Friday, May 24, 2024
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
उपायुक्त एवं पुलिस अधीक्षक ने अर्की विधानसभा क्षेत्र के संवेदनशील मतदान केंद्रों का किया निरीक्षणपीठासीन और सहायक पीठासीन कर्मियों के लिए दूसरे चरण की कार्यशाला सम्पन्नपंचायती राज विभाग की शान है ऐसे कर्मचारी, चौपाल पंचायती राज विभाग में बतौर सचिव के पद पर तैनात नरेंद्र पांटा की मिसाल एक ईमानदार कर्मचारी के तौर पर दी जाती हैप्रदेश निर्वाचन आईकॉन जसप्रीत पाल चंबा में साइकलिंग द्वारा करेंगे मतदाताओं को जागरूक  - मुकेश रेपसवालराष्ट्रीय सुरक्षा को ताक पर रखने का कार्य कर रहा इंडी गठबंधन : सुरेश कश्यपजिला चंबा में अब्सेंटी वोटर श्रेणी के 695 मतदाताओं ने किया मतदान-मुकेश रेपसवाल।भगवान बुद्ध की शिक्षाएं आज और भी अधिक प्रासंगिक: राज्यपाल चुनाव आयोग के दिशा निर्देशों और नियमों का पालन करने में न बरतें कोताही- तोरुल एस रवीश
-
धर्म संस्कृति

आनी के शीगागी गाँव में हुआ अनूठी परंपरा का निर्वहन, क्षेत्र के गढपति देवता शमशरी महादेव और मालाणा के देवता जमलू के बीच निभाई जाती प्राचीन समय में हुए युद्ध की रस्म

-
ब्यूरो हिमालयन अपडेट 7018631199 | September 10, 2023 10:26 PM
 
आनी,
आनी क्षेत्र के विभिन्न गाँवों में इन दिनों  आराध्य गढ़पति देवता शमशरी के सतराला मेले की खूब धूम मची है। जिसमें ग्रामीणों द्वारा देव समाज की कई अनूठी परंपराओं का निर्वहन किया रहा है। बताते चलें कि आनी क्षेत्र के आराध्य गढपति देवता शमशरी महादेव सात साल के लंबे अंतराल के बाद इन दिनों अपने अधिकार क्षेत्र के 33 गाँवों के दौरे पर हैं। गत 13 अगस्त से शुरू हुए इस दौरे में देवता जिस जिस भी गाँव में जा रहे हैं. वहाँ देवता के स्वागत में भव्य मेलों क आयोजन किया जा रहा है। जिसमें ग्रामीण अपनी लोक संस्कृति के रंग में रंगकर खूब लुत्फ़  उठा रहे हैं। देवता के इस विशेष फेरे  मेले को सतराला कहा जाता है। खास बात यह कि इन मेलों में कई स्थानों पर    अनूठी देव परंपराएं भी निभाई जा रही हैं। इसी तरह की बिचित्र परंपरा रविवार को आनी खंड की खणी पंचायत के अंतिम गाँव शीगागी में भी निभाई गई। जहाँ देवता शमशरी महादेव के गाँव की सीमा में प्रवेश करते ही. उनके रथ पर ग्रामीणों द्वारा मिट्टी के ठेलों और बिच्छू बूटी से प्रहार किया गया। बाबजूद इसके देवता का रथ उस प्रहार का सामना करते हुए पूरे जोश के साथ आगे गाँव की ओर बढ़ता है। और देवता के  गाँव  की दहलीज पर कदम रखते ही युद्ध समाप्त हो जाता है और ग्रामीण देवता को नाचते गाते हुए पूरे उमंग व उत्साह के साथ देवालय स्थल तक ले जाते हैं। जहाँ देवता का भव्य स्वागत करने के बाद. उनके स्वागत में मेले का आयोजन करते हैं। उसके बाद देवता खुन्न पहुँचता है. जहाँ देवता के सम्मान में ग्रामीणों द्वारा एक भव्य नाटी का आयोजन किया जाता है।शगागि में देवता को मिट्टी के ठेलों व बिच्छू बुट्टी से प्रहार की रस्म के पीछे क्या बजह है। इस बारे में हिम संस्कृति संस्था के अध्यक्ष शिव राज शर्मा का कहना है कि बुजुर्गों से सुनी दंत कथा के अनुसार आदि काल में शिगागि का क्षेत्र देवता जमलू के अधिकार क्षेत्र में था। इसी बीच देवता शमशरी महादेव ने उस क्षेत्र को अपने अधीनस्थ करने के लिए जमलू देवता पर आक्रमण किया। तब जमलू देवता के सेनानियों ने शमशरी महादेव पर प्रहार किया और उसे युद्ध में परास्त करने का प्रयास किया। मगर शमशरी महादेव ने बदले में ताबड़ तोड़ हमला बोलकर जमलू देवता को परास्त किया और उसके क्षेत्र को छीन कर. अपने अधिकार क्षेत्र में लिया। वर्तमान में उस समय की यह परंपरा आज भी शमशरी   महादेव के शगागि गाँव में पधारने पर निभाई जाती है। 
-
-
Have something to say? Post your comment
-
और धर्म संस्कृति खबरें
आनी  के ठोगी गाँव में माहूँनाग मेले की धूम आ जाओ माँ दिल घबराये देर न हो जाए कहीं देर न हो जाए पर झूम उठे भक्त विशु मेला पबास जिसमे आपके पांशी दल ननाहर बनाम शाठी दल मझारठी को आंमत्रित किया जा रहा है जिला स्तरीय आनी मेले की दूसरी सांस्कृतिक संध्या में हिमाचली फोक  सिंगर ए.सी भारद्वाज. सुरेश शर्मा. हनी नेगी. राज ठाकुर. तथा शेर सिंह कौशल ने अपनी गायकी से  लूटा आनी वासियों का दिल देव आगमन के साथ चार दिवसीय जिला स्तरीय आनी मेला शुरू जिला स्तरीय आनी मेला सात से मई तक देवी देवताओं के आगमन से शुरू होगा प्राचीन मेला देवता शमशरी महादेव देवता चनाई नाग के सानिध्य मे ग्रामीण मेला बाहु धूमधाम से शुरु आनी  में  अष्टमी पर बंटा घी  का हलवा निरमंड के बागा सराहान का ऐतिहासिक झीरू मेला पर्व प्राचीन रीति रिवाज के साथ सम्पन्न  छ्ठे नवरात्रे पर बाड़ी मन्दिर में खूब लगे माँ के जयकारे
-
-
Total Visitor : 1,65,30,677
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy