Sunday, May 31, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
अपडेट/ : हमीरपुर जिला में कोरोना संक्रमित के पांच नए मामले, अबतक ज़िले में कुल 20 मामले , 15 एक्टिव , 4 ठीक हुए , एक मौत ब्रेकिंग : हमीरपुर ज़िला में एक साथ कोरोना के पाँच मामले आए सामने, संक्रमितों में एक महिला भी शामिल ,ब्रेकिंग : हमीरपुर के नादौन उपमंडल की ग्वाल पत्थर पंचायत में दो व्यक्तियों के कोविड-19 संक्रमित होने की पुष्टिब्रेकिंग: मड़ावग में नेपाली मूल के युवक ने फंदा लगाकर दी जान सेवा का ईनाम : दूसरी बार डीजीपी डिस्क अवॉर्ड से सम्मानित होंगे हमीरपुर के CID इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल ,ख़ास ख़बर : ग़ाज़ियाबाद का एक ऐसा स्कूल जिसने लॉकडाउन में तीन माह की फ़ीस माफ़ की और टीचरों के खाते में डाली सेलरी, हिमाचल के लालची स्कूलों के लिए करारा सबक़चौपाल, नेरवा में कल बंद रहेगी बिजलीहिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय हमीरपुर में ऑनलाईन फेसबुक लाइव के माध्यम से अध्ययन केंद्र का विधिवत उद्घाटन
-
विशेष

जवानी की दहलीज़ से पूर्व नशे की गर्त में जा रही युवा पीढ़ी

रजनीश शर्मा  | September 18, 2019 03:16 PM


हमीरपुर व प्रदेश के लिए बज रही ख़तरे की घंटी

हमीरपुर ,
एक के बाद एक पकड़े जा रहे नशे के सौदागरों व नशेड़ियों से समाज का बुद्धिजीवी वर्ग चिंतित हो उठा है। जवानी की दहलीज़ से पूर्व ही नशे की गर्त में जा रही युवा पीढ़ी हमीरपुर जिला व प्रदेश के लिए ख़तरे की घंटी बजा रही है। केवल हमीरपुर जिला में पिछले साढ़े आठ माह के आँकड़ों पर ग़ौर करें तो पुलिस ने एन॰डी॰पी॰एस॰ एक्ट के तहत 43 मामले दर्ज कर क़रीब 55 नशे के आरोपियों को सलाखों के पीछे भेजा है। इन 55 आरोपियों में अधिकतम आरोपियों की उम्र 18 से 30 वर्ष के बीच है। पुलिस का आरोपियों को पकड़ सलाखों के पीछे धकेलना तो अच्छा क़दम माना जा रहा है लेकिन नशे का मुख्य सरगना अभी तक सलाखों से बाहर है।
पुलिस द्वारा अलग अलग मामलों में पकड़े गये युवाओ से 7 ग्राम से लेकर 5 किलोग्राम तक नशा पदार्थ पकड़े गए हैं। साढ़े आठ माह में सात किलो से अधिक चरस 350 ग्राम से अधिक चिट्टा पुलिस पकड़ चुकी है। इसके अलावा एक मामला भुक्की तो एक अफ़ीम का नशा पकड़े जाने पर दर्ज किया गया। नशे के बढ़ते मामलों को देखते हुए पुलिस महानिदेशक एसआर मरढ़ी गंभीरता से विभिन्न जिलों का दौरा कर पुलिस विभाग की बैठकी ले रहे हैं। बैठकों में पंचायत के वार्ड स्तर पर नशे के ख़िलाफ़ जागरूकता एवं निगरानी कमेटियाँ बनाए जाने पर ज़ोर दिया जा रहा है।
इस बारे में समाज सेवी शान्तनु कुमार का कहना है कि नशे की समस्या को राजनीतिक रंग न देकर इसे एक सामाजिक समस्या समझा जा। उन्होंने कहा कि नशे के आरोपियों को पकड़ना ही काफ़ी है बल्कि इसे जड़ से मिटाने के लिए इसके मुख्य सरगना को भी पुलिस दबोचे। शान्तनु के अनुसार अभिभावकों को भी अपने बच्चों पर पूरी नज़र रखनी चाहिए तथा संस्कारयुक्त जीवन जीने की प्रेरणा दी जानी चाहिए।
नशे के मामलों को लेकर एसपी हमीरपुर अर्जित सेन ठाकुर का कहना है कि पुलिस द्वारा नशे के ख़िलाफ़ छेड़े अभियान के तहत सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस अभियान में पुलिस को जनता का सहयोग भी मिल रहा है।

Have something to say? Post your comment
 
और विशेष खबरें