Saturday, February 27, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/XtZXmzukedcनगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआहमीरपुर जिला में हर्षोल्लास से मनाया गया 72वां गणतंत्र दिवस समारोह, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने की जिला स्तरीय समारोह की अध्यक्षता, राष्ट्रध्वज फहराकर मार्चपास्ट की सलामी लीसमीक्षा : वार्ड पंच से लेकर जिला परिषद तक पटक डाले जनता ने , हेकड़ी , घमंड व बड़े नेताओं की धौंस हुईं जमींदोज पंचायत चुनाव : भीतरघात का ऑडियो वायरल, खूब हो रही चर्चाप्रथम चरण में हमीरपुर जिला में दिग्गजों ने किया मतदान, धूमल अनुराग ने समीरपुर , राजेंद्र राणा व अभिषेक राणा ने पटलांदर में किया मतदान
-
हिमाचल

मुख्यमंत्री ने की पर्वतीय क्षेत्रों में अलग से ऊर्जा ट्रांसमिशन नीति की वकालत

November 29, 2018 06:00 PM
 शिमला ,          .
 
मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों के लिए अलग से लागत प्रभावी तथा विश्वसनीय ऊर्जा संचरण एवं वितरण प्रणाली विकसित करने की आवश्यकता है, जो उपभोक्ताओं को निर्बाध विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करेगी। वह आज यहां केन्द्रीय सिंचाई एवं ऊर्जा बोर्ड तथा सीआईजीआरई-इण्डिया द्वारा हिमाचल प्रदेश ऊर्जा संचरण निगम सीमित के संयुक्त तत्वाधान में ‘पर्वतीय क्षेत्र में ट्रांसमिशन लाईनों के निर्माण में चुनौतियां’ विषय पर आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन की अध्यक्षता कर रहे थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में ऊर्जा क्षेत्र तेजी के साथ विकसित हो रहा है तथा सम्मेलन नवीनतम तकनीकों पर खुली परिचर्चा तथा सूचना के आदान-प्रदान के लिए मंच प्रदान करेगा, जो ऊर्जा क्षेत्र में हो रही उन्नति के अनुरूप नवाचारों तथा नवीनतम ज्ञान हासिल करने के लिए पेशेवरों के लिए अति-आवश्यक है। उन्होंने कहा कि ढ़लानों का ठहराव, भूःस्खलन, ग्लेशियर जैसे मुददों का प्रभावी समाधान आवश्यक है।
 जय राम ठाकुर ने कहा कि राज्य ऊर्जा संचरण निगम सीमित राज्य में जल विद्युत परियोजनाओं के लिए ट्रांसमिशन प्रणाली को विकसित कर रहा है। उन्होंने कहा कि पहाड़ी क्षेत्रों में ट्रांसमिशन लाइनें बिछाना मैदानी क्षेत्रों की अपेक्षा काफी कठिन है, इसलिए उपभोक्ताओं को विश्वसनीय, निर्बाध तथा लागत प्रभावी विद्युत आपूर्ति प्रदान करने के लिए विशेष कार्यनीति तैयार करने की आवश्यकता है। 
उन्होंने कहा कि लगभग 10 हजार मेगावाट क्षमता की जल विद्युत परियोजना क्रियान्वयन के विभिन्न चरणों में है और यह सुनिश्चित करने के प्रयास किए जा रहे है कि यह सभी परियोजनाएं शीघ्र आरम्भ की जा सकें। हिमाचल प्रदेश का 1988 में शत-प्रतिशत विद्युतीरकण हो चुका था। उन्होंने कहा कि पूरी हो चुकी जल विद्युत परियोजनाओं से प्रभावी विद्युत प्राप्त करने के प्रयास किए जा रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने वन वैली वन लाइन पर बल दिया। उन्होंने कहा कि राज्य में सौर ऊर्जा को प्रोत्साहित करने के भी प्रयास किए जा रहे हैं और उनका मानना है कि गांवों में सौर बिजली सुविधा प्रदान की जानी चाहिए। 
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर सम्मेलन की कार्यवाही को भी जारी किया। 
बहुद्देशीय परियोजनाएं एवं ऊर्जा मंत्री अनिल शर्मा ने कहा कि राज्य सरकार मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के दूरदर्शी नेतृत्व में हिमाचल को देश का ‘ऊर्जा राज्य’ बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। राज्य सरकार ने राज्य में ऊर्जा उत्पादकों को अनेक प्रोत्साहन सुनिश्चित करने के लिए नई ऊर्जा नीति तैयार की है। राज्य सरकार उपभोक्ताओं को निर्बाध बिजली आपूर्ति प्रदान करने के लिए भी कृतसंकल्प है। 
अतिरिक्त मुख्य सचिव एवं हि.प्र. राज्य विद्युत बोर्ड के अध्यक्ष डॉ. श्रीकान्त बाल्दी ने कहा कि राज्य ने अभी तक 10500 मेगावाट विद्युत क्षमता का दोहन कर लिया है। उन्होंने कहा कि राज्य ने नई ऊर्जा नीति भी तैयार की है। 
एसजेवीएनएल के अध्यक्ष एवं प्रबन्ध निदेशक नन्द लाल शर्मा ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में 27000 मेगावाट की विद्युत क्षमता मौजूद है, जो देश की कुल क्षमता का एक चौथाई है। उन्होंने कहा कि पहाड़ी राज्य होने के नाते यहां ऊर्जा ट्रांसमिशन लाइनों के निर्माण के लिए विशेष डिज़ाईन की आवश्यकता है। 
निदेशक केन्द्रीय सिंचाई एवं ऊर्जा बोर्ड पी.पी. वाही ने कहा कि हमारे देश में भिन्न-भिन्न भौगोलिक परिस्थितियां हैं जिनके चलते विभिन्न भागों में अलग-अलग मौसम रहता है, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि विशेषकर पर्वतीय क्षेत्रों में ट्रांसमिशन लाइनों के निर्माण में आने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए एक उपयुक्त नीति तैयार की जाए। 
हि.प्र. ऊर्जा संचरण निगम के प्रबन्ध निदेशक आर.के. शर्मा ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।
प्रधान सचिव ऊर्जा प्रबोध सक्सेना, एचपीपीसीएल के प्रबन्ध निदेशक देवेश कुमार, हि.प्र. राज्य विद्युत बोर्ड के प्रबन्ध निदेशक जे.पी. काल्टा सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
 
Have something to say? Post your comment
और हिमाचल खबरें
पेदग-शिमला बस सेवा बंद होने से लोग परेशान ! आनी में भाजपा का दो दिवसीय कार्यकर्ता अभ्यास वर्ग 27 फरबरी से जल शक्ति मंत्री 28 को करेंगे शिवरात्रि मेले के प्रबंधों की समीक्षा देव नारायण फनौटी की प्राण प्रतिष्ठा में शरीक हुए विधायक किशोरीलाल सागर जिला बाल संरक्षण समिति की समीक्षा बैठक आयोजित स्वच्छ गांव हरा भरा गांव के तहत एक दिवसीय कार्यक्रम आयोजित मंडी में शिवधाम....विकास को मिलेंगे नए आयाम परियोजना प्रभावित परिवारों की घोषणा का मामला विचाराधीन  -अतिरिक्त उपायुक्त  महिला मोर्चा ने आनी व निरमण्ड में आयोजित की बैठक प्रदेश में 2.85 लाख महिलाओं को निःशुल्क गैस कुनैक्शन उपलब्ध