Friday, July 19, 2024
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
बिंदल का दावा कांग्रेस ने देश को अंग्रेजो से भी ज्यादा नुकसान पहुंचाया हैश्रीखंड मे बहेगी ज्ञान गंगा शिमला के आचार्य राकेश भारद्वाज करेंगे प्रवचन 20 जुलाई से 27 जुलाई  तक होगा आयोजनशिक्षा मंत्री ने किया रामनगर विद्यालय भवन का लोकार्पणउपायुक्त मुकेश रेपसवाल की अध्यक्षता में पीएसीएस की बैठक आयोजितगर्मी में बार-बार की बिजली कटौती से लोग परेशान, प्रभावित हो रहे काम काजबड़सर के नशा मुक्ति केंद्र में 25 वर्षीय युवक की हत्या के बाद फरार आरोपी तुषार ने किया पुलिस स्टेशन में आत्मसमर्पण रक्षा बंधन को आना था घर लेकिन जम्मू के अखनूर में हमीरपुर के 23 साल के अग्रिवीर  की संदिग्ध मौत स्वतंत्रता दिवस की अवसर पर लोकसभा चुनावों के दौरान सराहनीय कार्यों के लिए कर्मचारियों को किया जाएगा सम्मानित
-
देश

अखिल भारतीय सर्व भाषा संस्कृति समन्वय समिति के मैसूर साहित्य उत्सव में वीणा अग्रवाल को मिलेगा साहित्य श्री सम्मान*

-
ब्यूरो हिमालयन अपडेट 7018631199 | June 05, 2023 07:35 PM
फ़ोटो:वीणा अग्रवाल


नई दिल्ली,

भारत की विश्वविख्यात साहित्यिक संस्था अखिल भारतीय सर्वभाषा संस्कृति समन्वय समिति के मैसूर में होने जा रहे तीन दिवसीय अठारहवें राष्ट्रीय अधिवेशन मैसूर महोत्सव का उद्घाटन कन्नड़ भाषा के सुप्रसिद्ध साहित्यकार और पटकथा लेखक पद्मभूषण संतेशिवरा लिंगन्नैया भैरप्पा करेंगे। पृथ्वी संरक्षण और पर्यावरण के ज्वलंत संदर्भ को समर्पित इस साहित्य महोत्सव की अध्यक्षता विश्व विख्यात चिंतक कवि प्रज्ञान पुरुष पंडित सुरेश नीरव करेंगे। इस अवसर पर संस्था की बहुराष्ट्रीय पत्रिका प्रज्ञान विश्वम के लोकार्पण के अतिरिक्त अन्य रचनाकारों की सद्यः प्रकाशित पुस्तकों का भी लोकार्पण किया जाएगा जिसमें कि तेलंगाना के साहित्यकार प्रदीप भट्ट की पुस्तक काला हंस उल्लेखनीय है। कार्यक्रम में कन्नड़ लोकसंस्कृति पर केन्द्रित लोकनृत्य, लोकसंगीत और मुंबई से आए राजोरिया दंपत्ति का गायन साहित्य महोत्सव का प्रमुख आकर्षण होंगे। इस अवसर पर प्रतिभागियों की पुस्तकों को लेकर पुस्तक प्रदर्शनी भी आयोजित की जा रही है। इस महोत्सव में साहित्य और संगीत के क्षेत्र में उल्लेखनीय सेवाओं हेतु रचनाकरों को पारंपरिक कन्नड़ शैली में सम्मिलित करते हुए अलंकृत किया जाएगा।
आगामी 19 जून को कर्नाटक के ऐतिहासिक नगर मैसूर के "रॉयल इन" सभागार में आयोजित किया जा रहे इस अधिवेशन में सम्मिलित हो रहे हैं उनमें उल्लेखनीय हैं- दिल्ली से लब्ध प्रतिष्ठ साहित्यकार- डॉक्टर सविता चड्ढा, लोकप्रिय कवयित्री उमंग सरीन, कर्नाटक के बैंगलुरू से लब्धप्रतिष्ठ गीतकार ज्ञानचंद मर्मज्ञ, तेवरी के सशक्त हस्ताक्षर दर्शन बेज़ार, सुपरिचत हिंदी सेवी श्रीमती शरद ज्ञानचंद, वरिष्ठ गीतकार सुधा अहलूवालिया,प्रतिष्ठित कवयित्री डॉक्टर कविता सिंह प्रभा, कविवर राही राज, प्रतिष्ठित कवयित्री रचना उनियाल और कर्नाटक के मैसूर से प्रतिष्ठित गीतकार श्रीलाल जोशी, तेलंगाना हैदराबाद से प्रतिष्ठित हिंदी सेवी और लोकप्रिय कवि प्रदीप भट्ट, गुजरात के वडोदरा से लोकप्रिय कवयित्री डॉक्टर राखी सिंह कटियार, बिहार की राजधानी पटना सेऊ लोकप्रिय कवि ऋषि सिन्हा, उत्तराखंड के देहरादून से प्रतिष्ठित कवि सुभाष सैनी, लोकप्रिय गायिका सुमन सैनी, हरियाणा के गुरु ग्राम से लोकप्रिय कवि राजेन्द्र राज निगम, लोकप्रिय कवयित्री इंदु राज निगम, प्रतिष्ठित साहित्यकार वीणा अग्रवाल, राष्ट्रीय राजधानी उत्तर प्रदेश के नोएडा शहर से प्रज्ञान पुरुष पंडित सुरेश नीरव, प्रतिष्ठित कवयित्री मधु मिश्रा, विख्यात कवि विजय प्रशांत, प्रताप गढ़ से कविवर डॉक्टर एल. बी. तिवारी अक्स, कानपुर से डॉक्टर रश्मि कुलश्रेष्ठ, और अजय कुलश्रेष्ठ, ग़ाज़ियाबाद से प्रतिष्ठित कवयित्री डॉक्टर और समाज सेविका डॉक्टर वीणा मित्तल, राजस्थान के सवाईमाधोपुर से सुप्रसिद्ध शिक्षाविद्, समाज सेवी एवं साहित्य कार डॉक्टर मधु मुकुल चतुर्वेदी, विदुषी साहित्य सेवी इंद्रा चतुर्वेदी, मध्य प्रदेश के इंदौर से प्रतिष्ठित कवि एवं मोटीवेशनल स्पीकर दिनेश दवे "देव", छतरपुर से लोकप्रिय कवयित्री ममता सिंह और साहित्य सेवी अर्वेन्द्र गहरवार ( छतरपुर)। इसके अलावा अन्य अनेक प्रतिष्ठित सृजनकर्मी इस अधिवेशन में सम्मिलित हो रहे हैं। अधिवेशन के पहले सत्र में जहां पृथ्वी संरक्षण और विश्व बंधुत्व के ज्वलंत संदर्भ पर आलेख वाचन,पुस्तक प्रदर्शनी, संस्था की बहुराष्ट्रीय पत्रिका प्रज्ञान विश्वम् तथा कुछ और चुनिंदा पुस्तकों का लोकार्पण और संस्था के प्रतिष्ठित अलंकरण से रचनाकारों को सम्मानित किया जाएगा। अधिवेशन के दूसरे सत्र में अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। तीसरे दिन शैक्षिक पर्यटन कार्यक्रम के साथ अधिवेशन संपन्न घोषित किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि संपूर्ण अधिवेशन का लाइव प्रसारण भी किया जाएगा।
यह बताना भी जरूरी होगा कि अखिल भारतीय सर्वभाषा संस्कृति समन्वय समिति (पंजीकृत) साहित्य/कला/संस्कृति और देश की समस्त भाषाओं के उन्नयन को समर्पित अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठित एक गैर सरकारी देश की एक अगृणी संस्था है जो अभी तक राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली, मुंबई ( महाराष्ट्र), पंजी(गोवा) , गुवाहाटी (असम), श्रीनगर,जम्मू कश्मीर, शिमला ( हिमाचल), बैंगलुरू (कर्नाटक), पोर्टब्लेयर (अंडमान निकोबार) , शिरडी,गांधी नगर (गुजरात), बद्रीनाथ (उत्तराखंड), ग्वालियर ( मध्यप्रदेश), मुरैना ( मध्यप्रदेश),हिसार ( हरियाणा), विशाखापत्तनम
(आंध्र प्रदेश), ग़ाज़ियाबाद (उत्तर प्रदेश)और मसूरी ( उत्तराखंड) सहित, देश के भिन्न-भिन्न सत्रह राज्यों में अपने राष्ट्रीय अधिवेशन के अलावा देहरादून,इंदौर, नागदा और उज्जैन में भी विशेष साहित्यिक कार्यक्रम आयोजित कर चुकी है।

-
-
Have something to say? Post your comment
-
और देश खबरें
भारत में जनसंख्या वृद्धि पर विशेष रिपोर्ट: डॉ विनोद नाथ मानसून के बहुआयामी प्रभाव: डॉ विनोद नाथ गुप्त नवरात्रि का महत्व (6 जुलाई-15 जुलाई, 2024): डॉ विनोद नाथ स्वामी विवेकानन्द की पुण्य तिथि पर विशेष: डॉ विनोद नाथ राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस: डॉ विनोद नाथ ग्लोबल वार्मिंग की चिंताजनक स्थिति: डॉ विनोद नाथ पर्वतीय क्षेत्रों में जल संकट: डॉक्टर विनोद नाथ विविध जाति , धर्म और संप्रदायों के देश भारत की राजनीति को समझना इतना आसान नहीं : हेमराज ठाकुर कर्मचारी भविष्य निधि जागरूकता अभियान के तहत नाथपा झाकड़ी हाइड्रो पावर स्टेशन में कार्यक्रम आयोजित ईपीएफ के विषय में जागरूकता कार्यक्रम संपन्न
-
-
Total Visitor : 1,66,51,363
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy