Tuesday, March 02, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/XtZXmzukedcनगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआहमीरपुर जिला में हर्षोल्लास से मनाया गया 72वां गणतंत्र दिवस समारोह, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने की जिला स्तरीय समारोह की अध्यक्षता, राष्ट्रध्वज फहराकर मार्चपास्ट की सलामी लीसमीक्षा : वार्ड पंच से लेकर जिला परिषद तक पटक डाले जनता ने , हेकड़ी , घमंड व बड़े नेताओं की धौंस हुईं जमींदोज पंचायत चुनाव : भीतरघात का ऑडियो वायरल, खूब हो रही चर्चाप्रथम चरण में हमीरपुर जिला में दिग्गजों ने किया मतदान, धूमल अनुराग ने समीरपुर , राजेंद्र राणा व अभिषेक राणा ने पटलांदर में किया मतदान
-
धर्म संस्कृति

पहाड़ी बोली और मातृ भाषा हिंदी पर कार्यक्रम आयोजित 

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | August 01, 2019 06:16 PM


आनी,

 

उपमंडल के निरमंड में सांस्कृतिक मंच निरमंड द्वारा पहाड़ी बोली पर कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में आउटर सराज के साहित्यकार,लेखक,कवि,शिक्षक,सहित राजकीय महाविद्यालय निरमंड के छात्र छात्राएं शामिल हुए। कार्यक्रम के मुख्यातिथि सांस्कृतिक मंच निरमंड के अध्यक्ष दीपक शर्मा ने कहा की भारत मे हर प्रदेश की अपनी बोली और भाषा है। परंतु हिमाचल प्रदेश में हर ज़िला क्षेत्र में पहाड़ी बोली भाषा मौजूद है,जैसे कांगड़ा में कांगड़ी,मंडी में मंडयाली, भाषा का अधिक प्रचलन है । अन्य राज्यों की तरह हिमाचल में भी पहाड़ी बोली को दर्जा मिलना चाहिए जिसके लिए हिमाचल के साहित्यकार,विद्वान कार्य कर रहे है। आउटर सराज की पहाड़ी बोली में चिड़ियों के प्राचीन नामों,आपस मे पहाड़ी बोली के वाक्यों, मुहावरों, श्लोको,रामायण,महाभारत,श्रीकृष्ण लीला,पर सभी ने अपने अपने विचार प्रस्तुत किए। हिंदी की प्रोफैसर राज भगति नेगी ने कहा कि हिमाचल प्रदेश की पहाड़ी भाषा बोली हिंदी शब्दो से बनी है। कांगड़ा से कुल्लू तक पहाड़ी भाषा सरल है, मगर किन्नौर व लाहौल स्पीति की भाषा अलग है। प्रोफ़ेसर संजीव ने कहा कि हिमाचल की सभी बोलियां भाषा मधुर है, संगीता कुमारी ने पहाड़ी बोली में  गाँव में हर रोज बोली जाने बाली परिवार से बातचीत करने बारे सुंदर व्यख्यान प्रस्तुत किया गया। हिमसंस्कृति संस्था के अध्यक्ष एस आर शर्मा ने आउटर सिराज पहाड़ी बोली पर मेलों ,पहाड़ी गीतों की परम्परा पर विचार प्रस्तुत किए। शिवराज ने कहा कि आउटर सिराज की पहाड़ी भाषा कुल्लू की पहचान है आउटर सिराज के हर गाँव मे लोग अपनी।पहाड़ी बोली में ही अधिकतर बात करते है गाँव के बजुर्ग हमेशा ही पहाड़ी बोलना पसन्द करते है पहाड़ी भाषा को अधिमान मिलना जरूरी है। कार्यक्रम में डिग्री कॉलेज निरमंड के छात्र धर्मेंद्र सिंह,और छात्रा संगीता कुमारी ने पहाड़ी बोली में सबसे बेहतरीन प्रस्तुती दी। इस अवसर पर।सांस्कृतिक मंच निरमंड के अध्यक्ष दीपक शर्मा,शिवराज शर्मा,प्रोफ़ेसर संजीव,प्रोफ़ेसर होशियार चंद,प्रोफ़ेसर रितिका पॉल, प्रो0 राजभगति,धन प्रकाश।शर्मा,रोशनलाल जोशी,राजिंदर शर्मा,हिमांशु,सहित सांस्कृतिक मंच निरमंड के साहित्यकार,विद्वान,सहित अन्य सदस्य।शामिल हुए।

 

 
Have something to say? Post your comment
और धर्म संस्कृति खबरें
लोगों की आकांक्षाओं पर खरा उतरें जनप्रतिनिधिः राज्यपाल 15 दिनों के स्वर्ग प्रवास के बाद देवालय लौटे देवता, मंदिरों में पूजा अर्चना शुरू चिंतपूर्णी नव वर्ष मेला के दौरान जिला में 31 दिसंबर, 2020 व 1 जनवरी, 2021 को लागू रहेगी धारा 144 -डीसी अकादमी के मंच पर निर्गुण पद, गणगौर एवं निमाड़ी लोकगीतों का गायन देवठन के बाद शिरगुल देवता मंदिर के कपाट पाँच माह के लिए बंद। माँ की महिमा "उचिया धारा भोला बसया" भजन यूट्यूब पर रिलीज, यूट्यूब पर काफी फेमस हो रहा भजन आयोध्या में रामचन्द्र मंदिर निर्माण के आधारशिला के सुअवसर पर मडावग बाजार में दौड़ रही ख़ुशी की लहर राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने दी मुस्लिम समुदाय को ईद-उल-जुहा की बधाई श्रावण मास में रूद्राभिषेक का महत्त्व