Monday, May 25, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
अपडेट/ : हमीरपुर जिला में कोरोना संक्रमित के पांच नए मामले, अबतक ज़िले में कुल 20 मामले , 15 एक्टिव , 4 ठीक हुए , एक मौत ब्रेकिंग : हमीरपुर ज़िला में एक साथ कोरोना के पाँच मामले आए सामने, संक्रमितों में एक महिला भी शामिल ,ब्रेकिंग : हमीरपुर के नादौन उपमंडल की ग्वाल पत्थर पंचायत में दो व्यक्तियों के कोविड-19 संक्रमित होने की पुष्टिब्रेकिंग: मड़ावग में नेपाली मूल के युवक ने फंदा लगाकर दी जान सेवा का ईनाम : दूसरी बार डीजीपी डिस्क अवॉर्ड से सम्मानित होंगे हमीरपुर के CID इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल ,ख़ास ख़बर : ग़ाज़ियाबाद का एक ऐसा स्कूल जिसने लॉकडाउन में तीन माह की फ़ीस माफ़ की और टीचरों के खाते में डाली सेलरी, हिमाचल के लालची स्कूलों के लिए करारा सबक़चौपाल, नेरवा में कल बंद रहेगी बिजलीहिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय हमीरपुर में ऑनलाईन फेसबुक लाइव के माध्यम से अध्ययन केंद्र का विधिवत उद्घाटन
-
विशेष

नेरवा अस्पताल में लोगों की सेहत से खिलवाड़; आखिर कब तक ?

January 08, 2019 08:49 PM

नेरवा,

किसी भी दुर्घटना के होने के बाद नेरवा अस्पताल का विवादों में आना कोई नई बात नहीं है ! ऐसे समय में नेरवा अस्पताल का चोली दामन का साथ रहा है ! यही बात मंगलवार को नेरवा देइया मार्ग पर मंगलवार को हुए कार हादसे के बाद भी सामने आई ! हादसे के घायलों को जब नेरवा अस्पताल लाया गया तो अस्पताल में एक भी एमबीबीएस डॉक्टर मौजूद नहीं था ! नेरवा अस्पताल में इस समय कोई भी वरिष्ठ चिकित्सक तैनात नहीं हैं,वर्तमान में यहां  तीन चिकित्सक तैनात हैं व यह तीनों ही जूनियर हैं ! अस्पताल यह तीनों जूनियर चिकित्सक एमडी की परीक्षाएं देने के लिए बाहर गए हुए थे ! चिकित्स्कों की गैरहाजिरी में अस्पताल में तैनात दन्त चिकित्सक ने एक आयर्वेदिक चिकित्सक व दो स्टाफ नर्सों के साथ मिल कर घायलों को प्राथमिक उपचार दिया ! जिस वजह से स्थानीय लोग भड़क उठे है,लोगों में स्वास्थ्य विभाग के इस लापरवाही भरे रवैये के प्रति गुस्सा है  ! लोगो का आरोप है कि नेरवा अस्पताल में तैनात चिकित्सक जब परीक्षाएं देने गए थे तो अस्पताल में एमबीबीएस चिकित्सक की वैक्लपिक व्यवस्था क्यों नहीं की गई ! इसके आलावा हादसों के समय अस्पताल में स्टाफ की कमी भी सामने आती रहती है ! नेरवा व चौपाल दोनों अस्पतालों में स्टाफ नर्सों के छह छह पद है,परन्तु वर्तमान समय में नेरवा में दो और चौपाल में एक स्टाफ नर्स तैनात है ! नेरवा से एक स्टाफ नर्स को जरूरत पड़ने पर चौपाल डेपुटेशन पर भेज दिया जाता है ! मंगल वार को हादसे के बाद एमबीबीएस चिकित्सक की सेवायें न मिलने से क्षेत्रवासी भड़के हुए हैं व स्वास्थ्य मंत्री से मांग की है कि इस बात की जांच की जाए कि चिकित्स्कों के छुट्टी जाने पर यहां पर एमबीबीएस चिकित्सक की वैकल्पिक व्यवस्था क्यों नहीं की गई !

Have something to say? Post your comment
 
और विशेष खबरें