Monday, November 18, 2019
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
पंचायत उपचुनाव परिणाम : रणबीर ज्योली देवी तो सुरजीत बने सौर पंचायत के प्रधान, सतीश (दाँदड़ू) संजीव (बफड़ी)प्रकाश ( चमनेड) बामदेव (नौहगी) राकेश बने मण पंचायत के उपप्रधान क़ाज़ा से उठी नशीले पदार्थों के ख़िलाफ़ आवाज़, एडीएम ज्ञान सागर ने दिलाई शपथ समाज सेवा का सशक्त माध्यम है पत्रकारिता, पत्रकार स्वस्थ पत्रकारिता को अपनायें : हरिकेश मीणाब्रेकिंग : वृद्ध महिला से क्रूरता मामले में एसएचओ सरकाघाट और एक हेड कांस्टेबल लाइन हाजिरअसली डायन/ भूत कौन - 81 वर्षीय राजदेई, 71 वर्षीय कृष्णा देवी , 70 वर्षीय जयगोपाल या फिर 28 वर्षीय पुजारिन निशु असली डायन/ भूत कौन - 81 वर्षीय राजदेई, 71 वर्षीय कृष्णा देवी , 70 वर्षीय जयगोपाल या फिर 28 वर्षीय पुजारिन निशु हमीरपुर : उपायुक्त की पहल पर सज़ा साप्ताहिक बाजार, हाथों हाथ बिकी 5 क्विंटल हरी सब्जियांसराहकड़ ( हमीरपुर) : सरकार-प्रशासन से नहीं माँगी मदद, श्मशान घाट बनाने खुद उतर पड़े गांव वाले
-
कारोबार

बंजार के बागबान पदम देव ने अनार से की आर्थिकी सुदृढ़

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | September 30, 2019 06:11 PM
हर वर्ष 10 से 20 लाख का अनार पहुंचाते हैं सब्जी मंडी
 
आनी,
जिला कुल्लू के विकास खण्ड बंजार की मंगलौर पंचायत के ममजा गांव के निवासी पदम देव ने सेब के बाद अब अनार की फसल में रुचि दिखाई है,जिससे उसे अच्छी कमाई हासिल हो रही है । पदम देव का कहना है कि वे 30 वर्ष पहले अपने खेतों में  सेब की फसल से आय अर्जित करते थे,मगर वातावरण में धीरे धीरे बदलाव होने से सेब की पैदावार कम होती गई,जिसके फलस्वरूप उन्हें अपनी पैदावार को बदलना पड़ा। उसके बाद उन्होंने पलम भी तैयार किया, लेकिन वह भी इतना कामयाब नहीं हुआ। फिर उन्होंने अपनी किस्मत अनार लगाकर अजमाई । अनार के बगीचे लगाने से अच्छी खासी पैदावार हुई । पदम् देव ने कहा  कि उन्होंने लगभग 10 बीघा में अनार के पौधे लगाए ,जो लगभग तीन सालों में तैयार हो गए। जिसमें 1 साल में लगभग 10 से 20 लाख रुपए का अनार तैयार होने लगा । अनार के बगीचे में सब्जी उत्पन्न करने से आय के अच्छे स्त्रोत मिल जाते हैं । परम देव ने कहा अनार की देखभाल बहुत करना पड़ती है। जबकि सेब की फसल में हमें इतनी मेहनत नहीं करना पड़ती थी । मंगलौर पंचायत की प्रधान विना भारती ने बताया इस पंचायत में लगभग 26 गांव है जिनका धंधा खेतबाड़ी व बागबानी है।,जिसके लिए सरकारी विभागों द्वारा भी समय समय पर सहायता व शिविर लगाए जाते हैं।  गांव की 82 वर्षीय गोदावरी का कहना है कि अब जलवायु परिवर्तन बहुत हो चुका है ,जिससे बारिश भी कम होती है और गर्मी बहुत ज्यादा बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि पहले उगाई जाने वाली पारम्परिक फसलें धान, कोदरा, गेहूं,बिथू, व कोदा इत्यादि , आज  विलुप्त होने के कगार पर हैं। सेब की गुणवत्ता भी जो पुराने समय में होती है आज वह हो नहीं रही है।  बहरहाल किसान परम देव अनार की फसल से अच्छी आय अर्जित कर रहे हैं,जो दूसरों के लिए एक प्रेरणा है।
 
 
Have something to say? Post your comment
 
और कारोबार खबरें
हिमाचल सरकार ने 10095 करोड़ के समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए मर्जर के खिलाफ देश भर में आज बैंक रहे बंद हाईब्रीड मक्की बीज ने मालामाल किए किसान,सुदृड़ हुई आर्थिकी उद्योग मंत्री ने जीएसटी परिषद की 37वीं बैठक में भाग लिया कॉर्पोरेट टैक्स को घटाकर 22 प्रतिशत किए जाने का निर्णय सराहनीयः मुख्यमंत्री कार्यशाला के बाद प्रतिष्ठित महिलाओं ने सूरज स्वीट्स एवं रेस्टोरेंट में किया लंच , जमकर की तारीफ केसीसी बैंक ने बरोहा में लगाया वित्तिय साक्षरता शिवि आज़ादी दिवस और रक्षा बंधन के लिए बाज़ारों में दिखा जोश टाटा ग्रुप ने हिमाचल में चुनिंदा क्षेत्रों में निवेश की इच्छा जताई सेब सीजन को लेकर प्रशासन ने कसी कमर