Wednesday, August 05, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
विशेष : अश्वमेध यज्ञ के समय निर्मित राम-सीता की मूर्तियाँ कुल्लू में हैं स्थापित, अयोध्या से कुल्लू का 370 साल पुराना रिश्तानाथपा झाकड़ी हाइड्रो पावर स्टेशन ने जुलाई माह के अपने पिछले सारे रिकार्ड को तोड़ते हुए सर्वाधिक मासिक विद्युत-उत्पादन का बनाया नया रिकॉर्डहिमाचल कैबिनेट : बड़ा फेरबदल, बिक्रम ठाकुर को मिला उद्योग के साथ परिवहन मंत्रालयGood News : मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व परिवार वालों की रिपोर्ट नेगेटिवGood News : मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व परिवार वालों की रिपोर्ट नेगेटिव ब्रेकिंग : कोरोना वायरस ने मुख्यमंत्री कार्यालय में दी दस्तक, उप-सचिव निकले कोरोना पॉजिटिवआगे-पीछे दुकानें आवंटित करने पर खोखा मार्केट यूनियन ख़फ़ा, हाईकोर्ट से लगाई शीघ्र न्याय प्रदान करने की गुहारबस में भी लगातार हैंड सैनिटाईजर का प्रयोग करें यात्री : डाक्टर विवेक शर्मा
-
विशेष

नेरवा अस्पताल में लोगों की सेहत से खिलवाड़; आखिर कब तक ?

January 08, 2019 08:49 PM

नेरवा,

किसी भी दुर्घटना के होने के बाद नेरवा अस्पताल का विवादों में आना कोई नई बात नहीं है ! ऐसे समय में नेरवा अस्पताल का चोली दामन का साथ रहा है ! यही बात मंगलवार को नेरवा देइया मार्ग पर मंगलवार को हुए कार हादसे के बाद भी सामने आई ! हादसे के घायलों को जब नेरवा अस्पताल लाया गया तो अस्पताल में एक भी एमबीबीएस डॉक्टर मौजूद नहीं था ! नेरवा अस्पताल में इस समय कोई भी वरिष्ठ चिकित्सक तैनात नहीं हैं,वर्तमान में यहां  तीन चिकित्सक तैनात हैं व यह तीनों ही जूनियर हैं ! अस्पताल यह तीनों जूनियर चिकित्सक एमडी की परीक्षाएं देने के लिए बाहर गए हुए थे ! चिकित्स्कों की गैरहाजिरी में अस्पताल में तैनात दन्त चिकित्सक ने एक आयर्वेदिक चिकित्सक व दो स्टाफ नर्सों के साथ मिल कर घायलों को प्राथमिक उपचार दिया ! जिस वजह से स्थानीय लोग भड़क उठे है,लोगों में स्वास्थ्य विभाग के इस लापरवाही भरे रवैये के प्रति गुस्सा है  ! लोगो का आरोप है कि नेरवा अस्पताल में तैनात चिकित्सक जब परीक्षाएं देने गए थे तो अस्पताल में एमबीबीएस चिकित्सक की वैक्लपिक व्यवस्था क्यों नहीं की गई ! इसके आलावा हादसों के समय अस्पताल में स्टाफ की कमी भी सामने आती रहती है ! नेरवा व चौपाल दोनों अस्पतालों में स्टाफ नर्सों के छह छह पद है,परन्तु वर्तमान समय में नेरवा में दो और चौपाल में एक स्टाफ नर्स तैनात है ! नेरवा से एक स्टाफ नर्स को जरूरत पड़ने पर चौपाल डेपुटेशन पर भेज दिया जाता है ! मंगल वार को हादसे के बाद एमबीबीएस चिकित्सक की सेवायें न मिलने से क्षेत्रवासी भड़के हुए हैं व स्वास्थ्य मंत्री से मांग की है कि इस बात की जांच की जाए कि चिकित्स्कों के छुट्टी जाने पर यहां पर एमबीबीएस चिकित्सक की वैकल्पिक व्यवस्था क्यों नहीं की गई !

Have something to say? Post your comment
और विशेष खबरें
विशेष : अश्वमेध यज्ञ के समय निर्मित राम-सीता की मूर्तियाँ कुल्लू में हैं स्थापित, अयोध्या से कुल्लू का 370 साल पुराना रिश्ता कोरोना काल में मार्गदर्शक बना गोगटा लोकमित्र केंद्र मडावग ! सेवा का ईनाम : दूसरी बार डीजीपी डिस्क अवॉर्ड से सम्मानित होंगे हमीरपुर के CID इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल , पवन 6 महीने बाद घर लौटे बेटियों को गले तक नहीं लगाया 8 हजार फीट पर क्वारंटीन हुए हर जगह है माँ : इंदरपाल कौर चंदेल क्वारंटीन से निकलते ही कोरोना की लड़ाई में डटे आदित्य ना केवल गांव के लिए बल्कि प्रदेश के लिए मिसाल बने मनीष धनी राम को नर्सरी ने बनाया धनवान 1 मई मजदूर दिवस विशेष परिवार की जिम्मेबारियों से समय निकालकर मास्क बनाने में जुटीं भाजपा मंडल आनी की सचिव रीना भारद्वाज