Sunday, June 16, 2024
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
-
विशेष

https://youtu.be/SA1DNQMD-qE ढाबा संचालको ढाबा संचालकों की माने तो काम न के बराबर, आर्थिकी हो रही है प्रभावित।

-
के.जम्वाल | April 25, 2021 05:44 PM

 शिमला,

कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए नई बंदिशें लगाई है जिसमे वीकेंड पर शनिवार और रविवार को आवश्यक वस्तुओं की दुकानों जिसमे होटल, ढाबे, मेडिकल शॉप को छोड़कर अन्य सभी व्यापारिक संस्थान बंद रखने की अधिसूचना जारी की है वहीं यदि शिमला में ढाबो की बात करें तो काम न के बराबर है ढाबा संचालकों का कहना है कि या तो सरकार पूर्णतया बंद करने का फैसला ले या दुकानों को खोलने और बंद करने का समय निर्धारित करें।

हिमाचल प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने शनिवार और रविवार को ज़रूरी वस्तुओं के अलावा सभी बाजार बंद रखने के आदेश जारी किए है इसका असर रविवार के भी देखने को मिला। रविवार को भी तकरीबन सभी जगह बाजार बंद रहे। दूध, फल, सब्जी, दवाएं और रोजमर्रा की सेवाओं की बिक्री करने वाली दुकानों ही खुली रखने के आदेश हैं हालांकि इन दुकानों पर भी सामान्य से कम ही भीड़ देखने को मिली। वहीं, आदेश में होटल, रेस्तरां व ढाबों को पर्यटन विभाग की ओर से जारी कोविड से संबंधी SOP के तहत संचालित करने के आदेश है लेकिन ज्यादातर होटलों में अन्य राज्यों के वीकेंड लॉकडाउन जैसे आदेशों के चलते सन्नाटा ही रहा। शिमला में सरकारी आदेश के अनुसार ढाबे भी खुले रहे लेकिन लोगों की आवाजाही कम होने के चलते ढाबों में ग्राहक न के बराबर थे ढाबा संचालकों का कहना है कि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सरकार जो भी फैसला लेती है वो उसका वे पालन करेंगे लेकिन रविवार और शनिवार को ज़रूरी वस्तुओं की दुकानों के अलावा अन्य उत्पादों की बिक्री पर मनाही के कारण ग्राहक ढाबो में भी कम संख्या में आ रहे है और आमदनी शून्य हो गई है। ढाबा संचालकों ने मांग की है कि या तो सरकार पूर्णतया बंद करे या सभी दुकानों को खोलने के लिए समय निर्धारित करे ताकि उन्हें भी राहत मिल सके

-
-
Have something to say? Post your comment
-
और विशेष खबरें
उप राजिक मोहर सिंह छींटा सेवानिवृत वन चौकीदार से BO बनने तक का संघर्षपूर्ण सफर । नाम सक्षम ठाकुर योगा में हिमाचल और परिवार का नाम कर रहा ऊँचा विदेश से नौकरी छोड़ी, सब्जी उत्पादन से महक उठा स्वरोजगार सुगंधित फूलों की खेती से महकी सलूणी क्षेत्र के किसानों के जीवन की बगिया मौत यूं अपनी ओर खींच ले गई मेघ राज को ।हादसास्थल से महज दो किलोमीटर पहले अन्य गाड़ी से उतरकर सवार हुआ था हादसाग्रस्त आल्टो में । पीयूष गोयल ने दर्पण छवि में हाथ से लिखी १७ पुस्तकें. शिक्षक,शिक्षार्थी और समाज; लायक राम शर्मा हमें फक्र है : हमीरपुर का दामाद कलर्स चैनल पर छाया पुलिस जवान राजेश(राजा) आईजीएमसी शिमला में जागृत अवस्था में ब्रेन ट्यूमर का सफल ऑपेरशन किसी चमत्कार से कम नहीं लघुकथा अपने आप में स्वयं एक गढ़ा हुआ रूप होता है। इसे यूँ भी हम कह सकते हैं - गागर में सागर भरना
-
-
Total Visitor : 1,65,85,662
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy