Friday, July 19, 2024
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
बिंदल का दावा कांग्रेस ने देश को अंग्रेजो से भी ज्यादा नुकसान पहुंचाया हैश्रीखंड मे बहेगी ज्ञान गंगा शिमला के आचार्य राकेश भारद्वाज करेंगे प्रवचन 20 जुलाई से 27 जुलाई  तक होगा आयोजनशिक्षा मंत्री ने किया रामनगर विद्यालय भवन का लोकार्पणउपायुक्त मुकेश रेपसवाल की अध्यक्षता में पीएसीएस की बैठक आयोजितगर्मी में बार-बार की बिजली कटौती से लोग परेशान, प्रभावित हो रहे काम काजबड़सर के नशा मुक्ति केंद्र में 25 वर्षीय युवक की हत्या के बाद फरार आरोपी तुषार ने किया पुलिस स्टेशन में आत्मसमर्पण रक्षा बंधन को आना था घर लेकिन जम्मू के अखनूर में हमीरपुर के 23 साल के अग्रिवीर  की संदिग्ध मौत स्वतंत्रता दिवस की अवसर पर लोकसभा चुनावों के दौरान सराहनीय कार्यों के लिए कर्मचारियों को किया जाएगा सम्मानित
-
कारोबार

एसजेवीएन ने अरुणाचल प्रदेश की संभावित जलविद्युत क्षमता के दोहन में रुचि व्‍यक्‍त

-
ब्यूरो हिमालयन अपडेट | February 23, 2020 04:45 PM

 

शिमला,

नंद लाल शर्मा, अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, एसजेवीएन ने अरुणाचल प्रदेश के उप मुख्‍यमंत्री चाउना मीन से नई दिल्‍ली स्थित अरुणाचल प्रदेश भवन में भेंट की । शर्मा ने '' जल विद्युत के त्‍वरित विकास के जरिए अरुणाचल प्रदेश की समृदि्ध'' विषय पर सफल सेमिनार आयोजित करने के लिए उन्‍हें बधाई देते हुए अगले 10-15 वर्षों में राज्‍य में मौजूद लगभग 1500 मेगावाट की जलविद्युत परियेाजनाओं के दोहन में रुचि जाहिर की, जिसके लिए एसजेवीएन के वरिष्‍ठ अधिकारी राज्‍य के संबंधित अधिकारियों से सीधे संपर्क में है ।

शर्मा ने उल्‍लेख किया कि एसजेवीएन के पास हिमाचल प्रदेश में विषम भूगर्भीय परिस्थितियों में सतलुज नदी बेसिन में 1500 मेगावाट नाथपा झाकड़ी जलविद्युत स्‍टेशन तथा 412 मेगावाट रामपुर जलविद्युत स्‍टेशन जैसी बड़ी जलविद्युत परियोजनाओं का सफल निर्माण करने का वृहद तकनीकी अनुभव है ।

इस वृहद तकनीकी-अनुभव के मद्देनजर हिमाचल प्रदेश सरकार ने एसजेवीएन को हिमाचल प्रदेश में इसी सतलुज बेसिन पर चार और जलविद्युत परियेाजनाएं नामतः 780 मेगावाट जंगी थोपन,210 मेगावाट लूहरी चरण-।, 172 मेगावाट लूहरी चरण-।। तथा 382 मेगावाट सुन्‍नी डैम जलविद्युत परियेाजनाएं एसजेवीएन को सौंपी हैं । एसजेवीएन को यह सभी परियेाजनाएं निर्माण, स्‍वामित्‍व, प्रचालन और अनुरक्षण (बूम) आधार पर आबंटित की है ।

एसजेवीएन को एक एकल नदी बेसिन में जलविद्युत परियोजनाएं आबंटित किए जाने से नदी बेसिन के ईष्‍टतम विकास के लिए परियोजनाओं के मध्‍य मेनपावर और अवसंरचना लागत को सांझा करने में सहूलियत हुई है। उन्‍होंने आगे स्‍पष्‍ट किया कि एकीकृत नदी बेसिन नीति जलविद्युत संभाव्‍यता के दोहन के लिए सर्वाधिक उपयुक्‍त है, जिसके तहत परियोजनाओं की व्‍यवहार्यता का एक साथ अध्‍ययन किया जा सकता है और निर्माण हेतु उपयुक्‍त परियेाजनाओं पर विचार किया जा सकता है ।

इसी तर्ज पर शर्मा ने अरुणाचल प्रदेश सरकार से अनुरोध किया कि 7000 मेगावाट से अधिक की जलविद्युत संभाव्‍यता के अध्‍ययन और दोहन के लिए एसजेवीएन को अरुणाचल प्रदेश का समस्‍त लोहित बेसिन पर, बूम आधार पर आब‍ंटित किया जाए। राज्‍य में 15000 मेगावाट से अधिक जलविद्युत संभाव्‍यता के दोहन के लिए एसजेवीएन की क्षमता विशेषज्ञता और महत्‍वाकांक्षा के परिप्रेक्ष में कंपनी का यह भी इरादा है कि अरुणाचल प्रदेश में सुबनसरी, दिबंग, सैंग इत्‍यादि जैसे अन्‍य नदी बेसिनों में ज्‍यादा संभावित परियेाजनाओं का मिलजुल कर पता लगाया जाए ।

शर्मा ने आगे कहा कि कम टैरिफ व्‍यवस्‍था के साथ दीर्घ निर्माण पूर्व अवधि वाले मौजूदा विद्युत परिदृश्‍य के अंतर्गत जलविद्युत परियेाजनाओं के लिए पीआईबी/सीसीईए मंजूरियां प्राप्‍त करना अत्‍यंत चुनौतीपूर्ण है । उक्‍त को ध्‍यान में रखकर जम्‍मू एवं कश्‍मीर सरकार तथा हिमाचल प्रदेश सरकार ने इस दिशा में राज्‍य को निःशुल्‍क बिजली का आस्‍थगन, टोल करों, स्‍थानीय करों, जल उपयोग कर से छूट, 50% एसजीएसटी छूट, कैट योजना लागत में कमी, परियेाजना के तहत आने वाले निःशुल्‍क सरकारी भूमि जैसे परियेाजना के टैरिफ को कम करने के लिए छूटें देकर आगे कदम बढ़ाया है । जलविद्युत के सततशील और व्‍यावहारिक दोहन के लिए एसजेवीएन अरुणाचल प्रदेश सरकार से इसी तरह के सहयोग एवं समर्थन की अपेक्षा करता है ताकि राज्‍य ''राष्‍ट्र के विद्युत गृह'' के रूप में उभर सके। इससे समृ्दि्ध और समूचे विकास के एक नए युग का सूत्रपात होगा जो आम आदमी की उन्‍नति के साथ-साथ राज्‍य में नए उद्योगों के विकास का मार्ग प्रशस्‍त करेगा । अरुणाचल प्रदेश के उप मुख्‍यमंत्री चाउना मीन ने राज्‍य की जलविद्युत क्षमता की विकास की दिशा में सभी मुमकिन मदद करने का आश्‍वासन दिया I


एसजेवीएन ने नवीकरणीय ऊर्जा, विद्युत ट्रांसमिशन तथा ताप विद्युत के क्षेत्र में भी प्रवेश किया है एवं 2023 तक 5000 मेगावाट, 2030 तक 12000 मेगावाट तथा वर्ष 2040 तक 25000 मेगावाट की स्थापित क्षमता के आंतरिक विकास लक्ष्यों की परिकल्पना की है ।

 

 

-
-
Have something to say? Post your comment
-
और कारोबार खबरें
न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (एक अग्रणी साधारण बीमा कंपनी) और हिमाचल प्रदेश राज्य सहकारी बैंक लिमिटेड (क्षेत्र का एक स्थापित क्षेत्रीय बैंक) ने एक समझौते के अनुसार हस्ताक्षर किए। लॉर्ड्स मार्क बायोटेक ने सोरायसिस के इलाज के लिए लॉन्च किया टाइनेफकॉन https://youtu.be/6KPTCKm_shQ नवरात्रों में फीका रहा पर्यटन कारोबार, 30 फीसदी रही ऑक्यूपेंसी, पर्यटन कारोबारी परेशान उपतहसील निथर के ग्वाल गांव में लोगों ने जानी कांगड़ा बैंक की वितीय डिजिटल सुविधा उत्तराखंड के मोरी में 60 मेगावाट की नैटवाड़ मोरी जलविद्युत परियोजना की प्रथम यूनिट की मैकेनिकल स्पिनिंग की शुरुआत एसजेवीएन ने आरई एवं धर्मल परियोजनाओं के लिए 1,18,000 करोड़ रुपए वित्तपोषण हेतु पीएफसी के साथ एमओयू हस्ताक्षरित रामपुर एचपीएस द्वारा 31 अगस्त को 337.1653 मिलियन यूनिट बिजली उत्पादन का अब तक का सर्वश्रेष्ठ मासिंक कीर्तिमान बैंको की कुल जमा राशि में 9847 करोड़ रुपये की और अग्रिम में रु. 4269 करोड़ की वृद्धि;राजेंद्र कुमार साबू राज्य सहकारी बैंक ने वित वर्ष में जमाधन में की 10.68 प्रतिशत की बढ़ौतरी : देवेंद्र श्याम यूको आरसेटी शिमला देगा मोमबत्ती बनाने का निःशुल्क प्रशिक्षण
-
-
Total Visitor : 1,66,51,600
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy