Friday, July 19, 2024
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
बिंदल का दावा कांग्रेस ने देश को अंग्रेजो से भी ज्यादा नुकसान पहुंचाया हैश्रीखंड मे बहेगी ज्ञान गंगा शिमला के आचार्य राकेश भारद्वाज करेंगे प्रवचन 20 जुलाई से 27 जुलाई  तक होगा आयोजनशिक्षा मंत्री ने किया रामनगर विद्यालय भवन का लोकार्पणउपायुक्त मुकेश रेपसवाल की अध्यक्षता में पीएसीएस की बैठक आयोजितगर्मी में बार-बार की बिजली कटौती से लोग परेशान, प्रभावित हो रहे काम काजबड़सर के नशा मुक्ति केंद्र में 25 वर्षीय युवक की हत्या के बाद फरार आरोपी तुषार ने किया पुलिस स्टेशन में आत्मसमर्पण रक्षा बंधन को आना था घर लेकिन जम्मू के अखनूर में हमीरपुर के 23 साल के अग्रिवीर  की संदिग्ध मौत स्वतंत्रता दिवस की अवसर पर लोकसभा चुनावों के दौरान सराहनीय कार्यों के लिए कर्मचारियों को किया जाएगा सम्मानित
-
राज्य

क्यों बढ़ रहा है हमारे देश में अंधविश्वास?: डॉ विनोद नाथ

-
संपादकीय | July 05, 2024 09:49 AM
चित्र: साभार गूगल

हमारा भारतीय समाज मेअंधविश्वासों और कुरीतियों का एक महत्वपूर्ण स्थान है हम अपनी धार्मिक परंपराओं से दूर होकर के अंधविश्वास में उलझते जा रहे हैं यह देश के लिए बहुत घातक बात है। लोग अधिकांशत बीमारियों के लिए लोग अधिकांशत बीमारियों के लिए डॉक्टर के पास जाने से कतराते हैं और तांत्रिक और ओझाओ के चक्कर में पड़ जाते हैं।

 

शिक्षा के अभाव में लोग किसी घटना के घटित होने के वैज्ञानिक कारणों से अनजान होते हैं। अंधविश्वास को ईश्वर के साथ जोड़ दिया जाता है जिससे लोग इसकी आलोचना से डरने लगते हैं। लोग मानते हैं कि कुरीतियाँ प्राचीन काल से ही चली आ रही हैं, इसलिये उन्हें इनका पालन करना चाहिये।

इन्हीं अंधविश्वासों के चलते हमारे देश में बाबा तांत्रिकों और ब्राह्मणों की दुकानदारी चलती है आए दिन हमें कोई न कोई घटना मिल जाती है जिसमें की इन बाबाओ द्वारा कुरीतियां और सामाजिक अपराध शामिल है इस बारे में हमारे समाज में जागरूकता होनी चाहिए की कुरीतियों के कारण हमारे व्यक्तिगत और राष्ट्रीय चरित्र पर प्रभाव पड़ता है।अंधविश्वास आपको कर्महीन और भाग्यवादी बनाते हैं। हमारे समाज में कुछ ऐसी मान्यताएं प्रचलित हैं जिन्हें अंधविश्वास कहा जाता है। हालांकि कुछ लोगों के लिए यह आस्था का सवाल हो सकता है।

अल्पावधि सुधारों के लिये हमें ऐसे कानूनों की आवश्यकता है जो इन कुरीतियों के अंत में सहायक हो और दाभोलकर जैसे तर्कवादियों की सुरक्षा सुनिश्चित करता हो।

जबकि दीर्घकालिक सुधार हेतु शिक्षा, तर्कसंगत सोच और वैज्ञानिक चिंतन को बढ़ावा देना होगा।संविधान की वह धारा 51-ए में मानवीयता एवं वैज्ञानिक चिंतन को बढ़ावा देने में सरकार के प्रतिबद्ध रहने की बात की गई है और यह सुनिश्चित की जानी चाहिये।

साथ ही ज़रूरत यह भी है कि अंधविश्वासों को 'परंपराओं और रीति-रिवाज़ों’ से अलग रखा जाए, क्योंकि ये किसी देश के लोकाचार को प्रतिबिंबित करती हैं ।

-
-
Related Articles
Have something to say? Post your comment
-
और राज्य खबरें
सावधान !! बरसात के मौसम में कई बीमारियों का खतरा: डॉ विनोद नाथ स्वर्गीय वीरभद्र सिंह की तीसरी पुण्यतिथि पर अर्पित की भावभीनी श्रद्धांजलि मुख्यमंत्री जी आपने तो डिनोटिफिकेशन का दौर चला दिया, हमीरपुर से भाजपा की दी सभी सुविधाएं छीन ली : जयराम प्रदेश में कबाड़ माफिया, खनन एम, चिट्टा माफिया हावी : बिंदल उप-चुनाव सम्बन्धी कार्यों का पूरी ईमानदारी एवं निष्ठा से निर्वहन करें नोडल अधिकारी - वेद पति मिश्र धार्मिक आस्थाये और भारतीय राजनीति: डॉ विनोद नाथ श्रीलंका में जाइका प्रोजेक्ट का मॉडल बनेगा हिमाचल संपत्ति कर के लिए आधारभूत का सर्वेक्षण कार्य पूर्ण - एकटा काप्टा एक बार फिर मोदी सरकार बन रही है इस बात से राहुल गांधी बहुत परेशान नजर आ रहे हैं : खन्ना स्वीप टीम अर्की ने मंज्याठ क्षेत्र में चलाया मतदाता जागरूकता अभियान
-
-
Total Visitor : 1,66,51,455
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy