचारी बड़ी संख्या में निर्णय लेने की स्थिति में हैं तो प्रदेश की जयराम सरकार को कर्मचारियों के प्रतिनिधियों के साथ-साथ पूर्व कर्मचारी नेताओं को उचित सम्मान देने की पहल करनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि सीएम जयराम ठाकुर के नेतृत्व में सरकार ने अनेक निर्णय ऐसे किए हैं, जिससे प्रदेश शिखर की ओर बढ़ रहा है और जनता को उनका लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों की अनेक समस्याओं को भी सरकार सुलझा रही है, लेकिन अनेक मांगे अभी भी ध्यानाकर्षण के लिए बाट जोह रही है। कर्मचारियों की लंबित मांगों को पूरा करवाने के लिए प्रदेश के वर्तमान कर्मचारी नेतृत्व को आपसी संघर्ष व गुटबाजी को छोड़कर एक मंच पर आना चाहिए। वर्मा ने कहा कि नेताओं के भी मार्गदर्शन की की जरूरत होगी तो हम सब तैयार रहेंगे। सभी पूर्व कर्मचारी नेता जो हिमाचल प्रदेश में कर्मचारी आंदोलन का नेतृत्व कर चुके हैं, उन सबको साथ लेकर के कर्मचारी महासंघ की ताकत को बहाल करने का प्रयास किया जा सकता हैं।

Have something to say? Post your comment
 
और कर्मचारी खबरें
सभी पंजीकृत निर्माण मज़दूरों को जल्दी सहायता प्रदान करने की मांग पत्रकारों की विभिन्न मांगों को लेकर प्रेस क्लब शिमला ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को सौंपा ज्ञापन 31 जनवरी, 1 व 2 फरवरी को 150 पदों हेतु साक्षात्कार आंगबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका के पदों के लिए इंटरव्यू 19 दिसंबर को बागवानी विभाग में प्रयोगशाला सहायक के भरे जाएंगे 5 पद रामपुर बुशहर में पेन्शन जागरूकता अभियान का आयोजन 8 जनवरी को हड़ताल करेंगे मज़दूर--डॉ कशमीर ठाकुर पुलिस भर्ती के लिए साक्षात्कार 30 सितम्बर से होंगे शुरू पुलिस कांस्टेबल भर्ती की लिखित परीक्षा का परिणाम घोषित कोर्ट कर्मचारी की मृत्यु पर न्यायिक परिसर में रखा दो मिनट का मौन