Tuesday, February 25, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
( ब्रेकिंग ) हमीरपुर: दीवार पर पोस्टर लगाकर पूर्व सैनिक ने महिला प्रधान के ख़िलाफ़ लिखे अश्लील शब्द , दो अन्य लोगों के ख़िलाफ़ भी लिखे जातिसूचक शब्द, मैड़ के कश्मीर सिंह के ख़िलाफ़ FIR दर्ज।हिमाचल प्रदेश भाजपा ने की प्रदेश पदाधिकारियों की घोषणामुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को जाता है बदला-बदली के दौर को ख़त्म करने का श्रेय : नरेंद्र ठाकुरब्रेकिंग : शिक्षा विभाग उठाएगा एसिड पीड़ित छात्राओं के इलाज का ख़र्च , जाँच के बाद निष्कासित होगा आरोपित छात्र , पीड़ित परिवार को नहीं मिली एफ़आईआर की कॉपी(ब्रेकिंग) हमीरपुर : मर्डर केस में पुलिस के हत्थे चढ़ा आरोपी आमिर खान, गिरफ़्तारी के बाद पुलिस ने तेज़ की जाँच Breaking News : नारकंडा में कार दुर्घटनाग्रस्त एक की मौतएसिड प्रकरण : आरोपी के ख़िलाफ़ रविवार को एफ़आईआर नंबर 13/2020 दर्ज, उटपुर पीएचसी से पुलिस ने लिए एमएलसी, आई जाँच में तेज़ी।एसिड प्रकरण : राम भरोसे सरकारी स्कूलों की विज्ञान प्रयोगशालाएँ , चपड़ासी से प्रोमोट हो लैब अटेंडेंट दे रहे सेवाएँ, हाई स्कूलों में नहीं है लैब अटेंडेंट की पोस्ट
-
विशेष

राष्ट्रीय होली मेले पर विशेष: 1795 में सुजानपुर में पहली बार खेली गई थी तिलक होली

रजनीश शर्मा | March 20, 2019 04:55 PM

 

हमीरपुर, 

 विश्व के सबसे प्राचीन कटोच वंश के 481 वें महाराजा संसार चंद ने सुजानपुर के चौगान में 1795 में प्रजा के साथ पहली बार राजमहल में तैयार खास तरह के गुलाल से तिलक होली खेली थी। अब इस चौगान में राष्ट्रीय होली आयोजित की जा रही है। नगर के एक छोर में करीब 300 वर्ष पुराने राधा कृष्ण मंदिर से होली का महाराज ने आगाज किया था। कटोच वंश पर चल रहे राष्ट्रीय शोध संस्थान नेरी के शोध में इस बात का खुलासा हुआ है। यह बात भी सामने आई है कि श्री कृष्ण के उपासक रहे महाराज संसार चंद उनके बाद सबसे च्यादा होली खेलने में अव्वल माने गए हैं। संस्थान की शोध के मुताबिक पूरे वर्ष में केवल होली के दिन ही राजा संसार चंद के आम लोगों को दर्शन हुआ करते थे। इस वर्ष सुजानपुर के चौगान में राष्ट्रीय होली मेला 18 से 21मार्च तक आयोजित हो रहा है। 

 

 

मंगोलिया देश तक जुड़ा इतिहास 

 

कटोच वंश का इतिहास मंगोलिया देश तक जुड़ा है। जिस पर मंगोलिया के दूत सुजानपुर में पहुंचकर पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं।अब शोध में यह बात भी सामने आ रही है कि उत्तर प्रदेश के रामपुर के नवाब मुल्ला मोहम्मद खान को सुजानपुर में राजनीतिक शरण मिली हुई थी। महाराजा की सेना में दो अंग्रेज विदेशी अधिकारी भी थे। जिनमें ओब्राइन आइरिश व जेम्स अंग्रेज थे। जो अंग्रेजी सेना के अनुरूप सैनिकों को प्रशिक्षित करते थे। होली के दिन सेना के अलावा रानियां व राजा भी सुजानपुर में एकत्र हो जाते थे।  

 

अब भी हैं कटोच शासन के वंशज 

 

काँगड़ा व जोधपुर की सांसद रहीं एवं पूर्व स्वास्थ्य मंत्री चंद्रेश कुमारी कटोच वंश के 489वें वंशज हैं। उनके बेटे एश्वर्य कटोच सुजानपुर से तीन किलोमीटर टीहरा महाराजा संसार चंद की राजधानी में भी मेले को एक दिन मनाने की मांग उठाते रहे हैं। शोध के मुताबिक 1795 को सुजानपुर के अस्तित्व में आने से पहले टीहरा में भी होली होती थी। संसार चंद का जन्म 1765 को हुआ था पिता तेग चंद की जगह उन्हें राजगद्दी मिली थी। 1823 को उनकी मृत्यु हुई थी। सुजानपुर नगर को बसाने के लिए विभिन्न कलाओं में प्रवीण सज्जन पुरुषों को सुजानपुर में सम्मान सहित लाया गया। सज्जन लोगों की नगरी सुजानपुर के नाम से प्रसिद्धि पा गयी ।

पुरातन मंदिरों की इस नगरी को पर्यटन मानचित्र पर लाने के लिए कभी गम्भीरता से प्रयास नहीं हुए।

Have something to say? Post your comment
 
और विशेष खबरें
आशा और मीना के जीवन में मुस्कान लेकर आई हिमाचल गृहिणी सुविधा योजना बागवान के बेटे राजेश शर्मा ने संभाला डिप्टी कंट्रोलर वित्त का पदभार हमीरपुर :टौणी देवी माता जहाँ पत्थर टकराने से पूरी होती है हर मुराद आसमान की बुलंदियों पर उड़ता नजर आएगा मडावग का विक्रम ! हमीरपुर जिला में 65,632 विद्यार्थियों को निःशुल्क वर्दी योजना, 37,402 विद्यार्थियों को निःशुल्क पाठ्य पुस्तकें व 12,022 को मुफ्त स्कूल बैग का मिल रहा लाभ हिमाचल : यहाँ तो पैदल चलना भी सुरक्षित नहीं, दो साल में हो चुकी 353 पैदल यात्रियों की मौत, हिमालयी राज्यों में पहले स्थान पर हिमाचल, दूसरे पर उत्तराखंड प्लास्टिक को जीवन में ना अपनाएँ, आओ सब मिलकर इस धरती को बचाएं...... युवा दिवस और युवाओं के लिए संदेश आज है विश्व हिंदी दिवस ;जाने क्यों मनाया जाता है विश्व हिंदी दिवस मनरेगा के तहत बंगाणा में विकास कार्यों पर दो वर्ष में खर्च हुए 26.54 करोड़