Wednesday, September 27, 2023
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
आपदा में मोदी जी ने बिना देर किए की हिमाचल की मदद, राज्य की कांग्रेस सरकार ने क्या किया : अनुराग ठाकुर राज्यपाल ने किया शिपकी-ला सैन्य पोस्ट का दौरा देश का सुरक्षा चक्र हैं हमारे जवान: शुक्लस्वर्ण मंदिर हमारी आस्था और समर्पण का प्रतीक: मुख्यमंत्रीमुख्यमंत्री ने दुर्गियाना मंदिर में की पूजा-अर्चनामुख्यमंत्री ने जलियांवाला बाग में सेनानियों को श्रद्धांजलि अर्पित कीमुुख्यमंत्री ने विभाजन संग्रहालय का अवलोकन कियाहिंदी भाषा में उत्कृष्ट कार्य करने वालों को उपायुक्त ऊना ने किया सम्मानितमोटे अनाज से तैयार भोजन व अन्य खाद्य पदार्थ स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभदायक - राघव शर्मा
-
धर्म संस्कृति

आनी के विभिन्न मंदिरों में कृष्ण जन्माष्टमी की धूम

 
ब्यूरो हिमालयन अपडेट 7018631199 | September 06, 2023 07:22 PM
 
आनी,
 
कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व बुधबार को आनी के विभिन्न मंदिरों में बड़ी धूमधाम से मनाया गया। आनी के एक मात्र कृष्ण मंदिर ठाकुर मुरलीधर बटाला में  भगवान मुरलीधर को चांदी की पालकी में सजाकर उसकी पूजा अर्चना की गई। स्थानीय ग्रामीण महिलाओं ने अपनी पारंपरिक वेशभूषा में सज धज कर ठाकुर मुरलीधर  की पूजा अर्चना कर. उन्हें  मौसमी और बीथू के फ्लार् का भोग लगाया और उनके जन्म पर मंगल गीत भी गाए। वहीं आनी के ही ओलवा गाँव स्थित भगवान परशू राम मंदिर में भी ग्रामीणों ने कृष्ण जन्माष्टमी के पर्व को प्राचीन परंपरा अनुसार मनाया। यहाँ महिलाओं ने कृष्ण जी की पूजा कर उन्हें भोज लगाया और मंगल गीत भी गाये। यहाँ पंडित बहादुर चन्द  शर्मा ने भक्तों को कथा  सुनाई। इसी प्रकार आनी के साथ लगते करसोग क्षेत्र की सीमावर्ती   पंचायत तुमन  के  गांव छखाना में भी बुधवार  को कृष्ण  जन्माष्टमी का  पर्व बड़ी धूमधाम से मनाया जायेगा। क्षेत्र की अधिष्ठात्री देवी  चखाना दुर्गा  के  कारदार्  राम लाल शर्मा ने बताया कि भगवान श्री कृष्ण के जन्म को समर्पित. जन्माष्टमी पर्व बुधवार को चखाना दुर्गा मंदिर प्रांगण में प्राचीन परंपरा अनुसार मनाया गया। भगवान कृष्ण की पूजा अर्चना के बाद भजन कीर्तन का दौर चला। भक्तों को दर्शन देने के लिए माता देव वाद्य यंत्रों की गूंज के साथ  अपने दिव्य रथ में सुसज्जित होकर वाहर प्रांगण में निकली  और उनके साथ भगवान परशुराम  को भी बाहर लाकर ठहरी में बिराजमान किया गया। इस दौरान ब्राह्मणों द्वारा प्राचीन संस्कृति का निर्वहन करते हुए. प्रांगण में  प्राचीन  काव गीत पर ढाई फेर की नाटी  लगाई । कारदार राम लाल शर्मा ने बताया कि जन्माष्टमी के पावन अबसर पर भगवान परशुराम को कलश रूप में स्थापित किया जाता  और आराध्य देवी  की पूजा अर्चना   के बाद कथावाचक नारायण दास  शर्मा भक्तों को श्रीकृष्ण लीला सहित रामायण व महाभारत के प्रसंगों का संक्षिप्त रूप से कथावाचन करेंगे। वहीं इस पर्व को चार चाँद लगाने के लिए तुमन गांव की ग्रामीण महिलाओं ने  अपनी पारम्परिक वेशभूषा में सजधज कर अपनी आराध्य देवी की पूजा अर्चना की और उन्हें ऋतु फल सेव.नाशपाती.खीरा व अखरोट तथा बीथू  का फलाहार सहित अन्य क़ई प्रकार के अनाज अर्पित कर भोग लगाया और परिवार के लिए सुख समृद्धि का आशिर्वाद  मांगा। 
-
-
Have something to say? Post your comment
-
और धर्म संस्कृति खबरें
18 सितंबर सोमवार को होगा हरितालिका का व्रत आनी के शीगागी गाँव में हुआ अनूठी परंपरा का निर्वहन, क्षेत्र के गढपति देवता शमशरी महादेव और मालाणा के देवता जमलू के बीच निभाई जाती प्राचीन समय में हुए युद्ध की रस्म मेले और त्यौहार हमारी संस्कृति के परिचायक - कुलदीप सिंह पठानिया भगवान वेदव्यास और देवता खोलू के सानिध्य में धूमधाम से मनाया गया  कुंईर का पलैच मेला 7 वर्षो बाद रविवार 13 अगस्त को डेढ़ माह की यात्रा पर निकले देवता शमशरी महादेव सात साल बाद 33 गाँव के दौरे पर निकलेंगे देवता  शमशरी महादेव चार से छः जुलाई तक धूमधाम के साथ मनाया जाएगा कुंगश का बीस आषाढ़ मेला https://youtu.be/X9OqRgX7gyI नाग देवता के स्वागत के लिए उमड़ा जनसैलाब देवता शमशरी महादेव हजारों देवलुओं संग पहुंचे कराणा आनी क्षेत्र के आराध्य गढ़पति देवता शमशरी महादेव पूरे लाव लश्कर के साथ कराना गाँव में  सोमवार से शुरू होने वाले श्रीमदभावत पुराण महायज्ञ में शामिल होने के लिए देवालय से हुए रवाना
-
-
Total Visitor : 1,56,26,112
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy