Friday, September 25, 2020
Follow us on
-
हिमाचल

निरमंड की बूढ़ी दिवाली पर हो रही राजनीति हावी

December 05, 2018 09:01 PM

 

रामपुर बुशहर,

निरमंड में प्रतिवर्ष मनाई जाने वाली जिला स्तरीय बूढ़ी दिवाली मेला पर अब राजनीति हावी होने लगी है। गौर हो कि बूढ़ी दिवली का पर्व का आयोजन मेला कमेटी व प्रशासन के संयुक्त प्रयास से किया जाता है। एसडीएम आनी जिसके अध्यक्ष होते हैं लेकिन इसबार इस बार एसडीएम आनी ने बिना मेला कमेटी व कल्चरल कमेटी को विश्वास में लिए सांस्कृतिक संध्या के आयोजन के लिए कलाकारों का स्वेच्छा से ही चयन कर दिया। स्थानीय लोगों व कल्चरल कमेटी ने आरोप लगाया है कि सांस्कृतिक संध्या के लिए जिन कलाकारों को टेंडर आबंटित किया गया है उसमें पारदर्शिता नहीं रखी गई बल्कि किसी बाहरी व्यक्ति को गुपचुप तरीके से टेंडर दे दिया गया, मेला कमेटी व स्थानीय कलाकारों को नजर अंदाज किया गया है।

लोगों का कहना है कि जिस व्यक्ति को सांस्कृतिक संध्या में कार्यक्रम प्रस्तुत करने का टेंडर दिया गया वह पूर्व निर्धारित प्रतीत होता है क्योंकि टेंडर प्रकृया में पारदर्शिता नहीं रखी गई। स्थानीय विधायक किशोरी लाल से भी लोगों ने संपर्क किया तथा स्थानीय कलाकारों को नजर अंदाज करने की शिकायत की तो विधायक का सीधा सा जवाब रहा कि मैं क्या कर सकता हूं। लोगों का कहना है कि किसी ओहदेदार राजनीतिज्ञ के हस्तक्षेप से ऐसा किया गया है। आरोप यह भी है कि जिस व्यक्ति को टेंडर दिया गया वह एसडीएम साहब की गाड़ी में उनके साथ ही आया था।

एसडीएम साहब अपना फरमान जारी कर चले गए यहां तक कि फोन पर संपर्क करने की जरूरत भी नहीं समझी इससे लोगों में भारी रोष है तथा वे निष्पक्ष जांच की मांग कर रहे हैं। उधर मौके पर मौजूद तहसीलदार नीरजा शर्मा ने लोगों द्वारा लगाए गए आरोपों को सिरे से नकार दिया। उनका कहना है कि अनियमितता के आरोप निराधार हैं जिन लोगों को टेंडर नहीं मिला वे ही आरोप लगा रहे है। कमेटी का ऐसा कोई निर्णय नहीं है कि बाहरी व्यक्ति को टेंडर न दिया जाए इस कार्य के लिए बाकायदा बिडिंग की गई है क्योंकि मेले का प्रेक्टीकल पार्ट प्रशासन के पास ही रहता है।

स्थानीय निवासी गजरू राम का कहना है कि एसडीएम साहब ने व्यक्ति विशेष को सपोर्ट किया है यह भ्रष्टाचार है इसकी निषक्ष जांच की जानी चाहिए। प्रतिभागी व स्थानीय निवासी सुरेश कुमार का कहना है कि हम दो लोगों के रेट एक समान थे एसडीएम ने सुबह आकर नेगोशिएशन करने की बात कही थी लेकिन उन्होंने दूसरे व्यक्ति को देर शाम को ही टैंडर दे दिया और मुझे बाहर कर दिया। अध्यक्ष किसान सभा निरमंड पूरन ठाकुर का कहना है कि टेंडर प्रकृया में पादर्शिता नहीं रखी गई है एसडीएम आनी ने शाम पांच बजे के बाद अपनी मर्जी से एक तरफा फैसला लेते हुए अपने चहेते को टेंडर दे दिया कमेटी को भी विश्वास में नहीं लिया इससे लोगों में भारी रोष है तथा इसकी लिष्पक्ष जांच होनी चाहिए। विकास शर्मा, उपप्रधान निरमंड व नॉन आफिशियल सदस्य मेला कमेटी ने भी कहा कि मेंबर होने के नाते उन्हें व कमेटी के अन्य सदस्यों को भी सूचित नहीं किया गया स्थानीय युवाओं को नजर अंदाज कर बाहरी व्यक्ति को टेंडर दिया गया है इससे स्थानीय लोग निराश हुए हैं।

Have something to say? Post your comment
और हिमाचल खबरें
किसानों के लिए वरदान साबित होगा कृषक उत्पाद, व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्द्ध्रन एवं सरलीकरण) विधेयकः मुख्यमंत्री जिला के 13 क्षेत्र हुए कंटेनमेंट जोन में शामिल जबकि 16 क्षेत्र हुए हॉटस्पॉट सूची से बाहर दो माह बीत जाने पर भी आनी को  नहीं मिल पाया नया डीएसपी सांसद किशन कपूर ने केंद्र से भांदल पंचायत में मोबाइल टावर लगाने का किया अनुरोध 8 से 31 अक्टूबर तक चंबा जिला में होगी वेब सीरीज लाइन- 3 की शूटिंग  जिला के 13 क्षेत्र हुए कंटेनमेंट जोन में शामिल जबकि 15 क्षेत्र हुए हॉटस्पॉट सूची से बाहर सोलन जिला से आज कोरोना संक्रमण जांच के लिए भेजे गए 216 सैम्पल पटारना में उचित मूल्य की दुकान के आबंटन को मांगे आवेदन मीट व चिकन का अधिक दाम वसूलने पर की कार्यवाही कार्यकारी अधिकारी और सचिव की भर्ती परीक्षा में बैठ सकेंगे कोरोना पॉजिटिव अभ्यर्थी