Sunday, June 16, 2024
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
-
कविता

मेरे शहर में ;राजीव डोगरा

-
राजीव डोगरा | April 29, 2022 05:07 PM

 

आओ!कभी मेरे शहर में
तुम को गैरों को अपना बनाकर
दिल लगाना सिखाए।

आओ!कभी मेरे शहर में
तुमको  हर एक शख्स़ से
मोहब्बत करना सिखाए।

आओ!कभी मेरे शहर में
तुम को नफरतों के बीच में
पलता इश्क दिखाएं।

आओ!कभी मेरे शहर में
तुम को विषाद में भी
खिलते हुए चेहरे दिखाएं।

आओ!कभी मेरे शहर में
तुम को महकते पहाड़ो के बीच
पंछियों की मधुर वाणी सुनाएं।



-
-
Have something to say? Post your comment
-
और कविता खबरें
आओ हम स्कूल चले, नव भारत का निर्माण करें। एसजेवीएन लिमिटेड द्वारा अखिल भारतीय कवि सम्‍मेलन का आयोजन राष्ट्रीय हिंदी सेवा सम्मान 2023 से सम्मानित हुए युवा कवि राजीव डोगरा https://youtube.com/watch?v=CwwB-3QWd7c&si=sDQTJwQAxAjzhthR हिंदी की यही अभिलाषा हिंदी बने राष्ट्रभाषा; लोकेश चौधरी क्रांति आन मिलो मुरारी: सबके चित में तुम बसे , जैसे मुरली ताल शान ए कांगडा़ सम्मान से सम्मानित हुए युवा कवि राजीव डोगरा आज मैं आजादी की गाथा सुनाती हूं ,कैसे मिली आजादी यह सबको बताती हूंं ; लोकेश चौधरी ' क्रांति नैनों में तस्वीर तुम्हारी ,दिल में यादों का संसार ;अंजना सिन्हा "सखी पुकार रही है उसकी सजनी, अबकी मिल जाए मेले; अंजना सिन्हा "सखी " जय हिंद के प्रहरी ; पूनम त्रिपाठी "रानी"
-
-
Total Visitor : 1,65,85,953
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy