Tuesday, April 23, 2024
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक आदर्श विद्यालय तकलेच में विश्व पृथ्वी दिवस के उपलक्ष में विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया गया।आबकारी विभाग ने 6805 लीटर अवैध शराब बरामद कीराज्यपाल ने परवाणु में जल जनित रोगों की रोकथाम एवं नियंत्रण संबंधी उपायों की समीक्षा कीप्रदेश में क़ानून व्यवस्था की स्थिति लचर, महिलाओं पर बढ़ रहे अपराध के मामले : डॉ सीमा ठाकुर सरकार उठाएगी पीड़ित बिटिया के इलाज का पूरा खर्च : मुख्यमंत्रीराज्यपाल ने परवाणु में जल जनित रोगों की रोकथाम एवं नियंत्रण संबंधी उपायों की समीक्षा कीसीएम के सुजानपुर दौरे ने भरा कार्यकर्ताओं में जोश , एकजुटता देख सुक्खू का खिला चेहरा मेरा वोट मेरा भविष्य" थीम पर 28 अप्रैल को आयोजित होगी साइकिल रैली
-
दुनिया

त्योहारों के सांस्कृतिक मूल्य और वर्तमान चुनौतियां

-
डॉ विनोद नाथ | March 25, 2024 08:45 PM
चित्र: सभार गूगल

त्योहारों में सांस्कृतिक मूल्यों का महत्व बहुत अधिक होता है। ये मूल्य लोगों के जीवन में समाजिक, सांस्कृतिक, और आध्यात्मिक संगठन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाते हैं। त्योहार लोगों को एक साथ आने का अवसर प्रदान करते हैं और सामाजिक एकता और संबंधों को मजबूत करते हैं। लोग अपने परिवार, मित्र, और समुदाय के  साथ एक साथ आने का आनंद लेते हैं। त्योहार एक परंपरागत विरासत का हिस्सा हैं और लोगों को अपनी संस्कृति और धरोहर के प्रति समर्पित रहने का मौका प्रदान करते हैं।
त्योहार आध्यात्मिक सांस्कृतिक मूल्यों को प्रतिष्ठित करते हैं और समुदाय को धार्मिक आदर्शों और मान्यताओं का सम्मान करने के लिए प्रेरित करते हैं। त्योहार मानव का संस्कृति के प्रति समर्पण बढ़ाते हैं और अपने संस्कृति को समृद्ध और जीवंत रखने के लिए प्रेरित करते हैं। त्योहारों में विशेष प्रकार की गतिविधियों और आयोजनों के माध्यम से समुदायों को संबल और संगठित करने में मदद मिलती है। इन आयोजनों में शामिल होने से लोग अपने समुदाय के साथ जुड़े रहते हैं और सामूहिक रूप से काम करने का मौका प्राप्त करते हैं। इन सांस्कृतिक मूल्यों के कारण ही त्योहार लोगों के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और समृद्धि और समानता के लिए महत्वपूर्ण हैं।

पिछले कई सालों से हमारे देश में अनेक प्रकार के सांस्कृतिक परिवर्तन आए हैं। यह महसूस किया जाने लगा है कि हम अपनी सांस्कृतिक विरासतों से दूर होते जा रहे हैं और हम अपने त्योहार संस्कृति मूल्य में गिरावट देख रहे हैं इसका एक कारण यह भी है कि हम सभ्यता और धरोहरों को अनदेखा कर रहे हैं। इसके साथ ही बहुत से अन्य कारण भी है जैसे की

1. व्यस्त जीवनशैली: आधुनिक जीवनशैली में लोगों का जीवन बहुत व्यस्त है, जिसके कारण वे समय से बाहर जा कर अपनी परंपरागत और सांस्कृतिक गतिविधियों में शामिल नहीं हो पाते।
2. परिवारिक संबंधों में परिवर्तन: परिवार संबंधों में बदलाव और उद्योगीकरण के कारण, परंपरागत त्योहारों को मनाने का तरीका भी बदलता जा रहा है। लोग अक्सर दूर जाते हैं और परिवार से अलग होते हैं, जिससे परंपरागत त्योहारों को मनाने का मौका कम हो जाता है।
3. कमजोर हो रही सामाजिक बांधिकता: आधुनिक समाज में सामाजिक बांधिकता कमजोर हो रही है, और इसके परिणामस्वरूप परंपरागत त्योहारों के महत्व और मान्यताओं में कमी आ रही है।
4. विदेशी संस्कृतियों का प्रभाव: वैश्वीकरण के कारण, विदेशी संस्कृतियों का प्रभाव बढ़ रहा है और लोग विदेशी त्योहारों को अपना रहे हैं। इससे परंपरागत त्योहारों के मूल्यों को कम होने का खतरा है।
5. व्यापारीकरण और विज्ञान की प्रगति: व्यापारीकरण और विज्ञान की प्रगति के साथ-साथ, विभिन्न उत्पादों और सेवाओं की बढ़ती उपलब्धता के कारण, लोगों को अपने समय और पैसे का संचय करने की आवश्यकता हो रही है, जिसके चलते वे त्योहारों को मनाने के लिए समय निकालने में कम हो रहे हैं।
इन सभी कारणों के संयुक्त प्रभाव से त्योहारों के सांस्कृतिक मूल्यों का कम होना देखा जा रहा है। हालांकि, यह भी सत्य है कि बहुत से लोग अपने त्योहारों के मूल्यों को महत्व देते हैं और उन्हें जीवंत रखने के लिए प्रयासरत रहते हैं।
सांस्कृतिक त्योहारों और सामुदायिक पहलों सहित सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित और बढ़ावा देने के प्रयास सांस्कृतिक विविधता और पहचान को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती हैं। इसके अतिरिक्त, सांस्कृतिक आदान-प्रदान और अनुकूलन के मूल्य को पहचानने से समाज को अपनी सांस्कृतिक विरासत के सार को संरक्षित करते हुए वैश्वीकरण द्वारा उत्पन्न चुनौतियों से निपटने में मदद मिल सकती है।

-
-
Related Articles

राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक आदर्श विद्यालय तकलेच में विश्व पृथ्वी दिवस के उपलक्ष में विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया गया।

आबकारी विभाग ने 6805 लीटर अवैध शराब बरामद की

राज्यपाल ने परवाणु में जल जनित रोगों की रोकथाम एवं नियंत्रण संबंधी उपायों की समीक्षा की

प्रदेश में क़ानून व्यवस्था की स्थिति लचर, महिलाओं पर बढ़ रहे अपराध के मामले : डॉ सीमा ठाकुर 

सरकार उठाएगी पीड़ित बिटिया के इलाज का पूरा खर्च : मुख्यमंत्री

राज्यपाल ने परवाणु में जल जनित रोगों की रोकथाम एवं नियंत्रण संबंधी उपायों की समीक्षा की

सीएम के सुजानपुर दौरे ने भरा कार्यकर्ताओं में जोश , एकजुटता देख सुक्खू का खिला चेहरा 

मेरा वोट मेरा भविष्य" थीम पर 28 अप्रैल को आयोजित होगी साइकिल रैली

100 करोड़ के खनन माफिया का शीघ्र होगा खुलासा : सुखविंदर सिंह सुक्खू 

पीएम श्री उत्कृष्ट विद्यालय आनी में पृथ्वी दिवस का आयोजन* 

Have something to say? Post your comment
-
और दुनिया खबरें
-
-
Total Visitor : 1,64,62,562
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy