Friday, May 24, 2024
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
उपायुक्त एवं पुलिस अधीक्षक ने अर्की विधानसभा क्षेत्र के संवेदनशील मतदान केंद्रों का किया निरीक्षणपीठासीन और सहायक पीठासीन कर्मियों के लिए दूसरे चरण की कार्यशाला सम्पन्नपंचायती राज विभाग की शान है ऐसे कर्मचारी, चौपाल पंचायती राज विभाग में बतौर सचिव के पद पर तैनात नरेंद्र पांटा की मिसाल एक ईमानदार कर्मचारी के तौर पर दी जाती हैप्रदेश निर्वाचन आईकॉन जसप्रीत पाल चंबा में साइकलिंग द्वारा करेंगे मतदाताओं को जागरूक  - मुकेश रेपसवालराष्ट्रीय सुरक्षा को ताक पर रखने का कार्य कर रहा इंडी गठबंधन : सुरेश कश्यपजिला चंबा में अब्सेंटी वोटर श्रेणी के 695 मतदाताओं ने किया मतदान-मुकेश रेपसवाल।भगवान बुद्ध की शिक्षाएं आज और भी अधिक प्रासंगिक: राज्यपाल चुनाव आयोग के दिशा निर्देशों और नियमों का पालन करने में न बरतें कोताही- तोरुल एस रवीश
-
हिमाचल

राज्यपाल ने आईएफएस प्रोबेशनर्स के साथ संवाद किया

-
ब्यूरो हिमालयन अपडेट | May 15, 2024 07:21 PM

शिमला,

भारतीय वन सेवा के पहले बैच के 64 परिवीक्षार्थियों ने शिमला में अपने विषयगत दौरे के अंतर्गत आज राजभवन में राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल से भेंट की। इस अवसर पर संवाद सत्र का आयोजन भी किया गया।
राज्यपाल ने अधिकारियों के साथ संवाद करते हुए कहा कि प्रकृति ने हिमाचल प्रदेश को अपार प्राकृतिक सौन्दर्य से नवाजा है और परिवीक्षार्थियों को अपनी इस यात्रा के दौरान शिमला के घने वन क्षेत्रों का दौरा करने का अवसर मिलेगा। उन्होंने कहा कि इससे उन्हें शिमला में वन्य पारिस्थितिक तंत्र को और अधिक जानने और समझने का अवसर प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि हमारे पूर्वजों ने वनों के महत्व को इस प्रकार परिभाषित किया है कि एक पेड़ लगाना दस संतान के समान है और अब इन वनों के संरक्षण और विकास का दायित्व आपका होगा। उन्होंने कहा कि सभी प्रशिक्षु युवा और ऊर्जावान हैं और उन्हें विश्वास है कि वे अपनी जिम्मेदारियों का पूरी निष्ठा से निर्वहन करेंगे।
राज्यपाल ने कहा कि पर्यावरण परिवर्तन आज की सबसे बड़ी चुनौती है और मौसम परिवर्तन के कारण कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। हमें प्रकृति का संरक्षण करने के साथ-साथ जंगलों और जंगली जानवरों का भी संरक्षण करना होगा। उन्होंने कहा कि पर्वतीय राज्यों में जंगलों में आग लगने की घटनाएं तेजी से बढ़ रही हैं जिससे निपटने में आधुनिक तकनीक का उपयोग महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।
राज्यपाल ने कहा कि लोगों की आवश्यकताओं के अनुरूप विभिन्न विकासात्मक कार्यों करने की जरूरत है। उन्होंने हिमाचल जैसे पहाड़ी राज्य में नौतोड़ व चारागाह भूमि आदि मुद्दों पर सहयोगात्मक रवैया अपनाने पर भी बल दिया।
इससे पूर्व आईएफएस प्रोबेशनर्स अनुराधा मिश्रा ने बैच प्रोफाइल और पाठ्यक्रम के बारे में विस्तार से जानकारी दी तथा अनुष्का लोहिया ने विषयगत पर्यटन, विशेषकर पर्वतीय पर्यटन के बारे में विस्तार से बताया।
इस अवसर पर प्रशिक्षु अधिकारियों ने भी अपने अनुभव साझा किये।
राज्यपाल के सचिव राजेश शर्मा, हिमाचल प्रदेश वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारी, प्रशिक्षु अधिकारियों और संकाय सदस्य भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

-
-
Have something to say? Post your comment
-
और हिमाचल खबरें
उपायुक्त एवं पुलिस अधीक्षक ने अर्की विधानसभा क्षेत्र के संवेदनशील मतदान केंद्रों का किया निरीक्षण पीठासीन और सहायक पीठासीन कर्मियों के लिए दूसरे चरण की कार्यशाला सम्पन्न पंचायती राज विभाग की शान है ऐसे कर्मचारी, चौपाल पंचायती राज विभाग में बतौर सचिव के पद पर तैनात नरेंद्र पांटा की मिसाल एक ईमानदार कर्मचारी के तौर पर दी जाती है प्रदेश निर्वाचन आईकॉन जसप्रीत पाल चंबा में साइकलिंग द्वारा करेंगे मतदाताओं को जागरूक  - मुकेश रेपसवाल राष्ट्रीय सुरक्षा को ताक पर रखने का कार्य कर रहा इंडी गठबंधन : सुरेश कश्यप जिला चंबा में अब्सेंटी वोटर श्रेणी के 695 मतदाताओं ने किया मतदान-मुकेश रेपसवाल। भगवान बुद्ध की शिक्षाएं आज और भी अधिक प्रासंगिक: राज्यपाल चुनाव आयोग के दिशा निर्देशों और नियमों का पालन करने में न बरतें कोताही- तोरुल एस रवीश भुट्टो ने पैसे के लालच में बेची विधायकी, हर बार पीएमजीएसवाई के टेंडर मांगते थे : मुख्यमंत्री अमित शाह आएंगे हिमाचल टूर फाइनल : बिहारी
-
-
Total Visitor : 1,65,30,569
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy