Saturday, June 15, 2024
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
-
कारोबार

चमकी बुखार से फीकी हुई लीची की चमक

-
रजनीश शर्मा  | June 22, 2019 01:17 PM

 

हमीरपुर, 

बिहार में चमकी बुखार और लीची को लेकर फैले भ्रम को लेकर हिमाचल में भी लीची की बिक्री प्रभावित हुई है । इससे दुकानदार व बागवान परेशान दिख रहे हैं । लीची की बिक्री में आई मंदी से उन बागवानों की हवाईयाँ उड़ गयी हैं जिन्होंने व्यापक स्तर पर लीची के बाग़ लगाए हैं । फलों की रानी के तौर पर पहचाने जाने वाला रसीला फल 'लीची' विवादों के केंद्र में है। दरअसल, डॉक्‍टरों के साथ बिहार सरकार के कुछ अधिकारियों का कहना है कि बच्चों की मौत के पीछे उनका लीची खाना भी एक कारण है। इसका असर यह हुआ है कि बिहार समेत देश भर में लीची को संदिग्‍ध नजर से देखा जा रहा है। हालात ये हो गए हैं कि लोगों ने लीची खरीदना तक बंद कर दिया है। इस वजह से दुकानदारों को खरीदार नहीं मिल रहे हैं और इस फल के कारोबार पर भी असर पड़ रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक बीते एक हफ्ते में हमीरपुर , काँगड़ा , मंडी , ऊना सहित प्रदेश के अन्य इलाक़ों में लीची की बिक्री में करीब 30 फीसदी तक की गिरावट आई है। माना जाता है कि लीची का सीज़न केवल 20 से 25 दिन का होता है । इसके बाद लीची ख़राब होना शुरू हो जाती है । इस बार लीची की बम्पर फ़सल होने से बागवानों को अच्छा मुनाफ़ा होने की उम्मीद थी लेकिन चमकी बुखार के कारणों में लीची को लेकर फैली अफ़वाह ने बागवानों और फल विक्रेताओं की परेशानी बढ़ा दी है । फलों की दुकानों में लीची तो है , लेकिन ख़रीददार नहीं मिल रहे हैं।

 

लीची नहीं ,कुपोषण ज़िम्मेदार 

 

बाग़वानी विशेषज्ञ यह मानते हैं कि लीची में ऐसा कोई तत्व नहीं होता जिससे चमकी बुखार हो । बिहार में बच्चों के मरने की बड़ी वजह कुपोषण माना जा रहा है । इस बारे में बाग़वानी विभाग के उपनिदेशक डॉक्टर पवन ठाकुर ने बताया कि जिन क्षेत्रों में कोहरा नहीं पड़ता और पानी की सुविधा है , वहाँ लीची की खेती को बढ़ाने के प्रयास जारी रहेंगे। उन्होंने माना कि लीची को लेकर उठे भ्रम को लेकर बागवानों को मंदी के दौर से गुज़रना पड़ रहा है।

-
-
Have something to say? Post your comment
-
और कारोबार खबरें
न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (एक अग्रणी साधारण बीमा कंपनी) और हिमाचल प्रदेश राज्य सहकारी बैंक लिमिटेड (क्षेत्र का एक स्थापित क्षेत्रीय बैंक) ने एक समझौते के अनुसार हस्ताक्षर किए। लॉर्ड्स मार्क बायोटेक ने सोरायसिस के इलाज के लिए लॉन्च किया टाइनेफकॉन https://youtu.be/6KPTCKm_shQ नवरात्रों में फीका रहा पर्यटन कारोबार, 30 फीसदी रही ऑक्यूपेंसी, पर्यटन कारोबारी परेशान उपतहसील निथर के ग्वाल गांव में लोगों ने जानी कांगड़ा बैंक की वितीय डिजिटल सुविधा उत्तराखंड के मोरी में 60 मेगावाट की नैटवाड़ मोरी जलविद्युत परियोजना की प्रथम यूनिट की मैकेनिकल स्पिनिंग की शुरुआत एसजेवीएन ने आरई एवं धर्मल परियोजनाओं के लिए 1,18,000 करोड़ रुपए वित्तपोषण हेतु पीएफसी के साथ एमओयू हस्ताक्षरित रामपुर एचपीएस द्वारा 31 अगस्त को 337.1653 मिलियन यूनिट बिजली उत्पादन का अब तक का सर्वश्रेष्ठ मासिंक कीर्तिमान बैंको की कुल जमा राशि में 9847 करोड़ रुपये की और अग्रिम में रु. 4269 करोड़ की वृद्धि;राजेंद्र कुमार साबू राज्य सहकारी बैंक ने वित वर्ष में जमाधन में की 10.68 प्रतिशत की बढ़ौतरी : देवेंद्र श्याम यूको आरसेटी शिमला देगा मोमबत्ती बनाने का निःशुल्क प्रशिक्षण
-
-
Total Visitor : 1,65,83,898
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy