Thursday, January 23, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
हमीरपुर : फ़र्ज़ी वेबसाइट बना लाखों की ठगी करने वाले दो आरोपी 24 जनवरी तक पुलिस रिमांड पर, मास्टर माइंड संदीप को लाने पुलिस टीम हैदराबाद रवानाबलोह में महिलाओं ने प्रभात फेरी निकालकर दिया ‘बेटी बचाओ ,बेटी पढ़ाओ’ का संदेश, सरोज कुमारी ने दिलाई शपथहिमाचल : यहाँ तो पैदल चलना भी सुरक्षित नहीं, दो साल में हो चुकी 353 पैदल यात्रियों की मौत, हिमालयी राज्यों में पहले स्थान पर हिमाचल, दूसरे पर उत्तराखंड राज्य स्तरीय युवा उत्सव में कुल्लू का सराहनीय प्रदर्शनजगत प्रकाश नड्डा बने विश्व के सबसे बड़े राजनीतिक दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष।हमीरपुर में विधायक नरेंद्र ठाकुर ने बच्चों को पल्स पोलियो ड्राप्स पिलाई, 282 पोलियो बूथों पर क़रीब 35 हज़ार बच्चों को पोलियो ड्राप्स पिलाने का लक्ष्यपरम्परागत दस्तकारों को आत्मनिर्भर कर रही मुख्यमंत्री दस्तकार प्रोत्साहन योजना, उपकरणों व औजारों की खरीद पर 75 प्रतिशत अनुदान का प्रावधानप्लास्टिक को जीवन में ना अपनाएँ, आओ सब मिलकर इस धरती को बचाएं......
-
टूरिज्म

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने हिमाचल एप्पल फेस्टिवल का शुभारम्भ किया

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | September 28, 2019 03:45 PM
 
बागवानों से सेब की नवीनतम किस्में अपनाने का आह्वान
 
शिमला,            
 
सेब हिमाचल प्रदेश की कृषि अर्थव्यवस्था की रीढ़ है और सेब के बागीचे पर्यटकों को आकर्षित करने की क्षमता भी रखते हैं। यह बात मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज पर्यटन और बागवानी विभागों के संयुक्त तत्वावधान से यहां गेयटी थियेटर में हिमाचल एप्पल फेस्टिवल-2019 के शुभारम्भ अवसर पर कही।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के बागवानों ने आधुनिक तकनीकों को अपनाया है, जो वरदान साबित हुई हैं, जिसके कारण उन्हें अपने उत्पाद के अच्छे मूल्य मिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसके साथ सेब उत्पादकों को सेब की नवीनतम किस्मों को अपनाने पर भी ध्यान केन्द्रित करना चाहिए ताकि वे विदेश व देश के अन्य हिस्सों से आ रहे सेब के साथ मुकाबला कर सकें। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सेब की गुणवत्ता में सुधार लाने व इसका उत्पादन बढ़ाने के लिए हर संभव सहायता प्रदान करेगी।
 
जय राम ठाकुर ने कहा कि विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर विभाग ने हिमाचल एप्पल फेस्विल के विषय वस्तु के रूप में अपनाया है, जिससे राज्य की आर्थिकी में सेब के महत्व का पता चलता है। उन्होंने कहा कि सेब के बागीचे पर्यटकों को आकर्षित करने में अतिरिक्त भूमिका निभा सकते हैं क्योंकि इससे उन्हें यहां की नैसर्गिक सुन्दरता के अलावा स्वास्थ्यवर्द्धक जलवायु में कुछ यादगार पल बिताने का अवसर भी मिलेगा।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की जलवायु फूलों की खेती के लिए
भी अनुकूल हैं और यह सन्तोष की बात है कि हमारे किसान बड़े पैमाने पर इसे अपना रहे हैं। उन्होंने कहा कि फूलों की खेती के लिए बड़ा बाजार उपलब्ध है, इसलिए अपनी आय में वृद्धि लाने के लिए किसानों को पुष्प उत्पादन की ओर भी मुड़ना चाहिए।
 
जय राम ठाकुर ने इस अवसर पर शिवांकिता कंवर को एप्पल प्रिंस, दिपांशी ठाकुर को एप्पल प्रिंसेस, योगेश को एप्पल किंग तथा वंशिका कटोच को एप्पल क्वीन का ताज पहनाया।
 
मुख्यमंत्री ने बागवानों द्वारा लगाई प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया, जिसमें राज्य के सेब तथा फूलों की विभिन्न किस्मों को प्रदर्शित किया गया है।
 
मुख्यमंत्री ने राज्य पर्यटन विभाग एवं होटल मैनेजमैंट, कैटरिंग व न्यूट्रिशन संस्थान, कुफरी (शिमला) द्वारा तैयार किए गए एप्पल केक को भी काटा। यह केक 4.5 फुट गुणा 3.5 फुट आकार तथा 200 किलो वजन तैयार किया गया था। इसे इण्डिया बुक आॅफ रिकाॅर्ड्स में सबसे बड़े एप्पल केक के रूप में दर्ज किया गया है।
 
मुख्य सचेतक नरेन्द्र बरागटा, महापौर कुसुम सदरेट, मुख्य सचिव डाॅ. श्रीकान्त बाल्दी, निदेशक पर्यटन युनूस, राज्य के विभिन्न भागों से आए बागवान तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
Have something to say? Post your comment
 
और टूरिज्म खबरें