Friday, March 05, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/LElaOQ_7SFs मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने लगाई कारोना वैक्सीन https://youtu.be/vFVt3UOrtuQ करुणामूलक भर्ती को जल्द भरने की मांग को लेकर संघ का विधानसभा के बाहर धरना https://youtu.be/YY7cHnTDnf4 यदि मैं मुख्यमंत्री होता तो एक घंटे में सुलझ जाता विधानसभा का मसला; वीरभद्र सिंह https://youtu.be/Wk2WZmMWU2M पॉइन्ट ऑफ आर्डर पर चर्चा न मिलने पर कांग्रेस का सदन से वाकआउटhttps://youtu.be/XtZXmzukedcनगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआ
-
विशेष

देवकृपा से जड़ से उखड़े उल्टे पेड़ में भी रहती है हरियाली

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | October 13, 2019 08:19 PM



शिमला ,

मशोबरा के समीप धनैन एवं कुम्हाली गांव के समीप दो ऐसे पेड़ है जिसकी जड़ें उपर की ओर एवं तना भूमिगत होने के बावजूद भी ये पेड़ सूखे नहीं हैं। हैरानी की बात तो यह है कि इन पेड़ों पर सामान्य पेड़ों की न केवल हरियाली है बल्कि इनके तने से नये पेड़ भी निकले हैं। ये पेड़ यहां की बहुमूल्य माने जाने वाली वन्य सम्पदा देवदार के हैं। लोगों की मान्यता पर विश्वास करें इससे प्राचीन एक पुरानी देव घटना है जिस कारण यह आश्चर्य देखने को मिल रहा है। कुम्हाली गांव में देवता साहिब का मन्दिर भी है जोकि इस पूरे क्षेत्र में स्थापित ग्राम्य देव है। इनका आशीर्वाद प्रतिवर्ष लोग लेते आये हैं। देव के गूर रहे युवा राजेंद्र भारद्वाज ने उल्टे गिरे पेड़ों के पीछे प्रचलित इतिहास के बारे में जानकारी देते हैं। उनका कहना है कि मशोबरा के समीप पड़ने वाले क्षेत्र पर यहां के देव धांधी का प्रभाव है जिनकी दुर्गापुर के गांवों के देव से प्राचीन वैर रहा है। देवता सीप जब तीर्थ यात्रा पर गये तो उन्होंने देवता धांधी को इस क्षेत्र की रक्षा का कार्यभार सौंपा। सीप देव के बाहर जाने की खबर जब दूसरे शत्रु देव को लगी तो उसने इसे अच्छा अवसर माना। कोगी देवता के यहां देवदार के पेड़ नहीं होते थे वहां के देव ने सोचा कि सीप देव तीर्थ गये है ऐसे में वहां पर आक्रमण करके वहां से कुछ देवदार के पेड़ों को चुरा लिया जाये। देव ने जब दो तीन पेड़ उखाड़े ही थे कि यहां रक्षा के लिए रखे देव धांधी को इसका पता चला। दोनों में युद्ध हो गया जिसमंे धांधी देवता ने अपने आप को लोहे के ओलों की वर्षा से अपने सुरक्षित कर लिया लेकिन जब वहां का देवता के नाक में लोहे का ओला लगा और देवता की नाक कट कर भूमि पर गिर गयी। कोगी देव को पलायन करना पड़ा और भागते हुए यह देवदार के दो पेड़ उल्टे गिर गये और वहीं पर स्थापित हो गये। आज भी बाघी जुब्बड़ में लोहे के ओले स्थानीय भाषा में शरू की बारिश के निशान पत्थरों पर स्पष्ट देखे जा सकते हैं।
जिसे कहा जाता है। जबकि एक पेड़ को अपने क्षेत्र को ले जाने में कामयाब हो गया। देवता धांधी ने एक बहुत बड़ा पत्थर देवता की ओर फैंका जोकि आज भी कोगी गांव में बिल्कुल सीधा खड़ा है। यह पत्थर बिल्कुल गिरता हुआ सा टेड़ा है पर यह गिरा नहीं है यह हैरानी की बात है। इसके बाद उस क्षेत्र में भी देवदार के वृक्ष उगने लगे। पुजारी राजेंद्र भारद्वाज का कहना है कि यह एक बड़ा आश्चर्य है कि बड़े से बड़े मूर्तिकार आज भी देव कोगी की नाक नहीं लगा पाये हैं। आज भी मूर्ति में जब नाक लगायी जाती है तो टूटकर नीचे गिर जाती है। उस युद्ध के पौराणिक इतिहास की जानकारी देने के लिए आज भी ये दो उल्टे पेड़ उस समय की साक्षी दे रहे प्रतीत होते हैं। धनैन गांव के समीप उल्टे पेड़ के नीचे देव सीप की स्थापना की गयी है। जिस पर लोग हर 6 माह में लोग पूजा अर्चना आदि कृत्य करते रहते हैं।

 
Have something to say? Post your comment
और विशेष खबरें
मडावग पंचायत भवन में एक दिवसीय चिकित्सा शिविर का आयोजन रोहडू क्षेत्र की महिलाओं ने सेब की चटनी से लहराया परचम भारयुक्त जीवन को प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना ने किया भारमुक्त विशेष : अश्वमेध यज्ञ के समय निर्मित राम-सीता की मूर्तियाँ कुल्लू में हैं स्थापित, अयोध्या से कुल्लू का 370 साल पुराना रिश्ता कोरोना काल में मार्गदर्शक बना गोगटा लोकमित्र केंद्र मडावग ! सेवा का ईनाम : दूसरी बार डीजीपी डिस्क अवॉर्ड से सम्मानित होंगे हमीरपुर के CID इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल , पवन 6 महीने बाद घर लौटे बेटियों को गले तक नहीं लगाया 8 हजार फीट पर क्वारंटीन हुए हर जगह है माँ : इंदरपाल कौर चंदेल क्वारंटीन से निकलते ही कोरोना की लड़ाई में डटे आदित्य ना केवल गांव के लिए बल्कि प्रदेश के लिए मिसाल बने मनीष