Tuesday, March 02, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/XtZXmzukedcनगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआहमीरपुर जिला में हर्षोल्लास से मनाया गया 72वां गणतंत्र दिवस समारोह, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने की जिला स्तरीय समारोह की अध्यक्षता, राष्ट्रध्वज फहराकर मार्चपास्ट की सलामी लीसमीक्षा : वार्ड पंच से लेकर जिला परिषद तक पटक डाले जनता ने , हेकड़ी , घमंड व बड़े नेताओं की धौंस हुईं जमींदोज पंचायत चुनाव : भीतरघात का ऑडियो वायरल, खूब हो रही चर्चाप्रथम चरण में हमीरपुर जिला में दिग्गजों ने किया मतदान, धूमल अनुराग ने समीरपुर , राजेंद्र राणा व अभिषेक राणा ने पटलांदर में किया मतदान
-
टूरिज्म

ऐतिहासिक पर्यटन स्थल तत्तापानी में सुविधाओं का टोटा

आर एल हरनोट | September 17, 2019 08:44 PM

सरकार कर रही अनदेखी, लोगों में भारी रोष

सुन्नी,

शिमला ग्रामीण के सीमांत क्षेत्र में बसा ऐतिहासिक स्थल तत्तापानी अपना पर्यटन स्वरूप खोने के बाद बदहाल अवस्था में है।किसी जमाने में प्राकृतिक गर्म पानी के स्रोतों के लिए प्रसिद्ध तत्तापानी में न तो लोगों के लिए के लिए कोई सुविधाजनक व्यवस्था हो पाई और न ही पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने के लिए कोई वैकल्पिक इंतजाम।देश और विदेश में विख्यात रहे तत्तापानी में आज आलम यह है कि क्षेत्र में गंदगी की सुध लेने वाला भी कोई नहीं है।सरकार एवं प्रशासनिक अमला तत्तापानी में विशाल झील पर जलक्रीड़ा शुरू करने की बात तो करता है परन्तु अभी तक इस दिशा में कोई सार्थक कदम नहीं उठाए गए हैं।पर्यटकों एवं श्रद्धालुओं के लिए गर्म पानी के स्त्रोतों में भी खास तब्दीली नहीं आई है।तत्तापानी के लोगों में क्षेत्र के खस्ताहालत पर सरकार एवं प्रशासन के खिलाफ भारी रोष है।तत्तापानी के निवासियों हेतराम शर्मा ,पूर्व उप प्रधान प्रेम लाल ,पूर्व पंच मनोहर लाल ,संजय शर्मा ,अशोक कुमार ,भगत राम व्यास ने बताया कि लगभग छह वर्ष पूर्व कोलडेम परियोजना शुरू होने से तत्तापानी की धरोहर एवं प्राकृतिक गर्मपानी के स्रोत जलमग्न होकर एक विशाल झील बन गई।जिससे क्षेत्र में पर्यटन व्यवसाय पूरी तरह चौपट हो गया।प्रशासन एवं सरकार हरबार झील में जल क्रीड़ा शुरू करने की बात तो करती है परन्तु वास्तविक स्थिति कोसों दूर है।आलम यह है कि तत्कालीन समय में सरकार द्वारा नरसिंह मन्दिर के समीप बोर किए गए गर्म पानी के कुछ स्रोतों को स्थानीय लोगों ने नहाने योग्य स्नानागार स्वयं तैयार किए।तब से अब तक न तो गर्म पानी के और स्रोत विकसित हो पाए और न ही कोई अन्य योजना क्षेत्र में चल पाई जिससे ततापनी पुनः पर्यटन स्थल के तौर पर विकसित हो तथा लोगों को रोजगार भी मिल सके।यही नहीं मुख्यमंत्री ने जनवरी माह में सजने वाले विशाल मेले को गत वर्ष जिला स्तरीय तो घोषित कर दिया परन्तु अभी तक कोई भी सुविधा प्रदान नहीं हो पाई।मेला मैदान को विकसित करने के भी कोई प्रयास नहीं हुए।उल्टे क्षेत्र में अन्य विकास कार्य भी अधर में है।प्राथमिक विद्यालय का भवन अभी तक नहीं बन पाया है बच्चे आंगनबाड़ी के कमरे में पढ़ाई करते हैं।वहीं बस ठहराव पर गंदगी का आलम बना हुआ है।लोगों ने सवाल किया है कि कुछ वर्षों पहले सासंद रामस्वरूप एवं विधायक तत्तापानी में अव्यवस्था को लेकर धरने पर बैठे थे ।अब दोनों सत्ता का हिस्सा है तो अब क्यों मौन है।

 
Have something to say? Post your comment
और टूरिज्म खबरें
शशांक रोहिला एवं पंकज बिष्ट ने 15 दिन साइकिल यात्रा से किये चार धाम के दर्शन सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेला के लिए हिमाचल प्रदेश द्वारा 'Theme State' के प्रबंधों की समीक्षा रघुपुर घाटी को जलोड़ी दर्रे से सीधा सड़क मार्ग से जोड़ने की मांग श्वेत वर्ण में लिपटी आनी जलोडी दर्रे पर 3 फुट ताजा हिमपात प्रदेश सरकार पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध आनी में रिमझिम बरसे बदरा;जलोडी दर्रे पर थमी गाड़ियों की रफ्तार मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने हिमाचल एप्पल फेस्टिवल का शुभारम्भ किया शैक्षणिक उपलब्धियों के साथ-साथ उद्यमिता विकसित करें छात्र-छात्राएः मंडलायुक्त आनी के हरीपुर में खुला इजर कैफे ,समाजसेवी बुद्धि सिंह ने किया उदघाटन आनी में झमाझम बारिश ,पहाडों पर बर्फवारी