Saturday, December 09, 2023
Follow us on
-
कारोबार

उत्तराखंड के मोरी में 60 मेगावाट की नैटवाड़ मोरी जलविद्युत परियोजना की प्रथम यूनिट की मैकेनिकल स्पिनिंग की शुरुआत

 
Anil jamwal 7018631199 | September 27, 2023 06:33 PM

 

शिमला,

 नन्द लाल शर्मा, अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, एसजेवीएन ने आज बटन दबाकर उत्तराखंड के मोरी में 60 मेगावाट की नैटवाड़ मोरी जलविद्युत परियोजना की प्रथम यूनिट की मैकेनिकल स्पिनिंग की शुरुआत की।

 नन्द लाल शर्मा ने कहा कि टरबाइन जेनरेटर एवं जल प्रवाह संबंधी सहायक उपकरणों की स्पिनिंग, इकाइयों के सिंक्रनाइज़ेशन की अंतिम तैयारी का संकेत है। जलविद्युत परियोजना घटकों को भरने के लिए प्रक्रियात्मक दिशानिर्देशों के अनुसार बैराज और हेड रेस टनल में जल भराव किया गया है।

अपने दौरे के दौरान, नन्द लाल शर्मा ने बैराज, पावर इनटेक, डिसिल्टिंग टैंक, मशीन हॉल और स्विचयार्ड इत्यादि साइटों का दौरा किया।  शर्मा ने यमुना परिसर में नवनिर्मित मंदिर का उद्घाटन करते हुए पूजा और हवन किया। उनके साथ  गीता कपूर, निदेशक (कार्मिक),  ए.के. सिंह, निदेशक (वित्त),  सुशील शर्मा, निदेशक (विद्युत),  जे.एस. नैय्यर (परियोजना प्रमुख) और कंपनी के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

कर्मचारियों, ठेकेदारों और श्रमिकों को संबोधित करते हुए,  नन्द लाल शर्मा ने परियोजना को कमीशनिंग चरण में लाने में उनके प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि इस महत्वपूर्ण उपलब्धि ने हमें उत्तराखंड की विशाल जल विद्युत क्षमता के दोहन के लिए एक कदम और करीब ला दिया है।

60 मेगावाट की नैटवाड़ मोरी जलविद्युत परियोजना उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में टोंस नदी से ऊर्जा दोहन करने के लिए बनाई गई रन ऑफ द रिवर परियोजना है। इस परियोजना से प्रतिवर्ष 265.5 मिलियन यूनिट विद्युत उत्पादित होगी। एसजेवीएन ने नैटवाड़ मोरी जलविद्युत परियोजना के बैनोल से सनैल तक विद्युत निकासी हेतु 37 किमी 220 केवी ट्रांसमिशन लाइन का निर्माण किया है।

परियोजना, बुनियादी ढांचे के विकास और प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार सृजन के साथ क्षेत्र के समग्र विकास के लिए कार्य कर रही है। एसजेवीएन की कारपोरेट सामाजिक जिम्मेदारी के अंतर्गत सतलुज संजीवनी मोबाइल हेल्थ वैन, कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम, खेल और सांस्कृतिक विरासत को बढ़ावा देना, ढांचागत कार्यों जैसे विभिन्न विकासात्मक कार्यों से आस-पास के क्षेत्र को लाभ हो रहा है।

यह उपलब्धि गैर-जीवाश्म ईंधन स्रोतों से ऊर्जा का दोहन करने की एसजेवीएन की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। सततशील भविष्य की ओर बढ़ते हुए, एसजेवीएन का लक्ष्य वर्ष 2040 तक 50000 मेगावाट की कंपनी बनने का है।

-------0-------

-
-
Have something to say? Post your comment
-
और कारोबार खबरें
लॉर्ड्स मार्क बायोटेक ने सोरायसिस के इलाज के लिए लॉन्च किया टाइनेफकॉन https://youtu.be/6KPTCKm_shQ नवरात्रों में फीका रहा पर्यटन कारोबार, 30 फीसदी रही ऑक्यूपेंसी, पर्यटन कारोबारी परेशान उपतहसील निथर के ग्वाल गांव में लोगों ने जानी कांगड़ा बैंक की वितीय डिजिटल सुविधा एसजेवीएन ने आरई एवं धर्मल परियोजनाओं के लिए 1,18,000 करोड़ रुपए वित्तपोषण हेतु पीएफसी के साथ एमओयू हस्ताक्षरित रामपुर एचपीएस द्वारा 31 अगस्त को 337.1653 मिलियन यूनिट बिजली उत्पादन का अब तक का सर्वश्रेष्ठ मासिंक कीर्तिमान बैंको की कुल जमा राशि में 9847 करोड़ रुपये की और अग्रिम में रु. 4269 करोड़ की वृद्धि;राजेंद्र कुमार साबू राज्य सहकारी बैंक ने वित वर्ष में जमाधन में की 10.68 प्रतिशत की बढ़ौतरी : देवेंद्र श्याम यूको आरसेटी शिमला देगा मोमबत्ती बनाने का निःशुल्क प्रशिक्षण रामपुर एचपीएस में 73वाँ गणतंत्र दिवस समारोह विधीवत हर्षोल्लास से मनाया नाथपा झाकड़ी हाइड्रो पावर स्टेशन के नाम सीज़न का सर्वाधिक दैनिक विद्युत-उत्पादन का रिकॉर्ड
-
-
Total Visitor : 1,59,43,240
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy