Monday, January 30, 2023
Follow us on
-
दुनिया

जगतगुरु शंकराचार्य द्वारा स्थापित शिवलिंग की काशी नगरी में बहुत महत्ता; धर्म चंद्र पोद्दार

ब्यूरो हिमालयन अपडेट 7018631199 | December 06, 2022 07:19 AM

वाराणसी ,

सिगरा वाराणसी के ब्रह्म निवास में स्थित शांतेश्वर महादेव मंदिर के बारे में जानकारी देते हुए अंतर्राष्ट्रीय संगठन भारतीय जन महासभा के अध्यक्ष धर्म चंद्र पोद्दार ने बताया कि ब्रह्म निवास की स्थापना ज्योतिष पीठाधीश्वर जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी श्री ब्रह्मानंद सरस्वती जी ने की थी। उन्हीं के नाम पर ब्रह्म निवास है।
उनके बाद शंकराचार्य स्वामी श्री शांतानंद सरस्वती जी हुए। फिर शंकराचार्य स्वामी विष्णु देवानंद सरस्वती जी हुए। उनके भी बाद शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती जी हुए।
वर्तमान ज्योतिष पीठाधीश्वर जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती जी ने शंकराचार्य स्वामी श्री शांतानंद सरस्वती जी से दीक्षा ली थी। उन्होंने अपने गुरु के नाम पर शांतेश्वर महादेव की स्थापना ब्रह्म निवास, सिगरा वाराणसी में की।
गत 90 वर्षों में श्री काशी नगरी के इतिहास में किसी भी स्थान पर शिवलिंग की स्थापना किसी भी शंकराचार्य जी के द्वारा हुई तो वह है ब्रह्म निवास में स्थापित शांतेश्वर महादेव।
जगतगुरु शंकराचार्य जी के द्वारा स्थापित इस शिवलिंग की काशी नगरी में बहुत महत्ता है। प्रतिदिन अनेक लोग वहां पूजा-अर्चना व दर्शन के लिए आते हैं।  

Have something to say? Post your comment
और दुनिया खबरें
गुरुग्राम की साहित्यकार प्रीति मिश्रा को 'सहोदरी रत्न'की उपाधि 'भाषा सहोदरी रत्न 'से मॉरिशस में सम्मानित हुई वरिष्ठ साहित्यकारा मीना चौधरी राजनाथ सिंह अरुणाचल जा LAC से सटे सियांग में पुल का करेंगे उद्घाटन https://youtu.be/wjzeFZSLQVo विश्व के सबसे ऊंचे मतदान केंद्र टा शीगंग में हुआ शत प्रतिशत मतदान https://youtu.be/p3bbaPBxL6U अस्पताल से सीधा मतदान करने पहुंचे रामचंद्र डॉ. शम्भू पंवार ऑफिसियल वर्ल्ड रिकॉर्ड से संम्मानित Our Culture, Our Heritage, Our Pride! राजधानी शिमला में राज्‍य स्‍तरीय बैंकरर्ज़ समिति की बैठक सम्‍पन्‍न हिमालयन अपडेट समाचार- पत्र एवं साहित्य सृजन मंच की 5वीं वर्षगांठ पर 19 जून 2022 को शिमला में 'हिमालयन साहित्य महोत्सव व कवि सम्मेलन' का भव्य आयोजन संपन्न* रामपुर एचपीएस में मनाया गया अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस
Total Visitor : 1,39,83264
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy