Friday, April 03, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग : लॉक डाउन ( 14 अप्रैल ) तक निजी स्कूल नहीं कर सकते मासिक फ़ीस व एडमिसन फ़ीस जमा करने की डिमांड , होगी सख़्त कार्यवाही, शिक्षा विभाग ने जारी की नोटिफ़िकेशनलाकडाऊन का उल्लंघन, नशा कारोबारी सक्रियभाजपा के ब्यानवीर संकट के समय में सकारात्मक दृष्टिकोण का परिचय दें : प्रेम कौशलब्रेकिंग : 14 कश्मीरी मज़दूर बाड़ी- फ़रनोल के पास फँसे , राशन ख़त्म , ठेकेदार नहीं कर रहा हिसाब किताब , मज़दूर घर लौटने को अड़ेभोरंज में रणजीत सिंह और मुख्तियार सिंह दुकानदारों पर एफ़आईआर दर्ज, वसूल रहे थे फलों और सब्ज़ियों के अधिक मूल्यनवाँ नौशहरा में 80 जरूरतमंदों को बांटा राशनहिमाचल प्रदेश में अब सरकारी स्कूल और सरकारी दफ्तर 14 अप्रैल तक बंदउपायुक्त ने की रेड क्रॉस को दान देने की अपील 
-
कारोबार

30 रुपए मिले दूध का मूल्य, दुग्ध उत्पादकों ने उठाई मांग

December 01, 2018 07:10 PM

 

कुमारसैन, 

ग्रामीण क्षेत्रों के दुग्ध उत्पादकों ने मिल्क फेडरेशन से दूध के दाम 30 रुपए प्रति लिटर करने की मांग उठाई है। उनका कहना है कि दुग्ध उत्पादक फेडरेशन द्वारा तय की गई दर बहुत कम है दूध की लागत इससे कहीं अधिक बैठती है। दुग्ध उत्पादन करने वाले ग्रामीणों को दुधारू पशुओं को पालने पोसने के लिये फीड, चोकर, घास आदी की व्यवस्था करने में अब ज्यादा खर्चा आ रहा है। हाल में मिल्क फेडरेशन द्वारा दुग्ध उत्पादको से 15 से 22 रुपए तक प्रति लिटर के हिसाब से दूध की खरीददारी की जा रही है। ग्राम पंचायत बनाहर पंचायत के चिमथला, बनाहर और छबोग गांवों के ग्रामीणों के अनुसार मिल्क फेड गांव के गरीब किसानों से एक लीटर दूध मात्र 15 से 18 रुपये में खरीद रहे हैं जबकि चोकर की बोरी एक हजार रुपये में मिल रही है। ग्रामीणों का तर्क है कि मिनरल पानी की एक लीटर पानी की कीमत 20 रूपये है और दूध पानी से भी सस्ता बिक रहा है इससे बड़ी बिसंगति और क्या हो सकती है। इतना ही नहीं मिल्कफेड दुग्ध उत्पादकों को पेमेंट भी तीन चार महीनों के बाद अदा करता है।

महिला मंडल प्रधान छबोग सीमा देवी अन्य ग्रामीण श्याम सिंह जोगिन्दर सिंह मीना देवी लता देवी आदि ग्रामीणों ने सरकार से मांग की है कि दूध के दाम प्रति लीटर कम से कम 30 रुपए होने चाहिए ताकि ग्रामीणों को मुनासिब दाम मिल सके। राजीव् गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश समन्वयक दीपक राठौर ने ग्रामीणों की इस मांग को प्रदेश सरकार से उठाने की बात कही है और कहा कि संगठन प्रदेश स्तर पर दुग्ध उत्पादकों को एकत्रित कर इसे जनांदोलन बनाने की मुहिम को लेकर जल्द जिला संयोजकों और प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक कर दुग्ध उत्पादकों के हितों की रक्षा के लिये हर संभव प्रयास करेगा।

इस बारे डायरेक्टर मिल्क फेडरेशन शिमला किन्नौर मृगेंद्र कंवर का कहना है कि मिल्क फेडरेशन कुमारसैन मे दुग्ध उत्पादकों की बैठक कर उनकी मांगो व समस्याओं पर विचार विमर्श करेगी और सरकार से मांगो को पूरा करने के लिये हर संभव प्रयास करेगी।

Have something to say? Post your comment
 
और कारोबार खबरें
सरकार द्वारा दूध के दाम बढ़ाने पर जताया आभार एसजेवीएन ने अरुणाचल प्रदेश की संभावित जलविद्युत क्षमता के दोहन में रुचि व्‍यक्‍त एसजेवीएन सर्वश्रेष्‍ठ जलविद्युत कंपनी के सीबीआईपी अवार्ड 2020 से सम्मानित हिमाचल सरकार ने 10095 करोड़ के समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए मर्जर के खिलाफ देश भर में आज बैंक रहे बंद बंजार के बागबान पदम देव ने अनार से की आर्थिकी सुदृढ़ हाईब्रीड मक्की बीज ने मालामाल किए किसान,सुदृड़ हुई आर्थिकी उद्योग मंत्री ने जीएसटी परिषद की 37वीं बैठक में भाग लिया कॉर्पोरेट टैक्स को घटाकर 22 प्रतिशत किए जाने का निर्णय सराहनीयः मुख्यमंत्री कार्यशाला के बाद प्रतिष्ठित महिलाओं ने सूरज स्वीट्स एवं रेस्टोरेंट में किया लंच , जमकर की तारीफ