Friday, July 19, 2024
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
बिंदल का दावा कांग्रेस ने देश को अंग्रेजो से भी ज्यादा नुकसान पहुंचाया हैश्रीखंड मे बहेगी ज्ञान गंगा शिमला के आचार्य राकेश भारद्वाज करेंगे प्रवचन 20 जुलाई से 27 जुलाई  तक होगा आयोजनशिक्षा मंत्री ने किया रामनगर विद्यालय भवन का लोकार्पणउपायुक्त मुकेश रेपसवाल की अध्यक्षता में पीएसीएस की बैठक आयोजितगर्मी में बार-बार की बिजली कटौती से लोग परेशान, प्रभावित हो रहे काम काजबड़सर के नशा मुक्ति केंद्र में 25 वर्षीय युवक की हत्या के बाद फरार आरोपी तुषार ने किया पुलिस स्टेशन में आत्मसमर्पण रक्षा बंधन को आना था घर लेकिन जम्मू के अखनूर में हमीरपुर के 23 साल के अग्रिवीर  की संदिग्ध मौत स्वतंत्रता दिवस की अवसर पर लोकसभा चुनावों के दौरान सराहनीय कार्यों के लिए कर्मचारियों को किया जाएगा सम्मानित
-
कविता

आज मैं आजादी की गाथा सुनाती हूं ,कैसे मिली आजादी यह सबको बताती हूंं ; लोकेश चौधरी ' क्रांति

-
लोकेश चौधरी ' क्रांति ' | August 05, 2023 12:21 PM
चित्र : राष्ट्रीय तिरंगा और लोकेश चौधरी

आजादी

आजादी आजादी खैरात में नहीं मिली आजादी .........

आज मैं आजादी की गाथा सुनाती हूं ।
कैसे मिली आजादी यह सबको बताती हूंं ।।

जब सावरकर ने काला पानी में कोल्हू चलाया था।
अंग्रेजों को अपने स्वाभिमान से झुकाया था ।
छत्रपति शिवाजी ने मुगलों के विरुद्ध तांडव मचाया था
पोरस ने सिकंदर को भारत से भगाया था ।
मंगल पांडे ने 1857 की क्रांति का बिगुल बजाया था
जब अंग्रेजों ने निहत्थे भारतीयों पर गोली चलवाई थी ।
तब उधम सिंह ने लंदन में अंग्रेजों को उनकी औकात दिखाई थी ।।
तब जाकर यह आजादी हमको मिल पाई थी .....

आज मैं आजादी की गाथा सुनाती हूं
कैसे मिली आजादी यह सब को बताती हू ।।

रानी ने जब झांसी में तलवार उठाई थी ।
झलकारी ने देश प्रेम की राह दिखाई थी ।
पद्मिनी ने जौहर करके लाज बचाई थी ।
दुर्गावती ने युद्ध क्षेत्र में जान गवाई दी थी ।।
जब अंग्रेजों ने भारतीयों की पल-पल की रुसवाई थी ।
सुभद्रा कुमारी चौहान ने अपनी कलम से आजादी की अलख जगाई थी ।

तब जाकर यह आजादी हमको मिल पाई थी .......
आज मैं आजादी की गाथा सुनाती हूं ।
कैसे मिली आजादी यह सबको बताती हूंं ।।

13 साल की उम्र में आजाद ने कोड़े खाए थे ।
भगत सिंह अंग्रेजों पर शेर की तरह गुर्राएं थे ।
राजगुरु सुखदेव फांसी पर चढ़ने से ना घबराए थे ।।
खुदीराम बोस ने अंग्रेजों को नाकों चने चबवाये थेे ।
जब अंग्रेजों ने भारतीयों की पल-पल की रुसवाई थी ।
तब सुभाष चंद्र बोस ने आजाद हिंद फौज बनाई थी ।।
तब जाकर यह आजादी हमको मिल पाई थी ......

आज मैं आजादी की गाथा सुनाती हूं ।
कैसे मिली आजादी यह सबको बताती हूंं ।।

लोकेश चौधरी ' क्रांति '
स्वरचित कविता
गुरुग्राम हरियाणा

-
-
Related Articles
Have something to say? Post your comment
-
और कविता खबरें
आओ हम स्कूल चले, नव भारत का निर्माण करें। एसजेवीएन लिमिटेड द्वारा अखिल भारतीय कवि सम्‍मेलन का आयोजन राष्ट्रीय हिंदी सेवा सम्मान 2023 से सम्मानित हुए युवा कवि राजीव डोगरा https://youtube.com/watch?v=CwwB-3QWd7c&si=sDQTJwQAxAjzhthR हिंदी की यही अभिलाषा हिंदी बने राष्ट्रभाषा; लोकेश चौधरी क्रांति आन मिलो मुरारी: सबके चित में तुम बसे , जैसे मुरली ताल शान ए कांगडा़ सम्मान से सम्मानित हुए युवा कवि राजीव डोगरा नैनों में तस्वीर तुम्हारी ,दिल में यादों का संसार ;अंजना सिन्हा "सखी पुकार रही है उसकी सजनी, अबकी मिल जाए मेले; अंजना सिन्हा "सखी " जय हिंद के प्रहरी ; पूनम त्रिपाठी "रानी" मुझे भूलना इतना आसान न होगा; पूनम त्रिपाठी "रानी"
-
-
Total Visitor : 1,66,51,623
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy