Thursday, April 02, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग : लॉक डाउन ( 14 अप्रैल ) तक निजी स्कूल नहीं कर सकते मासिक फ़ीस व एडमिसन फ़ीस जमा करने की डिमांड , होगी सख़्त कार्यवाही, शिक्षा विभाग ने जारी की नोटिफ़िकेशनलाकडाऊन का उल्लंघन, नशा कारोबारी सक्रियभाजपा के ब्यानवीर संकट के समय में सकारात्मक दृष्टिकोण का परिचय दें : प्रेम कौशलब्रेकिंग : 14 कश्मीरी मज़दूर बाड़ी- फ़रनोल के पास फँसे , राशन ख़त्म , ठेकेदार नहीं कर रहा हिसाब किताब , मज़दूर घर लौटने को अड़ेभोरंज में रणजीत सिंह और मुख्तियार सिंह दुकानदारों पर एफ़आईआर दर्ज, वसूल रहे थे फलों और सब्ज़ियों के अधिक मूल्यनवाँ नौशहरा में 80 जरूरतमंदों को बांटा राशनहिमाचल प्रदेश में अब सरकारी स्कूल और सरकारी दफ्तर 14 अप्रैल तक बंदउपायुक्त ने की रेड क्रॉस को दान देने की अपील 
-
कारोबार

सतलुज नदी में जलस्तर कम होने से गिरा विद्युत उत्पादन

@Bureau | February 08, 2019 04:27 PM
सतलुज नदी में जलस्तर कम होने से गिरा विद्युत उत्पादन

 रामपुर बुशहर, 

प्रदेश के ऊपरी क्षेत्रों के पहाड़ों पर हो रही लगातार बर्फबारी के कारण कारण सतलुज के पानी में की कमी आ गई है, सतलुज के सहायक नदी नालों में भी जलस्तार गिर गया है। पानी की कमी के चलते जलविद्युत परियोजनाओं के उत्पादन पर भी असर पड़ने लगा रहा है। एशिया की सबसे बड़ी भूमिगत जल विद्युत परियोजना 1500 मेगावाट  नाथपा-झाकड़ी में आजकल विद्युत उत्पादन 36 मिलियन यूनिट से घट कर 6 मिलियन यूनिट रह गया है। गर्मियों में सतलुज नदी का जल स्तर 1300 से 1600 क्यूमेक्स या इससे भी ऊपर रहता है जो आजकल घट कर केवल 70 क्यूमेक्स ही रह गया है। गौर हो कि एजेवीएन उत्तरी भारत के 9 राज्यों की बिजली आपूर्ति पूरी करता है बिजली उत्पादन कम होने से उत्तरी भारत के राज्यों को बिजली की किल्ल्त झेलनी न पड़े इसके लिए थरमल पावर कारपोरेशन द्वारा पूरी की जा रही है। गर्मियों के आगाज के साथ सतलुज नदी का जल स्तर बढ़ने लगेगा साथ भी विद्युत उत्पादन में भी इजाफा होगा क्योंकि पहाड़ों पर पर्याप्त रूप से बर्फवा्री हुई है।

नाथपा झाकड़ी जल विद्युत परियोजना 1500 मैगावाट परियोजना प्रमुख संजीव सूद ने बताया कि पहाड़ों पर लगातार हो रही बर्फबारी से ठंड बढ़ने से सतलुज नदी में भी पानी कम हुआ है। सतलुज नदी का जल स्तर नाथपा नामक स्थान में इन दिनों 70 क्यूमेक्स है जब कि गर्मियों में जलस्तर 1300 क्यूमेक्स से ऊपर रहता है। परियोजना में आजकल बिजली का उत्पादान 6 मिलियन यूनिट चल रहा है मई माह के बाद बिजली उत्पादन 36 मिलियन यूनिट रहता है।  परियोजना प्रमुख संजीव सूद ने बताया कि 1500 मेगावाट नाथपा झाकड़ी परियोजना से प्रतिवर्ष 1500 से 1800 करोड़ का लाभ होता है सर्दियों में परियोजना की मशीनरी की मेंटेनेंस का कार्य भी किया जाता है जबकि गर्मियों में थरमल पावर कार्पोरेशन मेंटेनेंस का काय करता है।

Have something to say? Post your comment
 
और कारोबार खबरें
सरकार द्वारा दूध के दाम बढ़ाने पर जताया आभार एसजेवीएन ने अरुणाचल प्रदेश की संभावित जलविद्युत क्षमता के दोहन में रुचि व्‍यक्‍त एसजेवीएन सर्वश्रेष्‍ठ जलविद्युत कंपनी के सीबीआईपी अवार्ड 2020 से सम्मानित हिमाचल सरकार ने 10095 करोड़ के समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए मर्जर के खिलाफ देश भर में आज बैंक रहे बंद बंजार के बागबान पदम देव ने अनार से की आर्थिकी सुदृढ़ हाईब्रीड मक्की बीज ने मालामाल किए किसान,सुदृड़ हुई आर्थिकी उद्योग मंत्री ने जीएसटी परिषद की 37वीं बैठक में भाग लिया कॉर्पोरेट टैक्स को घटाकर 22 प्रतिशत किए जाने का निर्णय सराहनीयः मुख्यमंत्री कार्यशाला के बाद प्रतिष्ठित महिलाओं ने सूरज स्वीट्स एवं रेस्टोरेंट में किया लंच , जमकर की तारीफ