Monday, July 22, 2024
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
एसजेवीएन की अध्‍यक्षता में नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति, शिमला (कार्यालय-2) की छमाही बैठक का आयोजनअंतरराष्ट्रीय मिंजर मेले में सांस्कृतिक  कार्यक्रमों के लिए  ऑडिशन आरंभ ऊना जिला प्रशासन की पर्यावरण संरक्षण को प्रेरणात्मक पहल लोगों को निशुल्क बांटे 1100 पौधेमुख्यमंत्री ने देहरा विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न प्रतिनिधिमंडलों से भेंट कीप्रतिस्पर्धा के युग में शिक्षा की भूमिका महत्वपूर्ण - डॉ. शांडिललंबलू में कुर्सी को लेकर पंचायत प्रधान और उपप्रधान के बीच उपजा विवाद, पंचायत सदस्यों सहित कोरम का किया बहिष्कारग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के विकास कार्यों की समीक्षा बैठक आयोजितशपथ ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री ने नवनिर्वाचित विधायकों को शुभकामनाएं दीं
-
देश

सर्वोच्च न्यायालय ने सरकारी वन भूमि पर खैर के पेड़ों के कटान की अनुमति प्रदान की: मुख्यमंत्री

-
Anil K. Jamwal | Bureau Himalayan update 7018631199 | May 19, 2023 01:16 PM
Picture Source Google
Anil K. Jamwal

शिमला ,             


मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने आज यहां कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने हिमाचल प्रदेश के वन विभाग के दस वन मंडलों की सरकारी वन भूमि पर खैर के पेड़ों के कटान की अनुमति प्रदान की है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष इस मामले की पुरजोर वकालत की और इसके फलस्वरूप वन विभाग के पक्ष में निर्णय आया। उन्होंने कहा कि ऊना, हमीरपुर, बिलासपुर, नालागढ़ और कुटलैहड़ वन मंडलों में खैर के पेड़ों की कटान के लिए कार्य योजना तैयार की गई है और इन वन मंडलों में प्रति वर्ष 16500 वृक्षों का कटान निर्धारित किया गया है। खैर का कटान शीघ्र ही शुरू कर दिया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि नाहन, पांवटा साहिब, धर्मशाला, नूरपुर और देहरा पांच वन मंडलों के लिए कार्य योजना तैयार की जा रही है। उन्होंने कहा कि वन अधिकारी इन पांचों वन मंडलों के लिए कार्य योजना तैयार करने के लिए वनों का निरीक्षण करने और खैर के पेड़ों की गिनती की प्रक्रिया शुरू करेंगे।
ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि खैर के पेड़ों की सिल्वीकल्चर कटाई वन प्रबंधन एवं इनके कायाकल्प के अलावा सरकार के राजस्व सृजन मंे सहायक सिद्ध होगी।
उन्होंने कहा कि खैर के वृक्षों का समय से कटान नहीं होने के कारण अधिकांश पेड़ सड़ रहे हैं और यह बेहतर वन प्रबंधन की दिशा में एक बड़ी बाधा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने राज्य के हित को ध्यान में रखते हुए इस मामले को सर्वोच्च न्यायालय में उठाया था।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने वर्ष 2018 में प्रायोगिक के आधार पर खैर के पेड़ों की कटाई के परिणाम जानने के लिए इसमें पेड़ों की कटाई की अनुमति प्रदान की थी। अब शीर्ष अदालत ने वन विभाग की राय एवं केंद्रीय अधिकार प्राप्त समिति द्वारा शीर्ष अदालत में प्रस्तुत निष्कर्षों को ध्यान में रखते हुए खैर के पेड़ों की कटाई की अनुमति प्रदान की है।

-
-
Related Articles
Have something to say? Post your comment
-
और देश खबरें
भारत में जनसंख्या वृद्धि पर विशेष रिपोर्ट: डॉ विनोद नाथ मानसून के बहुआयामी प्रभाव: डॉ विनोद नाथ गुप्त नवरात्रि का महत्व (6 जुलाई-15 जुलाई, 2024): डॉ विनोद नाथ स्वामी विवेकानन्द की पुण्य तिथि पर विशेष: डॉ विनोद नाथ राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस: डॉ विनोद नाथ ग्लोबल वार्मिंग की चिंताजनक स्थिति: डॉ विनोद नाथ पर्वतीय क्षेत्रों में जल संकट: डॉक्टर विनोद नाथ विविध जाति , धर्म और संप्रदायों के देश भारत की राजनीति को समझना इतना आसान नहीं : हेमराज ठाकुर कर्मचारी भविष्य निधि जागरूकता अभियान के तहत नाथपा झाकड़ी हाइड्रो पावर स्टेशन में कार्यक्रम आयोजित ईपीएफ के विषय में जागरूकता कार्यक्रम संपन्न
-
-
Total Visitor : 1,66,59,932
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy